May 23, 2022

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

भीषण गर्मी से प्रभावित हुई गेहूं की फसल, आटा याद करा रहा है भाव, सरकार ने गेहूं निर्यात पर लगाया प्रतिबंध

1 min read
आटा भी अपने भाव याद करा रहा है। पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस सहित ऐसी कोई वस्तु नहीं बची, जिसके दाम आसमान नहीं छू रहे हों। ऐसे में अप्रैल माह में खाद्य पदार्थों की खुदरा महंगाई दर 8.38 फीसद रही।

मार्च और अप्रैल माह बारिश के लिहाज से सूखे निकल गए और गेहूं की फसल प्रभावित हुई। गेहूं का दाना बढ़ने के लिए जो ओसतन तापमान चाहिए था, उससे काफी ज्यादा गर्मी पड़ी और दाने का आकार घट गया। वहीं, नमक, मिर्च महंगाई के जख्मों को बढ़ा रहे हैं। आटा भी अपने भाव याद करा रहा है। पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस सहित ऐसी कोई वस्तु नहीं बची, जिसके दाम आसमान नहीं छू रहे हों। ऐसे में अप्रैल माह में खाद्य पदार्थों की खुदरा महंगाई दर 8.38 फीसद रही। इसके अभी और बढ़ने की संभावना है। ऐसे में भारत ने गेहूं के निर्यात पर तुरंत प्रभाव से प्रतिबंध लागू कर दिया है।
आधिकारिक अधिसूचना के अनुसार, भारत ने बढ़ती घरेलू कीमतों को नियंत्रित करने लिए ये फैसला लिया है। डीजीएफटी ने कहा कि गेहूं की निर्यात नीति तत्काल प्रभाव से प्रतिबंधित है। साथ ही यह भी स्पष्ट किया कि भारत सरकार द्वारा अन्य देशों को उनकी खाद्य सुरक्षा जरूरतों को पूरा करने के लिए और उनकी सरकारों के अनुरोध के आधार पर दी गई अनुमति के आधार पर गेहूं के निर्यात की अनुमति दी जाएगी।
एक अलग अधिसूचना में डीजीएफटी ने प्याज के बीज के लिए निर्यात शर्तों को आसान बनाने की घोषणा की। देशभर में पिछले काफी समय से खाद्य सामग्री के दाम तेजी से बढ़ रहे हैं। जिस वजह से लोगों की परेशानी भी बढ़ रही है। अनुमान है कि देश में पेट्रोल-डीजल के साथ-साथ खाद्य पदार्थ भी महंगे होते जा रहे हैं। खाद्य तेल के दाम जहां आसमान छू रहे हैं, जबकि गेहूं के आटे के दाम भी बढ़ गए हैं।
पिछले साल के मुकाबले 13 फीसद बढ़ी आटे की कीमत
एक जानकारी के मुताबिक पिछले साल के मुकाबले आटे की कीमत करीब 13 फीसदी बढ़ गई है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, खुदरा बाजार में अब आटे की अधिकतम कीमत 59 रुपये प्रति किलोग्राम तक पहुंच गई है। खुदरा बाजारों में गेहूं के आटे की औसत कीमत सोमवार को 32.91 रुपये प्रति किलोग्राम थी, जो पिछले साल की समान अवधि की तुलना में लगभग 13 प्रतिशत अधिक है।
आठ मई, 2021 को गेहूं के आटे का अखिल भारतीय औसत खुदरा मूल्य 29.14 रुपये प्रति किलोग्राम था। मंत्रालय 22 आवश्यक वस्तुओं में चावल, गेहूं, आटा, चना दाल, अरहर (अरहर) दाल, उड़द दाल, मूंग दाल, मसूर दाल, चीनी, गुड़, मूंगफली तेल, सरसों का तेल, वनस्पति, सूरजमुखी तेल, सोया तेल, पाम तेल, चाय, दूध, आलू, प्याज, टमाटर और नमक की कीमतों की निगरानी करता है। इन वस्तुओं की कीमतों के आंकड़े देशभर में फैले 167 बाजार केंद्रों से एकत्र किए जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page