Loksaakshya Social

Social menu is not set. You need to create menu and assign it to Social Menu on Menu Settings.

Social menu is not set. You need to create menu and assign it to Social Menu on Menu Settings.

October 3, 2022

नफरत को बढ़ावा देने वाले कंटेंट पर फेसबुक की कार्रवाई, एक माह में पौने दो करोड़ पोस्ट को हटाया

नफरत को बढ़ावा देने वाली पोस्ट को लेकर फेसबुक में बड़ी कार्रवाई की है। फेसबुक ने भारत में 1.75 करोड़ से ज्यादा कंटेंट पर मई महीने में कार्रवाई की है।

नफरत को बढ़ावा देने वाली पोस्ट को लेकर फेसबुक में बड़ी कार्रवाई की है। फेसबुक ने भारत में 1.75 करोड़ से ज्यादा कंटेंट पर मई महीने में कार्रवाई की है। बढ़ती नफरती हेट स्पीच की घटनाओं के बीच उसने ये कदम उठाया है। भारत में पिछले कुछ महीनों में कई जगहों पर सांप्रदायिक तनाव और हिंसक घटनाओं के बीच सोशल मीडिया पर हेट स्पीच और अन्य तरह की भड़काऊ सामग्री में बढ़ोतरी देखने को मिली है। इसको लेकर सोशल मीडिया मंच भी सक्रिय हो गए हैं। नफरत और भड़काऊ कंटेंट को हटाने में जुटे हैं। अकेले फेसबुक ने मई के महीने में बड़े पैमाने पर कंटेंट नियमों के उल्लंघन पर करोड़ों पोस्ट को अपने प्लेटफार्म से हटाया है।
फेसबुक ने अपनी हालिया मासिक रिपोर्ट में बताया है कि मई माह के दौरान भारत में 13 उल्लंघन श्रेणियों के तहत उसने करीब 1.75 करोड़ कंटेंट के खिलाफ कार्रवाई की है। मेटा के स्वामित्व वाले सोशल मीडिया मंच ने रिपोर्ट में बताया है कि जिस तरह के कंटेंट के खिलाफ कार्रवाई की गई, उनमें प्रताड़ना, दबाव बनाने, हिंसा या ग्राफिक कंटेंट, न्यूडिटी एवं सेक्सुअल एक्टिविटीज, बच्चों को खतरे में डालने, खतरनाक संगठनों और व्यक्तियों तथा स्पैम जैसे कम्यूनिटी वायलेशन शामिल हैं। भारत के परिप्रेक्ष्य में मासिक रिपोर्ट में कहा गया कि फेसबुक ने एक मई से 31 मई, 2022 के बीच विभिन्न श्रेणियों के तहत 1.75 करोड़ सामग्रियों के खिलाफ कार्रवाई की है।
मेटा के अन्य प्लेटफार्म इंस्टाग्राम ने समान अवधि के दौरान 12 श्रेणियों में करीब 41 लाख कंटेंट के खिलाफ कार्रवाई की। मेटा की रिपोर्ट के अनुसार, कार्रवाई करने का मतलब है फेसबुक या इंस्टाग्राम से कोई सामग्री हटाना या ऐसी तस्वीरों और वीडियो को कवर करना और उनके साथ चेतावनी जोड़ना है जो कुछ लोगों को परेशान करने वाले लग सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.