Loksaakshya Social

Social menu is not set. You need to create menu and assign it to Social Menu on Menu Settings.

Social menu is not set. You need to create menu and assign it to Social Menu on Menu Settings.

December 1, 2022

स्वास्थ्य क्षेत्र में विशिष्ट योगदान के लिए महात्मा पुरस्कार से नवाजे गए एम्स ऋषिकेश के डॉक्टर अंशुमान दरबारी

1 min read

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, एम्स ऋषिकेश के कार्डियोथोरेसिक एवं वैस्कुलर सर्जरी (सीटीवीएस) विभागाध्यक्ष डॉ. अंशुमान दरबारी को उनके विशिष्ट कार्यों के लिए दिल्ली में महात्मा पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। आदित्य बिड़ला ग्रुप की ओर से समर्थित यह पुरस्कार सामाजिक क्षेत्र में विशिष्ट कार्य करने वाले प्रतिभाशाली लोगों को दिया जाता है। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

वर्ष 2022 के लिए महात्मा पुरस्कार के लिए नामों का चयन करने वाले बोर्ड सदस्यों और पुरस्कार ज्यूरी ने इस बार यह पुरस्कार एम्स ऋषिकेश के सीटीवीएस विभागाध्यक्ष तथा वरिष्ठ सर्जन डॉ. अंशुमान दरबारी को दिया है। डॉ. दरबारी, एम्स ऋषिकेश में पिछले एक दशक से भी अधिक समय से अपनी सेवाएं दे रहे हैं। बीते रोज दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम के तहत डॉ. दरबारी ने यह पुरस्कार हेल्थकेयर एक्सीलेंस में प्रभावशाली योगदान के लिए ग्रहण किया। एम्स ऋषिकेश में हृदय और फेफड़े सर्जरी केंद्र को विकसित करने के साथ ही केंद्र तथा राज्य की जन कल्याण योजनाओं द्वारा जरूरतमंद मरीज़ों को हार्ट और फेफड़े की सर्जरी सुविधाओं को उपलब्ध कराने के कारण डॉ. दरबारी को यह पुरस्कार दिया गया है। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार द्वारा स्थापित प्रधानमंत्री स्वास्थ्य योजना के अंतर्गत विकसित 6 नए एम्स में ऋषिकेश एम्स पहला एम्स है, जो यह सुविधा उपलब्ध करा रहा है। डॉ. दरबारी को इस पुरस्कार से सम्मानित किए जाने पर संस्थान की कार्यकारी निदेशक प्रोफेसर मीनू सिंह ने उन्हें बधाई दी और कहा कि इस पुरस्कार से सम्मानित होने पर डॉक्टर दरबारी ने न केवल सीटीवीएस विभाग अपितु एम्स ऋषिकेश की भी गरिमा बढ़ाई है। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

महात्मा पुरस्कार महात्मा गांधी के निस्वार्थ सेवा भावना से प्रेरित होकर परोपकारी और सामाजिक उद्यमी कंपनी लाइव वीक वॉशिंग्टन, अमित सचदेवा और आदित्य बिरला ग्रुप द्वारा स्थापित किया गया है। महात्मा पुरस्कार सामाजिक कार्यों, सामाजिक उत्तरदायित्व और व्यापारिक स्थिरता में बेहतरीन मानवीय प्रयासों के लिए कॉर्पाेरेट ग्रुप्स व विशिष्ट व्यक्तियों को दिया जाता है। 2017 में अपनी स्थापना के बाद से, महात्मा पुरस्कार द्वारा अभी तक विशिष्ट कार्य करने वाले 150 से अधिक प्रतिभाशाली लोगों और संगठनों को सम्मानित किया जा चुका है। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

 

कांफ्रेंस में प्राचीन सनातन पद्यतियों का दिया संदेश
अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश के तत्वावधान में इंटिग्रेटिव बैलेंस साइंस एंड प्रेक्टिसिस विषय पर कांफ्रेंस का आयोजन किया गया। इसमें भारतीय प्राचीन सनातन पद्घतियों का संदेश दिया गया। कांफ्रेंस में तमाम सनातन पद्घतियों को अपनाने से लोगों में होने वाली बीमारियों पर सद्भप्रभावों पर चर्चा की गई। जिसमें बताया गया कि खान-पान, रहन सहन आदि प्राचीन पद्यतियों का पालन करने से तमाम तरह की बीमारियों पर काफी हद तक अंकुश लगाया जा सकता है। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

सीएम धामी ने दिया ये संदेश
इस अवसर पर अपने संदेश में सूबे के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने जीवन की हर अवस्था खासकर विद्यार्थी जीवन में एक स्वस्थ एवं नियंत्रित जीवन पद्घति जरुरी है। उन्होंने जोर दिया कि चिकित्सा क्षेत्र में कार्य करने वाले तमाम लोगों व विद्यार्थियों के लिए यह और अधिक महत्वपूर्ण है। सीएम पुष्कर सिंह धामी ने कहा ​कि चिकित्सा क्षेत्र से जुड़े लोग प्राचीन सनातन पद्घतियों को इस विषय की जानकारियों अपने रोगियों को भी साझा कर सकते हैं। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

सीएम ने कहा कि यौगिक जीवन पद्घति एक संपूर्ण एवं सर्वोच्च जीवन पद्घति है। उन्होंने बताया कि मुझे यह जानकर प्रसन्नता हो रही है ​कि ऋषिकेश एम्स ने इस महत्वपूर्ण विषय पर शैक्षणिक समारोह का आयोजन किया गया। उन्होंने बताया कि जीवन में अनुशासित दिनचर्या, आहार, विचार, आचार व्यवहार आवश्यक है, इन सब बिंदुओं को योग पद्घति में विस्तृत वर्णन मिलता है। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

कांफ्रेंस में योग, प्राणायाम, आहार आदि पर चर्चा
एम्स की ओर से आयोजित कांफ्रेंस में संस्थान के चिकित्सकों, फैकल्टी सदस्यों, रेजिडेंट्स व एमबीबीएस विद्यार्थियों ने बढ़चढ़कर प्रतिभाग किया। इसमें उन्हें योग, प्रणायाम, ध्यान, वेदांत, सात्विक आहार, दिनचर्या, तनाव को कम करने के उपाय आदि विषयों पर चर्चा की गई। उन्हें सनातन पद्घतियों से लोगों के स्वास्थ्य पर पड़ने वाले अच्छे व बीमारियों पर वैज्ञानिक रूप से देखे गए प्रभावों व बदलावों के बारे में जागरूक किया गया। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

बताया गया कि प्राचीन समय में लोग अपने सही खानपान, रहन सहन, सुव्यवस्थित दिनचर्या व योग, प्राणायाम आदि से बीमारियों की जद में नहीं आते थे, मगर वर्तमान में जंक फूड, गलत खानपान, अनियमित दिनचर्या, ऑयली व प्रोसेस फूड के अत्यधिक व नियमित सेवन से तमाम तरह की बीमारियों का खतरे बढ़ गए हैं। प्राचीन खानपान, दिनचर्या की अनदेखी लाइफ स्टाइल डिजिज हाईपरटेंशन, हाईब्लडप्रेशर, कोलेस्ट्रॉल का बढ़ना, मधुमेह, कैंसर व हार्ट अटैक आदि बीमारियों के खतरे बढ़ गए हैं। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

 

इस अवसर पर श्रीरामकृष्ण मिशन अस्पताल के मेडिकल सुपरिटेंडेंट डा. स्वामी दयाधीपानंदा महाराज ने सभी प्रतिभागियों को लाइव योगा,प्राणायाम व मेडिटेशन का अभ्यास कराया और तमाम ध्यान, योग पद्घतियों से शरीर पर पड़ने वाले अच्छे प्रभावों के बारे में भी विस्तृत जानकारी दी। इस दौरान एम्स की कार्यकारी निदेशक प्रोफेसर डॉ. मीनू सिंह की अगुवाई में संस्थान के करीब तीन सौ चिकित्सकों व छात्र छात्राओं ने भी योगाभ्यास व ध्यान किया। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

साइंटिफिक सत्र में मुख्य वक्ता यूएस में इंटरवेंशन कॉर्डियोलॉजिस्ट डा. सुशील शर्मा ने शोध आधारित इंटिग्रेटिव वेलनैस पर व्याख्यान दिया। उन्होंने लोगों को बताया कि प्राचीन दिनचर्या का हमारी बीमारियों को ठीक करने में क्या वैज्ञानिक प्रभाव है इस पर गहनता से विस्तृत चर्चा की। कैसे खानपान होना चाहिए, कितनी कैलोरी लेनी चाहिए आदि बिंदुओं पर विस्तारपूर्वक जानकारी दी। संस्थान की डीन रिसर्च व सीएफएम विभागाध्यक्ष प्रोफेसर वर्तिका सक्सैना ने स्वस्थ जीवन जीने के लिए हमारी दिनचर्या कैसी होनी चाहिए इसके बाबत बताया, जबकि डा. गौरी मित्तल ने स्ट्रेस मैनेजमेंट पर व्याख्यान दिया और लोगों से तनाव को दूर रखने के उपाय सुझाए। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

इस अवसर पर आयोजन समिति के अध्यक्ष डा. वरुण कुमार, आयोजन सचिव डा. विनोद,डीन प्रो.जया चतुर्वेदी, एमएस प्रो. संजीव कुमार मित्तल, प्रो.प्रशांत पाटिल, प्रो.पुनीत धर, प्रो. नीलोत्पल चौधरी, डा. बलरामजी ओमर, डा.वंदना धींगरा, डा.शाजिया, डा.संकेत, डा.अजय आदि मौजूद थे।

Author

Leave a Reply

Your email address will not be published.