May 16, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

दीनदयाल बन्दूणी

1 min read

रोज़ा उठा-पोड़ रोज़-रोज़ा उठा-पोड़ मा,दिन इनी ठिलेंणा छन. एक- हैंका दगड़ि, बोलि- चालिक बितेंणा छन.. एक समै छौ, रात-दिन काम-काजे...