Loksaakshya Social

Social menu is not set. You need to create menu and assign it to Social Menu on Menu Settings.

Social menu is not set. You need to create menu and assign it to Social Menu on Menu Settings.

February 22, 2024

अयोध्या के नए मंदिर में विराजमान हुए रामलला, पीएम मोदी ने की प्राण प्रतिष्ठा, उत्तराखंड में पूजन और पाठ

1 min read

उत्तर प्रदेश स्थित अयोध्या में नवनिर्मित भव्य राम मंदिर के उद्घाटन और रामलला की प्राण प्रतिष्ठा का कार्यक्रम शुभ मूहुर्त में संपन्न हो गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में आज शुभ मूहुर्त के हिसाब से मंदिर के गर्भगृह में भगवान रामलला की प्राण प्रतिष्ठा हुई। पंडित लक्ष्मीकांत मथुरानाथ दीक्षित और गणेश्वर शास्त्री द्रविड़ ने प्राण प्रतिष्ठा की वैदिक प्रक्रिया संपन्न कराई और रामलला बरसों बाद अपने मूल स्थान पर स्थापित हुए। इसके साथ ही आज सुबह से देशभर के मंदिरों में पूजा पाठ के कार्यक्रम आयोजित किए गए। उत्तराखंड में भी मंदिरों को भव्य रूप से सजाया गया। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

ये रहे मौजूद
अयोध्या के राममंदिर में गर्भगृह में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के मौके पर गर्भगृह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत और उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ भी मौजूद रहे। इसके बाद सामने आई रामलला की प्रतिमा को देख लोग मंत्रमुग्‍ध हो गए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चांदी का छत्र लेकर राम मंदिर में राललला की प्राण प्रतिष्‍ठा कार्यक्रम के लिए पहुंचे। उनके साथ आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत भी मौजूद रहे। इसके बाद प्राण प्रतिष्ठा अनुष्ठान शुरू हुआ। पीएम मोदी राम मंदिर परिसर पहुंचे, तो श्रीराम जन्मभूमि मंदिर परिसर के ऊपर हेलीकॉप्टर से फूलों की वर्षा की गई। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

पीएम मोदी ने पहने ऐसे कपड़े
पीएम मोदी क्रीम रंग की धोती और पटका के साथ सुनहरा कुर्ता पहने हुए हैं। इसके बाद प्रधानमंत्री ने अभिषेक समारोह के लिए ‘संकल्प’ लिया। वहीं, आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत काले रंग जैकेट पहने हुए थे, जो कि चर्चा का विषय बनी हुई है। क्योंकि शुभ काम में काले कपड़े नहीं पहने जाते हैं। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा एक अभूतपूर्व और भावुक क्षणः पीएम मोदी
सेना के हेलीकॉप्टरों ने प्राण प्रतिष्ठा समारोह के बीच अयोध्या में राम मंदिर पर पुष्प वर्षा की। प्रधानमंत्री मोदी ने अयोध्या मंदिर में रामलला की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा पर कहा कि इस दिव्य समारोह का हिस्सा बनना बड़े सौभाग्य की बात है। अयोध्या में रामलला की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा एक अभूतपूर्व और भावुक क्षण है। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

पीएम मोदी का संबोधन
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राम मंदिर के उद्घाटन के बाद कहा है कि सदियों की प्रतीक्षा के बाद आज हमारे राम आ गए। यह पल पवित्रतम है। यह माहौल, यह वातारण, यह ऊर्जा, यह घड़ी प्रभु श्रीराम का हम सब पर आशीर्वाद है। 22 जनवरी 2024 का यह सूर्य एक अद्भुत आभा लेकर आया है। आज की तारीख कैलेंडर पर लिखी डेट नहीं यह एक नए कालचक्र का उद्गम है। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

यूपी के वाराणसी से सांसद और बीजेपी के नेता नरेंद्र मोदी आगे बोले कि जहां राम का काम होता है, वहां हनुमान भी होते हैं। यही वजह है कि मैं हनुमानगढ़ी को भी प्रणाम करता हूं। मैं उनके अलावा और देवताओं और अयोध्यापुरी और सरयू को भी प्रणाम करता हूं। मैं इस वक्त दैवीय अनुभव कर रहा हूं जिनके महान आशीर्वाद से यह काम पूरा हुआ है। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने आगे कहा कि मैं प्रभु राम से क्षमा भी मांगना चाहता हूं…हमारे त्याग और पुरुषार्थ में कुछ तो कमी रह गई, जो हम इतनी सदियों तक यह काम कर नहीं पाए। आज वह कमी पूरी हो गई। मुझे विश्वास है कि प्रभु मुझे अवश्य माफ करेंगे। राम भक्तों का करीब 500 साल का लंबा इंतजार आज खत्म होने जा रहा है। प्रभु श्री राम अब अयोध्या में विराजमान हो गए हैं। पीएम मोदी ने कहा अब हमारे रामलला टेंट में नहीं रहेंगे। अब से वह दीव्य मंदिर में रहेंगे। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

पीएम मोदी ने कहा मैं आभार व्यक्त करूंगा भारत की न्यायपालिका को, जिसने ये फैसला दिया। ये मंदिर भी न्यायबद्ध तरीके से ही बना है। आज गांव गांव में कीर्तन और उत्सव हो रहे हैं. आज पूरा देश आज दीपावली मना रहा है। पीएम मोदी ने कहा कि 1000 साल बाद भी लोग इस पल की बात करेंगे। ये रामकृपा ही है कि हम इस क्षण को जी रहे हैं. ये समय सामान्य समय नहीं है। ये काल के चक्र पर सर्वकालिक स्याही से अंकित हो रही अमिट स्मृति रेखाएं हैं। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

पीएम पैदल चलकर कार्यक्रम स्थल पहुंचे
सुनहरी रंग का कुर्ता, क्रीम रंग की धोती और उत्तरीय पहने प्रधानमंत्री मोदी नवनिर्मित राम मंदिर के मुख्य द्वार से अंदर तक पैदल चलकर कार्यक्रम स्थल पहुंचे और गर्भगृह में प्रवेश किया। प्रधानमंत्री इस दौरान अपने हाथ में लाल रंग के कपड़े में लिपटा हुआ चांदी का छत्र भी लेकर आए। गर्भगृह में मोदी ने पंडितों के मंत्रोच्चारण के बीच अनुष्ठान शुरू किया। उन्होंने प्राण प्रतिष्ठा अनुष्ठान के लिए ‘संकल्प’ लिया। अनुष्ठान में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत भी शामिल हुए। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

रामलला की गर्भगृह में हुई स्थापना
राम मंदिर के गर्भगृह में भगवान रामलला के श्यामल रंग की 51 इंच की प्रतिमा को विराजित किया गया है, जो भगवान राम के पांच वर्षीय बाल स्वरूप की है। इसका वजन 200 किलोग्राम है। पीएम मोदी ने पूरे विधि विधान के साथ प्राण प्रतिष्ठा के सभी अनुष्ठान किए। इसके बाद रामलला गर्भगृह में स्थापित हो गए हैं। 23 जनवरी से आम श्रद्धालु रामलला के दर्शन के लिए जा सकेंगे। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

 

सीएम आवास पर हुआ चौपाइयों का पाठ
उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने आज प्रातः काल मुख्यमंत्री आवास स्थित देवालय में राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा के शुभ अवसर रामचरितमानस की चौपाइयों का पाठ किया। इसके उपरांत उन्होंने आवास परिसर में स्थित गोशाला पहुंचकर गो माता की सेवा भी की। मुख्यमंत्री ने कहा कि आदरणीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कुशल नेतृत्व में राम मंदिर के रुप में सनातन संस्कृति के वैभव की पुनर्स्थापना का साक्षी बनना हम सभी के लिए परम सौभाग्य का क्षण है। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

मुख्यमंत्री ने कहा कि 500 वर्षों के लंबे संघर्ष व अनेक रामभक्तों के बलिदानों के बाद इस भव्य व दिव्य महोत्सव का साक्षी बनकर अत्यंत प्रफुल्लित व हर्षित हूँ। राम जन-जन के हैं, राम हर कण में हैं। इस पावन अवसर पर चहुँदिशा आनंद, उत्साह तथा उल्लास है, संपूर्ण जगत में एक अलग ही तरंग और उमंग है। मुख्यमंत्री ने समस्त प्रदेशवासियों से घरों, सामाजिक स्थानों व धार्मिक स्थलों को साफ़ सूथरा रखने तथा इस पावन अवसर को पर्व की भाँति मनाने का आह्वान किया। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

उन्होंने सभी से भावी पीढ़ी को इस संघर्ष और प्रभु राम के जीवन से परिचित कराने के लिए उन्हें इसके विषय में अवगत कराने की अपील भी की। इस दिव्य अवसर पर उन्होंने प्रभु राम जी से प्रदेशवासियों के मंगल एवं पूरे विश्व में रह रहे सभी सनातनियों के कल्याण की कामना की। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

मंदिरों से निकाली गई शोभायात्रा
इस मौके पर उत्तराखंड के विभिन्न मंदिरों में शोभायात्रा भी निकाली गई। वहीं, देहरादून के आर्यनगर स्थित शिव मंदिर में शोभायात्रा में काफी लोग शामिल हुए। वहीं, अयोध्या में प्रभु श्री रामलला जी की प्राण प्रतिष्ठा के शुभ अवसर पर टपकेश्वर मंदिर, देहरादून में आयोजित पूजा अर्चना कार्यक्रम में सीएम धामी भी शामिल हुए। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

शोभायात्रा का देखें वीडियो

 

ऋषिकेश में अखंड रामायण पाठ
तीर्थ नगरी ऋषिकेश की पौराणिक 1955 से स्थापित श्री रामलीला कमेटी सुभाष बनखंडी में अखंड रामायण पाठ का आयोजन किया गया। रामायण पाठ के समापन अवसर पर क्षेत्रीय विधायक व कैबिनेट मंत्री डॉ प्रेमचंद अग्रवाल ने प्रतिभाग किया और अखंड रामायण पाठ का श्रवण किया। बनखंडी स्थित रामलीला प्रांगण में आयोजित अखंड रामायण पाठ में पहुंचे कैबिनेट मंत्री डॉक्टर प्रेमचंद अग्रवाल ने कहा कि श्री राम अब टाट से अपने भव्य, दिव्य और नव्य महल में विराजित होने जा रहे हैं उन्होंने कहा कि 500 साल के लंबे संघर्ष के बाद श्री राम भक्तों के लिए आज का दिन विशेष उत्साह से भरा है। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

 

डॉ अग्रवाल ने कहा कि आज पूरे देश के साथ विदेश में भी अयोध्या में श्री राम मंदिर के उद्घाटन के अवसर पर कार्यक्रम आयोजित किया जा रहे हैं। इस दौरान डॉक्टर अग्रवाल ने भी अखंड रामायण पाठ कर राम नाम के भजनों को गुनगुनाया। अयोध्या में श्री रामलला की प्राण प्रतिष्ठा होने पर रामलीला प्रांगण से मंगलवार को नगर भर में भव्य शोभायात्रा निकाली गई। इसमें राम दरबार सहित ब्रह्मा, विष्णु व महेश जी की झांकियां प्रमुख रूप से आकर्षण का केंद्र रहीं।इस अवसर पर रामलीला कमेटी के महामंत्री हरीश तिवारी भी उपस्थित थे। उन्होंने सभी राम भक्तों से शोभायात्रा में शामिल होने का आवाहन किया। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष ने किया सुंदर कांड का पाठ
उत्तराखंड भाजपा प्रदेश अध्यक्ष महेन्द्र भट्ट ने आज जोशीमठ के प्रसिद्ध नरसिंह मन्दिर में श्री राम भगवान प्राण प्रतिष्ठा में श्रद्धालुओं के साथ सुन्दर कांड का पाठन किया। अयोध्या से प्राण प्रतिष्ठा अनुष्ठान के लाइव दृश्य को उन्होंने सबके साथ देखा तथा आरती में प्रतिभाग किया।
नोटः सच का साथ देने में हमारा साथी बनिए। यदि आप लोकसाक्ष्य की खबरों को नियमित रूप से पढ़ना चाहते हैं तो नीचे दिए गए आप्शन से हमारे फेसबुक पेज या व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ सकते हैं, बस आपको एक क्लिक करना है। यदि खबर अच्छी लगे तो आप फेसबुक या व्हाट्सएप में शेयर भी कर सकते हो।

+ posts

लोकसाक्ष्य पोर्टल पाठकों के सहयोग से चलाया जा रहा है। इसमें लेख, रचनाएं आमंत्रित हैं। शर्त है कि आपकी भेजी सामग्री पहले किसी सोशल मीडिया में न लगी हो। आप विज्ञापन व अन्य आर्थिक सहयोग भी कर सकते हैं।
भानु बंगवाल
मेल आईडी-bhanubangwal@gmail.com
भानु बंगवाल, देहरादून, उत्तराखंड।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page