Loksaakshya Social

Social menu is not set. You need to create menu and assign it to Social Menu on Menu Settings.

Social menu is not set. You need to create menu and assign it to Social Menu on Menu Settings.

August 9, 2022

सौ दिन से कमेटी कमेटी खेल रही धामी सरकार: कांग्रेस

1 min read
उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस के नेताओं ने कहा कि प्रदेश की पुष्कर सिंह धामी सरकार के सौ दिन के बेहद निराशाजनक रहे हैं। इन सौ दिन में सरकारी तंत्र का दुरुपयोग कर चम्पावत उपचुनाव जीतने के अलावा भाजपा सरकार की कोई उपलब्धि नहीं रही है।

उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस के नेताओं ने कहा कि प्रदेश की पुष्कर सिंह धामी सरकार के सौ दिन के बेहद निराशाजनक रहे हैं। इन सौ दिन में सरकारी तंत्र का दुरुपयोग कर चम्पावत उपचुनाव जीतने के अलावा भाजपा सरकार की कोई उपलब्धि नहीं रही है।
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष करन महरा ने आज कहा कि बीते सौ दिन में धामी सरकार ने गाल बजाने के अलावा कुछ नहीं किया है और जनता खुद को ठगी महसूस कर रही है। उन्होंने कहा की सशक्त भू कानून और समान नागरिक कानून के लिए कमेटियां गठित करने तक ही यह सरकार सीमित रही है। भू कानून पर पिछली सरकार में कमेटी बनी थी और समान नागरिक कानून के नाम पर बीते सौ दिन के दौरान कमेटी बनी है, जबकि रोजगार, पलायन, महंगाई, वन्य जीवों के हमले, बुनियादी स्वास्थ्य सेवाओं के मुद्दे पर धामी सरकार सिर्फ लफ्फाजी तक सीमित है। महरा ने कहा कि लफ्फाजी से लोगों का पेट नहीं भर सकता। लोगों को धरातल पर परिणाम चाहिए और परिणाम देने में यह सरकार लाचार और निक्कमी साबित हुई है।
नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य ने भी धामी सरकार के सौ दिन के कार्यकाल को निराशाजनक बताते हुए कहा कि धामी सरकार के सौ दिन निराशा के भंवर में डुबाने वाले हैं। इस दौरान सिर्फ बयानबाजी हुई है। सरकार के मंत्री और अफसर के बीच का विवाद सरकार के कामकाज की बानगी है। नौजवान रोजगार के लिए भटक रहे हैं और सरकार उन्हें झूठी दिलासा देकर बहलाना चाहती है। आर्य ने कहा कि चारधाम यात्रा के प्रबंधन में सरकार खुद अपनी जगहंसाई करवा चुकी है। यहां चारधाम यात्रा शुरू होती है और पर्यटन मंत्री को सैरसपाटे की सुझती है, इसी बात से सरकार की गंभीरता को समझा जा सकता है।
उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस के मीडिया प्रभारी राजीव महर्षि ने कहा कि राज्य की भाजपा सरकार सिर्फ विज्ञापनबाजी कर रही है। पिछले सौ दिन में सिर्फ घोषणाएं हुई हैं, ये घोषणाएं कैसे पूरी होंगी, इसका सरकार के पास कोई रोड मैप नहीं है। केवल विज्ञापनों के सहारे चल रही यह सरकार जनता की अपेक्षाओं को पूरा करने के प्रति जरा भी संवेदनशील नहीं है। अगर ऐसा होता तो इन सौ दिनों में जनता को वह दिन नहीं देखना पड़ता कि कोई प्रसूता रात भर टॉर्च के सहारे पैदल चल कर अस्पताल पहुंचे। यह इन्हीं सौ दिनों के दौरान हुआ है जबकि धामी सरकार बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं का ढोल पीटते नहीं थक रही है।
महर्षि ने कहा कि राज्य ही नहीं, बाहर से उत्तराखंड आने वाले लोगों को भी इस सरकार ने निराश किया है। चारधाम आने वाले लोगों को सरकार के अनिर्णय के कारण भारी परिशानियों से जूझना पड़ा, इसके बावजूद बेशर्मी से सरकार सुशासन और उन्नत उत्तराखंड का ढोल पीट रही है। हैरानी यह है कि धामी सरकार अपनी नाकामियों को भी उपलब्धि मान रही है।
उन्होंने कहा कि मानसून सिर पर है, लेकिन आपदा प्रबंधन के लिए बैठकों के अतिरिक्त कुछ नहीं हुआ है। हजारों लोग मार्ग अवरूद्ध होने से जहां तहां फंसे हैं लेकिन सरकार को उपाय नहीं सूझ रहा है। उन्होंने कहा कि धामी सरकार उत्तराखंड की जनता के जनादेश का अपमान कर रही है। लोगों ने जिन उम्मीदों से उसे सत्ता सौंपी थी, उसे इस सरकार ने मायूस ही किया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार की इन तमाम नाकामियों को जनता के बीच ले जायेगी।

Author

Leave a Reply

Your email address will not be published.