Loksaakshya Social

Social menu is not set. You need to create menu and assign it to Social Menu on Menu Settings.

Social menu is not set. You need to create menu and assign it to Social Menu on Menu Settings.

February 22, 2024

डॉ. पुष्पा खंडूरी की कविता- ज़रूरी तो नहीं

1 min read

ख्वाब देखना तो हसरत है इन आंखों की।
पर हर ख्वाब ही मुकम्मल हो जाए ये ज़रूरी तो नहीं॥
बहुत खाई हैं ठोकरे उसने, ज़ुस्तज़ू भी थी उसे पाने की।
पर हर बार धोखा ही हो जाए जरूरी तो नहीं॥
वो बहुत रुचता है मुझे, एतबार भी है, उस पर।
पर वो सिर्फ मेरा ही होके रह जाए ज़रूरी तो नहीं॥
यूं न भागो बंद आँखें करके,हर रोशनी की ओर।
हर जर्रा ही आफ़ताब हो जाए,जरूरी तो नहीं॥
चमक – दमक तो सचमुच कुंदन सी है उसकी।
पर हर चमकती चीज सोना ही हो ज़रूरी तो नहीं॥
जद्दो-जहद तो बहुत की उसने मंजिल को पाने की।
पर हर बार असफल ही होगा ज़रूरी तो नहीं॥ (कविता जारी, अगले पैरे में देखिए)

छोड़ तो दिया घरौंदा उसने, पर पंख अभी भी तैयार नहीं थे फड़फड़ाने को।
पर अब की बार भी ज़मींदोज़ ही होगा यह जरूरी तो नहीं॥
अपने ख़ून को खौलने तो दे ,आवाज बुलंद करके तो देख।
हर बार जोर – जबरदस्ती उसकी ही चलेगी ज़रूरी तो नहीं॥
ख्वाब देखना तो आदत है इन आँखों की,
हर ख्वाब मुक्कमल ही हो जाए ये ज़रूरी तो नहीं॥
कवयित्री की परिचय
डॉ. पुष्पा खंडूरी
प्रोफेसर, डीएवी (पीजी ) कॉलेज
देहरादून, उत्तराखंड।

नोटः सच का साथ देने में हमारा साथी बनिए। यदि आप लोकसाक्ष्य की खबरों को नियमित रूप से पढ़ना चाहते हैं तो नीचे दिए गए आप्शन से हमारे फेसबुक पेज या व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ सकते हैं, बस आपको एक क्लिक करना है। यदि खबर अच्छी लगे तो आप फेसबुक या व्हाट्सएप में शेयर भी कर सकते हो।

+ posts

लोकसाक्ष्य पोर्टल पाठकों के सहयोग से चलाया जा रहा है। इसमें लेख, रचनाएं आमंत्रित हैं। शर्त है कि आपकी भेजी सामग्री पहले किसी सोशल मीडिया में न लगी हो। आप विज्ञापन व अन्य आर्थिक सहयोग भी कर सकते हैं।
भानु बंगवाल
मेल आईडी-bhanubangwal@gmail.com
भानु बंगवाल, देहरादून, उत्तराखंड।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page