Loksaakshya Social

Social menu is not set. You need to create menu and assign it to Social Menu on Menu Settings.

Social menu is not set. You need to create menu and assign it to Social Menu on Menu Settings.

February 23, 2024

शिक्षिका उषा सागर की कविता- एक कोशिश तो बाकी है

1 min read

एक कोशिश तो बाकी है
टूटे हैं पंख अभी तो क्या,
हौसलों की उड़ान बाकी है।
क्षितिज तक उड़ान न सही,
खुला आसमान तो बाकी है।।
बैठे हैं समन्दर किनारे,
लहरों का आना बाकी है।
मोतियों का अम्बार है गहरे पानी में,
डुबकी लगाना बाकी है।। (कविता जारी, अगले पैरे में देखिए)

मुट्ठी न खाली रहे हर बार,
गहरे में उतरना बाकी है।
सीप तो बहुत मिलते रहे,
मोतियों को पाना बाकी है।।
किनारों की बात क्या करें,
भंवर में जाना बाकी है।
मयखाने तो बहुत हैं साकी,
तेरा आना अभी बाकी है।।
होने को है सबेरा,
अंधकार मिटना बाकी है।
चांद छिपने को बैठा है,
सूरज का उगना बाकी है।। (कविता जारी, अगले पैरे में देखिए)

बचपन की यादों में थे मसरूफ,
अल्हड़ जवानी का आना बाकी है।
जवानी भी आकर यों चली गई,
कि अब बुढ़ापे का आना बाकी है।।
थककर चूर हो गए हैं हम,
टूटकर बिखर जाना बाकी है।
हौसले ने हों धूमिल कभी भी,
क्योंकि एक कोशिश तो बाकी है।।
कवयित्री का परिचय
उषा सागर
सहायक अध्यापक
राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय गुनियाल
विकासखंड जयहरीखाल
पौड़ी गढ़वाल उत्तराखंड।

नोटः सच का साथ देने में हमारा साथी बनिए। यदि आप लोकसाक्ष्य की खबरों को नियमित रूप से पढ़ना चाहते हैं तो नीचे दिए गए आप्शन से हमारे फेसबुक पेज या व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ सकते हैं, बस आपको एक क्लिक करना है। यदि खबर अच्छी लगे तो आप फेसबुक या व्हाट्सएप में शेयर भी कर सकते हो।

+ posts

लोकसाक्ष्य पोर्टल पाठकों के सहयोग से चलाया जा रहा है। इसमें लेख, रचनाएं आमंत्रित हैं। शर्त है कि आपकी भेजी सामग्री पहले किसी सोशल मीडिया में न लगी हो। आप विज्ञापन व अन्य आर्थिक सहयोग भी कर सकते हैं।
भानु बंगवाल
मेल आईडी-bhanubangwal@gmail.com
भानु बंगवाल, देहरादून, उत्तराखंड।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page