Loksaakshya Social

Social menu is not set. You need to create menu and assign it to Social Menu on Menu Settings.

Social menu is not set. You need to create menu and assign it to Social Menu on Menu Settings.

September 30, 2022

युवा कवयित्री अंजली चंद की कविता-बात ना करने की वजह पूछी

1 min read

बात ना करने की वजह पूछी
तो पता चला अब उसे आदत नहीं रही,
हाँ अजीब सी एक आदत बन गयी
कि याद करने की अब आदत नहीं रही,
कहने को अब वो सुबह के उगते सुरज की किरण
और ढलते शाम की याद बन गया,
दर्द में छिपे आँसू और मुस्कुराहट में छिपे दर्द का
वो एक गहरा ज़ज्बात बन गया,
इस मतलबी सी दुनियाँ में
वो एक बेमतलबी सा किरदार निभा गया,
ना जाने दिल को तन्हा छोड़ गया
या पूरा का पूरा संवार गया,
वो मेरी आदतों में तो शामिल हो गया मगर
मैं उसकी आदतों में शामिल नहीं,
दुनियाँ को चुपके चुपके कहते सुना है,
मैं उसके काबिल थी ही नहीं,
बदलते से मौसम और ठहरा सा कोई
पहर का वो एक ख्याल बन गया,
हाँ आदतें हैं कुछ जो नहीं बदली,
वो झल्लापन और सोते वक़्त का अंधेरापन,
आदतें कई पुरानी आज भी भी बनाए रखे हैं,
बस उन आदतों के अब हम शामिल नहीं,
बात ना करने की वजह पूछी
तो पता चला उसे अब आदत नहीं रही,

कवयित्री का परिचय
नाम – अंजली चन्द
निवासी – बिरिया मझौला, खटीमा, जिला उधम सिंह नगर, उत्तराखंड।
लेखिका gov job की तैयारी कर रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.