Loksaakshya Social

Social menu is not set. You need to create menu and assign it to Social Menu on Menu Settings.

Social menu is not set. You need to create menu and assign it to Social Menu on Menu Settings.

October 4, 2022

आजादी के अमृत उत्सव के साथ होगी दूध मक्खन की अनूठी होली, धूमधाम से मनाया जाएगा पारंपरिक बटर फेस्टिवल

1 min read

कोरोना संकट के दो साल बाद इस वर्ष अगस्त महीने में उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में रैथल के ग्रामीण दयारा बुग्याल में पारंपरिक व ऐतिहासिक बटर फेस्टिवल यानि अढूंडी उत्सव का आयोजन करेंगे। 17 अगस्त को आयोजित होने वाले इस पारंपरिक उत्सव में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी व पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज बतौर मुख्यातिथि शिरकत करेंगे। इस बार बटर फेस्टिवल में आजादी की 75वीं वर्षगांठ के मौके पर महोत्सव का आयोजन कर आजादी के जश्न पर दूध, मट्ठा व मक्खन की होली के साथ मनाया जाएगा। साथ ही समुद्रतल से 11 हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित दयारा बुग्याल में 15 अगस्त को इस बार तिरंगा फहराया जाएगा। इसकी जानकारी आयोजन समिति के पदाधिकारियों ने पत्रकार वार्ता में दी। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

उत्तरकाशी जिले में समुद्रतल से 11 हजार फीट की उंचाई पर 28 वर्ग किमी क्षेत्र में फैले दयारा बुग्याल में रैथल के ग्रामीणों द्वारा सदियों से भाद्रप्रद महीने की संक्रांति को दूध, मक्खन, मट्ठा की होली का आयोजन करते हैं। प्रकृति का आभार जताने के लिए आयोजित किए जाने वाले इस दुनिया के अनोखे उत्सव को रैथल गांव की दयारा पर्यटन उत्सव समिति व ग्राम पंचायत बीते कई वर्षों से बड़े पैमाने पर दयारा बुग्याल में आयोजित कर रही है, जिससे देश विदेश के पर्यटक इस अनूठे उत्सव का हिस्सा बन सके। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

दयारा पर्यटन उत्सव समिति ने इस वर्ष 17 अगस्त को पारंपरिक रूप से दयारा बुग्याल में बटर फेस्टिवल के आयोजन का भव्य रूप से आयोजन कर रही है। दो वर्षों से कोरेाना संकट के चलते बटर फेस्टिवल का आयोजन ग्रामीणों द्वारा अपने स्तर पर ही परंपराओं का निर्वहन करते हुए बेहद सूक्ष्म स्तर पर किया था। इस वर्ष होने वाले आयोजन में दयारा बुग्याल में ग्रामीण देश- विदेश से आने वाले मेहमानों के साथ 17 अगस्त को दूध, मक्खन, मट्ठा की होली खेलेंगे। आयोजन में गंगोत्री विधायक सुरेश चौहान के नेतृत्व में दयारा पर्यटन उत्सव समिति के पदाधिकारियों ने देहरादून में मुख्यमंत्री व पर्यटन मंत्री से मुलाकात कर बटर फेस्टिवल में आमंत्रित किया। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

अढूंडी उत्सव यानि दूध मक्खन मट्ठा की अनोखी होली
रैथल के ग्रामीण गर्मियों की दस्तक के साथ ही अपने मवेशियों के साथ दयारा बुग्याल समेत गोई चिलापड़ा में बनी अपनी छानियों में ग्रीष्मकालीन प्रवास के लिए पहुंच जाते हैं। उंचे बुग्यालों में उगने वाली औषधीय गुणों से भरपूर घास व अनुकूल वातावरण का असर दुधारू पशुओं के दुग्ध उत्पादन पर भी पढ़ता है। ऐसे में उंचाई वाले इलाकों में सितंबर महीने से होने वाली सर्दियों की दस्तक से पहले ही ग्रामीण वापिस लौटने से पहले अपनी व अपने मवेशियों की रक्षा के लिए प्रकृति का आभार जताने के लिए इस अनूठे पर्व का आयोजन करते हैं। स्थानीय स्तर पर अढूंडी पर्व के नाम से जाना जाने वाले इस बटर फेस्टिवल में समुद्रतल से 11 हजार फीट की उंचाई पर ताजे मक्खन व छाछ से होली खेली जाती है। (खबर जारी, अगले पैरे में देखिए)

पत्रकार वार्ता के दौरान दयारा पर्यटन उत्सव समिति रैथल, उत्तरकाशी के अध्यक्ष मनोज राणा, सचिव सुरेश प्रसाद रतूड़ी के साथ ही रैथल की प्रधान सुशीला देवी, पंच मालगुजार पंचगाई रैथल गजेंद्र सिंह राणा, समिति के कोषाध्यक्ष राजवीर सिंह रावत, उपाध्यक्ष संदीप राणा के साथ ही रामचंद्र सिंह पंवार, सोबत सिंह राणा, महेंद्र सिंह राणा, मनवीर रावत, मनवीर पंवार आदि मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.