September 22, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

अगोड़ि-पिछोड़ि

1 min read

अगोड़ि-पिछोड़ि इन्सान कु नाता-इन्सानियत से, अगोड़ि च. हमरु स्वार्थ-हमरु दुखड़ा, सब पिछोड़ि च.. कबि- नि रैंदू एक जगा, यो- चंचल...