May 23, 2022

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

ऊर्जा संरक्षण को लेकर जागरूकता अभियान शुरू, वक्ताओं ने बताई ऊर्जा संरक्षण की महत्ता

1 min read
ऊर्जा संरक्षण और दक्षता के बारे में नागरिकों के बीच जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय के तत्वावधान में पेट्रोलियम संरक्षण अनुसंधान संघ (पीसीआरए) में पीसीआरए सक्षम 2022 का आयोजन शुरू हो चुका है।

ऊर्जा संरक्षण और दक्षता के बारे में नागरिकों के बीच जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय के तत्वावधान में पेट्रोलियम संरक्षण अनुसंधान संघ (पीसीआरए) में पीसीआरए सक्षम 2022 का आयोजन शुरू हो चुका है। इसके तहत जन जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। देहरादून में भारतीय पेट्रोलियम संस्थान में आयोजित इस कार्यक्रम का उद्घाटन शिक्षा, स्वास्थ्य एवं सहकारिता मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने किया।
इस अवसर पर डॉ. धन सिंह रावत ने ईंधन के संरक्षण की आवश्यकता पर बल दिया। जो कच्चे तेल की खरीद में भारी विदेशी मुद्रा शामिल होने के कारण अर्थव्यवस्था पर पर्याप्त प्रभाव डाल सकता है। कार्यक्रम में छात्रों और जनता को शामिल करते हुए एक मानव श्रृंखला भी बनाई गई। कार्यक्रम की अध्यक्षता विशिष्ट अतिथि एवं आईआईपी निदेशक प्रभातकुमार वर्मा ने की। इस मौके पर एचपीसीएल के क्षेत्रीय प्रबंधक निशांत कुमार, बीपीसीएल के वरिष्ठ प्रबंधक आयुष अग्रवाल आदि उपस्थित थे।
इस मौके पर वक्ताओं ने कहा कि ऊर्जा हमारे देश की अर्थव्यवस्था की विकासात्मक आवश्यकताओं का अभिन्न अंग है। यद्यपि हम विश्व के तीसरे सबसे बड़े ऊर्जा उपभोक्ता है, फिर भी हमारी प्रति व्यक्ति ऊर्जा खपत विश्व औसत का एक तिहाई है। यह अनुमान है कि 2040 तक ऊर्जा की खपत दोगुनी होने की संभावना है। सरकारी नीतियों और सुधारों के माध्यम से, हम ऊर्जा न्याय, ऊर्जा पहुंच और ऊर्जा सुरक्षा सुनिश्चित करना चाहते हैं।
उन्होंने कहा कि ऊर्जा संरक्षण और दक्षता पर हमारा ध्यान इस प्रयास में एक महत्वपूर्ण मार्ग है। इस दृष्टिकोण को आगे बढ़ाने के लिए, ऊर्जा के स्वच्छ और हरित रूप में स्विच करना हमारी सरकार के प्राथमिकता वाले क्षेत्री में से एक रहा है। हरित और स्वच्छ ईंधन को अपनाने से ऊर्जा संरक्षण और ऊर्जा दक्षता उपायी का तेल आयात पर सीधा प्रभाव पड़ता है और हमारे कार्बन पदचिहन को कम करने में भी मदद मिलती है।
वक्ताओं ने कहा कि हरित और स्वच्छ ऊर्जा के माध्यम से आजादी का अमृत महोत्सव अभियान के एक हिस्से के रूप में लक्षित गतिविधियों के एक सेट के साथ विभिन्न हितधारकों तक पहुंचने के लिए एक व्यापक योजना तैयार की गई है। ये गतिविधियां अभियान की अवधि के दौरान तेल एवं गैस कंपनियों और अन्य हितधारको समन्वय से पीसीआरए दद्वारा प्रत्येक राज्य/संघ राज्य क्षेत्र में संचालित की जाएगी। कार्यक्रम राज्य सरकारों/संघ राज्य क्षेत्रों की सक्रिय भागीदारी और समर्थन आयोजित किए जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page