Loksaakshya Social

Social menu is not set. You need to create menu and assign it to Social Menu on Menu Settings.

Social menu is not set. You need to create menu and assign it to Social Menu on Menu Settings.

February 22, 2024

उत्तराखंड में बारिश का कहर, छलनी हो रहा उत्तराखंड का सीना, जगह जगह तबाही का मंजर

1 min read

उत्तराखंड में पहाड़ से लेकर मैदान तक भारी बारिश का कहर जारी है। जगह जगह सड़क ध्वस्त हो रही हैं और उत्तराखंड का सीना छलनी हो रहा है। तबाही का मंजर ऐसा है कि कई लोगों की आपदा में जान जा रही है। पर्वतीय इलाकों में भूस्खलन से सड़कें अवरुद्ध हो रही हैं। मैदानी इलाकों में सड़कों पर जल भराव हो रहा है। नदी और बरसाती नालों का पानी घरों में घुस रहा है। फिलहाल आगामी एक सप्ताह तक भी राज्य में बारिश से कोई राहत मिलने की उम्मीद नहीं है। यही नहीं 15 जून से लेकर 13 अगस्त तक प्रदेश में बारिश की वजह से 60 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि 37 लोग घायल हुए हैं। वहीं, 17 लोग लापता हैं। इसके अलावा 62 बड़े मवेशी और 462 छोटे मवेशी मर चुके हैं। यही नहीं सड़क दुर्घटना में 50 लोगों की मौत हो चुकी है। 158 लोग घायल हो चुके हैं। तीन लोग लापता हैं। वहीं, रविवार की रात से सोमवार तक हर तरफ तबाही का मंजर है। ऐसे में आपदा से मरने वालों की संख्या में इजाफा हो सकता है। ऐसे में आज देहरादून में कक्षा एक से लेकर 12वीं तक के स्कूल बंद हैं। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

नाले में बही कार, महिला व बच्चे लापता
ऋषिकेश में पशुलोक बैराज से लक्ष्मणझूला जाने वाले मार्ग पर वन विभाग के बंगले से आगे नाले में एक कार बह गई। कार में दंपति तथा उनके दो बच्चे सवार थे। कार से निकलने के बाद व्यक्ति ने पुलिस को इसकी सूचना दी, जिसके बाद पुलिस व एसडीआरएफ देर रात से रेस्क्यू में जुटी है। फिलहाल महिला तथा दो बच्चों का अभी तक पता नहीं चल पाया है। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

ऋषिकेश में गंगा का जलस्तर चेतावनी रेखा से ऊपर
ऋषिकेश में भारी वर्षा के चलते गंगा के जलस्तर में भी वृद्धि हुई है। ऋषिकेश में गंगा का जलस्तर चेतावनी रेखा से 65 सेंटीमीटर ऊपर पहुंच चुका है। केंद्रीय जल आयोग के मुताबिक देर रात से ही गंगा के जलस्तर में वृद्धि होने लगी थी। तड़के गंगा का जलस्तर चेतावनी रेखा 339.50 को पार कर गया था। जबकि अब गंगा का जलस्तर 340.15 पर पहुंच चुका है, जो खतरे के निशान से 35 सेंटीमीटर नीचे है। गंगा का जलस्तर बढ़ने से ऋषिकेश, मनिकिरेती, तथा स्वर्ग आश्रम क्षेत्र के पक्के घाट जलमग्न हो गए हैं। त्रिवेणी घाट का आरती स्थल पूरी तरह पानी में डूब गया है। गंगा के जलस्तर में अभी वृद्धि हो रही है। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

लिनचोली में गदेरा आने से एक की मौत
रुद्रप्रयाग में केदारनाथ पैदल मार्ग पर बीते रात को लिनचोली में गदेरा उफान पर आने से टेंट में रह रहे एक नेपाली मूल के व्यक्ति की मौत हो गई, जबकि एक लापता चल रहा है। जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी नंदन सिंह रजवार ने बताया कि लिनचोली क्षेत्र अंतर्गत दिनांक रात्रि अतिवृष्टि होने के कारण खाली कैंप से पहाड़ी की तरफ गधेरे में नेपाली बसावट में मलवा आने से कपिल बहादुर पुत्र कालू बहादुर उम्र 27 वर्ष सुखद कैलाली आंचल शेती नेपाल की मलबे में दबने से मौत हो गई। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

रातभर हुई भारी बारिश से देहरादून के मालदेवता क्षेत्र में आपदा
देहरादून में रातभर हुई भारी बारिश से देहरादून के मालदेवता क्षेत्र में आपदा का माहौल बन गया है। बादल व नदी ने रौद्र रूप ले किया है। कई स्थानों पर खेत व पुस्ते ढह गए। पीपीसीएल पुल के पास स्थित एक निजी संस्थान का भवन भरभरा कर धराशायी हुआ। सड़कों पर नदी बहने लगी। क्षेत्रवासियों ने घर खाली कर दिए। कई गांवों का संपर्क कट गया है। इसे लेकर सोशल मीडिया में वीडियो भी वायरल हो रहे हैं। हालांकि, इनकी सत्यता पर संदेह होने के कारण हम वीडियो नहीं दिखा रहे हैं। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

ऋषिकेश में पुलिस ने दो शव किए बरामद
ऋषिकेश। ऋषिकेश नगर व ग्रामीण क्षेत्र में बीती रात से लगातार हो रही वर्षा के बाद पुलिस ने अमित ग्राम और मीरा नगर क्षेत्र से दो पुरुष के शव बरामद किए हैं, जिनकी पहचान नहीं हो पाई है। पुलिस के मुताबिक, अमित ग्राम शिव मंदिर के पास रात करीब 1:30 बजे एक अज्ञात व्यक्ति के पानी में बह जाने की सूचना थी। सोमवार की सुबह गली नंबर तीन अमित ग्राम के पास इस व्यक्ति का शव बरामद किया गया है, जिसकी पहचान नहीं हो पाई है। दूसरा शव आईडीपील के मीरा नगर स्थित नाले से बरामद किया गया है। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

चमोली में कई मकान मलबे में दबे
उत्तराखंड के चमोली जनपद में रविवार रात से शुरू हुई भारी बारिश आज भी जारी है। जनपद के थराली, नंदानगर और पीपलकोटी क्षेत्र में नदियों के साथ ही गाड गदेरे उफान पर बह रहे हैं। सबसे अधिक नुकसान थराली में हुआ है। यहां थराली गांव और केरा गांव में कई मकान व गौशालाएं मलबे में दब गई हैं।
दो बाइक सवार बहे
नैनीताल में रविवार देर रात बैलगढ़ बरसाती नाले मे बाइक पर सवार दो लोग बाइक समेत बह गए। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस, फायर कर्मी और स्थानीय लोगों की मदद से दोनों को सकुशल रेस्क्यू कर लिया गया। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

कई जगह हाईवे बंद
बारिश के कारण गंगोत्री-यमुनोत्री और बदरीनाथ हाइवे भी बंद है। यमुनोत्री धाम सहित यमुना घाटी में मूसलाधार बारिश से यमुना नदी सहित सहायक नदी-नाले उफान पर हैं। यमुनोत्री हाईवे जगह-जगह मलबा व बोल्डर आने से बंद है। लगातार बारिश के चलते हाईवे खोलने के प्रयास शुरू नहीं हो पा रहा है। उधर, बारिश के कारण ऋषिकेश गंगोत्री हाईवे भद्रकाली, प्लास्डा, चाचा-भतीजा व बगड़धार के पास अवरुद्ध है। यमुनोत्री राष्ट्रीय राजामार्ग धरासू बैंड में भी बंद की सूचना है। बदरीनाथ हाईवे कई जगहों पर मलबा और बोल्डर आने से बंद है। गडोरा और जोशीमठ के समीप मारवाड़ी में हाईवे अवरुद्ध है। बदरीनाथ धाम और हेमकुंड साहिब की तीर्थयात्रा पर जा रहे तीर्थयात्री भी जगह-जगह फंसे हैं। छिनका और नंदप्रयाग में भी हाईवे मलबा आने से बंद हो गया है। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

कोटद्वार में 15 मकान बहे
कोटद्वार में खोह नदी के उफान पर आने से गाड़ीघाट, झूला पुल बस्ती और काशीरामपुर तल्ला में करीब 15 मकान बह गए। वहीं, कोटद्वार में स्टेट हाइवे 9 में दुगड्डा ब्लॉक मुख्यालय के पास भूस्खलन से सड़क बंद हो गई है। कई जगह वाहनों का संचालन भी ठप है। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

देहरादून में कॉलेज का भवन ध्वस्त
देहरादून के मालदेवता में कॉलेज का भवन भारी बारिश के कारण पूरी तरह से ध्वस्त हो गया।
ऋषिकेश। यमकेश्वर प्रखंड के कई क्षेत्र मूसलधार वर्षा के कारण प्रभावित हैं। स्थानीय नदियां उफान पर आ गई हैं। मोहन चट्टी में एक रिसार्ट मलबे से दब गया। एक परिवार के यहां दबने की आशंका है। पुलिस और एसडीआरएफ की टीम वहां तक नहीं पहुंच पा रही है। चारों तरफ से सड़के अवरुद्ध है। डीएम पौड़ी की ओर से जेसीबी भेजी गई है। एसएसपी श्वेता चौबे ने कहा कि स्थानीय लोग की मदद से जानकारी जुटाई जा रही है। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

परिवार के मलबे में दबने की सूचना
ऋषिकेश मोहन चट्टी के पास जोगियाना गांव (नाइट इन पैराडाइज रिजॉर्ट) में लैंडस्लाइड होने से एक परिवार दब गया है । बचाव दल मौके पर पहुंच गए हैं। प्रशासनिक सूत्रों के मुताबिक घट्टुघाट मोहनचट्टी के मध्य हैंवल नदी उफान पर होने से सड़क बाधित हो गयी। उधर, अलकनंदा एवं मंदाकिनी नदी (रूद्रप्रयाग), अलकनंदा नदी (श्रीनगर), गंगा नदी (देवप्रयाग) का जल स्तर खतरे के स्तर से ऊपर प्रवाहित हो रही हैं। कई जगह घाटों को नुकसान पहुंचा है। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

मौसम का हाल
सोमवार 14 अगस्त की सुबह से ही देहरादून सहित राज्यभर में बारिश का सिलसिला जारी है। राज्य मौसम विज्ञान केंद्र ने आज के लिए टिहरी, देहरादून और पौड़ी जिले में कहीं कहीं भारी से बहुत भारी बारिश का रेड अलर्ट जारी किया है। चंपावत, नैनीताल, उधमसिंह नगर और हरिद्वार जिले में ओरेंज अलर्ट है। वहीं अन्य जिलों के लिए येलो अलर्ट जारी किया गया है। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

मौसम का पूर्वानुमान
राज्य मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक, कल 15 अगस्त को टिहरी, देहरादून और पौड़ी गढ़वाल के लिए कहीं कहीं भारी से बहुत भारी बारिश का ओरेंज अलर्ट जारी किया गया है। अन्य जिलों में येलो अलर्ट है। 16 से 18 अगस्त तक प्रदेशभर में बारिश का येलो अलर्ट रहेगा। आकाशी बिजली चमकने, तेज बौछार के कई दौर, पहाड़ों में भूस्खलन, नदी और नालों में जल प्रवाह बढ़ने की संभावना रहेगी। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

तापमान की स्थिति
सोमवार 14 अगस्त को देहरादून का तापमान गिर गया। पूर्वाह्न करीब साढ़े 11 बजे तापमान 24 डिग्री सेल्सियस के करीब था। इसके न्यूनतम 23 डिग्री तक रहने की संभावना है। 15 अगस्त को अधिकतम तापमान बढ़कर 28 डिग्री हो जाएगा। इसके बाद 16 अगस्त से लेकर 20 अगस्त तक अधिकतम तापमान 30 से 32 डिग्री के बीच रहेगा। वहीं, न्यूनतम तापमान 24 से 26 डिग्री के बीच रहने की संभावना है। 21 अगस्त को अधिकतम तापमान 29 डिग्री और न्यूनतम तापमान 24 डिग्री रह सकता है। 21 अगस्त तक देहरादून में हर दिन बारिश के कई दौर चलने की संभावना है।
नोटः सच का साथ देने में हमारा साथी बनिए। यदि आप लोकसाक्ष्य की खबरों को नियमित रूप से पढ़ना चाहते हैं तो नीचे दिए गए आप्शन से हमारे फेसबुक पेज या व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ सकते हैं, बस आपको एक क्लिक करना है। यदि खबर अच्छी लगे तो आप फेसबुक या व्हाट्सएप में शेयर भी कर सकते हो।

+ posts

लोकसाक्ष्य पोर्टल पाठकों के सहयोग से चलाया जा रहा है। इसमें लेख, रचनाएं आमंत्रित हैं। शर्त है कि आपकी भेजी सामग्री पहले किसी सोशल मीडिया में न लगी हो। आप विज्ञापन व अन्य आर्थिक सहयोग भी कर सकते हैं।
भानु बंगवाल
मेल आईडी-bhanubangwal@gmail.com
भानु बंगवाल, देहरादून, उत्तराखंड।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page