Loksaakshya Social

Social menu is not set. You need to create menu and assign it to Social Menu on Menu Settings.

Social menu is not set. You need to create menu and assign it to Social Menu on Menu Settings.

December 1, 2022

हाईवे निर्माण में समुचित मुआवजा वितरण की मांग को लेकर सीपीएम का डीएम कार्यालय के समक्ष प्रदर्शन

1 min read

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने आज देहरादून पांवटा बल्लूपुर हाईवे में मुआवजा वितरण में गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए जिला मुख्यालय पर जोरदार प्रदर्शन किया। इस मौके पर जिलाधिकारी से मामले में हस्तक्षेप करने और किसानों को समुचित मुआवजा दिलाने की मांग की गई। पार्टी की मांग पर जिलाधिकारी ने अतिरिक्त जिलाधिकारी (प्रशासन ) की अध्यक्षता में बिशेष भूमि आधिपत्य अधिकारी, उप जिलाधिकारी विकास नगर एवं पार्टी प्रतिनिधियों की एक संयुक्त बैठक एक सप्ताह में आयोजित करने के निर्देश दिए। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

प्रदर्शनकारियों का कहना था कि पांवटा बल्लपुर राष्ट्रीय राजमार्ग 72 किलोमीटर 104से 149 के अन्तर्गत होने वाली भूमि के अधिग्रहण के सन्दर्भ में वर्णित गजट नोटिफैक्शन के अनुरूप करने की मांग करती है। इसमें निम्न काश्तकारों के नाम भी शामिल थे। इसके विपरीत सूची में वर्णित अनेक काश्तकारों का मुआवजा भुगतान किया जा चुका है, जबकि गरीब, अनुसूचित जाति एवं जनजाति के लोगों को मुआवजे के लिए पिछले काफी समय से तहसील विकासनगर से लेकर जिला भूमि अर्जन अधिकारी के कार्यालय के चक्कर कटवाये जा रहे हैं। परिणामस्वरूप वे तथा उनका परिवार काफी तनाव की स्थिति से गुजर रहा है। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

 

प्रदर्शनकारियों ने जिलाधिकारी को उन नामों की सूची भी सौंपी, जो मुआवजे से वंचित रह गए। साथ ही बड़े भूमाफिया और विकासनगर तहसील के अधिकारियों पर मिलीभगत का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की। प्रदर्शन करने वालों में पार्टी राज्यसचिव राजेंद्र नेगी, सचिव मंडल के सदस्य सुरेंद्र सिंह सजवाण , इन्दु नौडियाल, जिलासचिव राजेंद्र पुरोहित, महानगर सचिव अनन्त आकाश, पार्टी राज्य कमेटी सदस्य कमरूद्दीन, नितिन मलेठा, किशन गुनियाल, दिनेश नौटियाल, एसएस नेगी, शिशुपाल नेगी, ब्रह्मानन्द कोठारी, भगवन्त पयाल, रविन्द्र नौडियाल, अंजलि सेमवाल, कुसुम नौडियाल, बिन्दा मिश्रा, इस्लाम, गुमान सिंह, कुन्दनसिंह, बिजेंद्र , सोरण, शाजिद, फैजान, चन्द्र पाल, छत्र पाल, रेशमा, सलीम, अकरम, फुरकान, आयाज आदि बड़ी संख्या में प्रभावित लोग शामिल थे।

Author

Leave a Reply

Your email address will not be published.