July 25, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

Fantastic poem by Vijay Gaur

1 min read

कितना कितना झूठ है मेरे चारों ओरसच है जो भी, झूठ पर टिकाउक्‍ताहट की स्थितियों मेंसबसे बड़ा सहारा हैतोड़ने को...