Loksaakshya Social

Social menu is not set. You need to create menu and assign it to Social Menu on Menu Settings.

Social menu is not set. You need to create menu and assign it to Social Menu on Menu Settings.

June 15, 2024

शिक्षिका उषा सागर की कविता- कुछ पल ऐसे भी

1 min read

ओ गुजरा हुआ जमाना आज,
मुझे बहुत याद आ रहा है।
बिछड़े हैं जो अपने मुझसे,
ओ दौर याद आ रहा है।।
खुशियों के दिन संग-संग,
हम सब ने बिताए थे।
सुख-दुख और गम की घड़ियां,
मिलजुल कर निभाए थे।।
आज बहारों की राहें,
मेरे दर से जुदा हो गयी हैं।
तुम सबके दूर चले जाने से,
मेरी जिंदगी वीरान हो गई है।।
खुशियां जमाने भर की,
थी भरी हुई मेरे दामन में ।
ओ लूट ली जालिमों ने,
हरियाली भरे सावन में ।।
न भुला पाएंगे हम तुम्हें दोस्तों,
और न भुला पाओगे तुम।
एक-दूसरे का साथ मजबूत था,
हर सुख-दुख में मुझे याद आतीं हो तुम।। (कविता जारी, अगले पैरे में देखिए)

एक-दूसरे के दर्द से हमें सरोकार था,
इक दूजे से हमें अपनापन और प्यार था।
आज सब स्वार्थ और अहंकार से भरे हैं,
अपनापन और भावनात्मकता से परे हैं ।।
आज के सब साथी स्वार्थी बने हैं,
अंहकार को स्वाभिमान कह रहे हैं।
अपनापन तो दूर की बातें हैं,
बस शब्दों के तीर चल रहे हैं।।
मैं हूं सर्वोपरि यही इनका करम है,
लेकिन समझें न नादान कि ए तो भरम है।
किसी का मन व्यथित न हो कभी,
यही तो सबसे बड़ा पुण्य और धरम है।।
है रब से दुआ मेरी ओ साथी फिर मिलें,
सब हंसी-खुशी साथ रहें और दिन यूं कटें।
और फिर एक दिन मिलने का वादा कर
अपने-अपने गंतव्य तक चलें।।
कवयित्री का परिचय
उषा सागर
सहायक अध्यापक
राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय गुनियाल
विकासखंड जयहरीखाल
जिला पौड़ी गढ़वाल, उत्तराखंड।

नोटः सच का साथ देने में हमारा साथी बनिए। यदि आप लोकसाक्ष्य की खबरों को नियमित रूप से पढ़ना चाहते हैं तो नीचे दिए गए आप्शन से हमारे फेसबुक पेज या व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ सकते हैं, बस आपको एक क्लिक करना है। यदि खबर अच्छी लगे तो आप फेसबुक या व्हाट्सएप में शेयर भी कर सकते हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *