April 17, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

युवमंच

1 min read

भूत भविष्य और वर्तमान तुम तीनों कालों के ज्ञाता हो। तुम मृत्युंजय हो, तुम अभयदान वर दाता हो।। तुम जान...

1 min read

बटोई चल कभी है बटोई , मेंरा गौ भी औदु || त्वे दिखोलु भुतैरा मडुलु, त्वे घुमोलु गौ की सारी...

1 min read

हे नीलकण्ठं, हे शितिकण्ठ। हे गंगाधर, हे अत्यन्तकठोर ।। तुम भक्ति मात्र से हो जाते विभोर हे मृत्युंजय, हे व्योमेश।...

1 min read

ए-वक़्त ख़ुद पर इतना ग़ुरूर न कर तू वक़्त ही तो है, वक़्त तू भी वक़्त एक वक़्त पर बदल...

1 min read

बदलते वक्त के साथ स्वास्थ्य क्षेत्र में भी आज कई नए विकल्प सामने आए हैं। इन्हीं में एक है हॉस्पिटल...