October 23, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

14 राज्यों में उपचुनाव का इंतजार हुआ खत्म, तीन लोकसभा और 30 विधानसभा सीटों पर 30 अक्टूबर को होगा मतदान

1 min read
देश में 14 राज्यों में होने वाले बहुप्रतीक्षित उपचुनावों का इंतजार अब खत्म हो गया है। चुनाव आयोग ने उपचुनावों की तारीखों का एलान कर दिया है। 30 अक्टूबर को कुल तीन लोकसभा सीटों और 30 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने हैं।

देश में 14 राज्यों में होने वाले बहुप्रतीक्षित उपचुनावों का इंतजार अब खत्म हो गया है। चुनाव आयोग ने उपचुनावों की तारीखों का एलान कर दिया है। 30 अक्टूबर को कुल तीन लोकसभा सीटों और 30 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने हैं। इन सीटों पर परिणाम 2 नवंबर को आएंगे। पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के बाद यह चुनाव की सबसे बड़ी कवायद होगी। इससे पहले 30 सितंबर को कोलकाता की भबानीपुर सीट पर विधानसभा उपचुनाव हो रहा है। यह चुनाव बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के लिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि वो स्वयं चुनाव मैदान में हैं। बंगाल में हुए विधानसभा चुनाव में ममता नंदीग्राम सीट से चुनाव लड़ी थीं, लेकिन वो बीजेपी उम्मीदवार शुभेंद्रु अधिकारी से हार गई थीं। मुख्यमंत्री बने रहने के लिए उन्हें 6 माह के भीतर विधानसभा का सदस्य बनना आवश्यक है।
अब जिन तीन लोकसभा सीटों पर उपचुनाव होने हैं, उनमें दादरा और नगर हवेली, हिमाचल प्रदेश की मंडी और मध्य प्रदेश की खंडवा सीट है। इसके अलावा मध्य प्रदेश, असम, आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल सहित कुल 13 राज्यों में विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होंगे।
असम की पांच सीटों पर उपचुनाव होने हैं। पश्चिम बंगाल की चार, मेघालय, मध्य प्रदेश और हिमाचल प्रदेश की तीन तीन सीटों पर उपचुनाव होने हैं। राजस्थान, बिहार और कर्नाटक की दो दो विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने हैं। वहीं मिजोरम, तेलंगाना, नागालैंड, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश और हरियाणा की एक सीट पर उपचुनाव होंगे।
अगले महीने होने वाले उपचुनावों में मध्य प्रदेश में होने वाले उपचुनावों को सबसे दिलचस्प माना जा रहा है। 2023 में होने वाले विधानसभा चुनावों के मद्देनजर इन चुनावों को सेमीफाइनल के तौर पर देखा जा रहा है। मध्य प्रदेश में खंडवा की लोकसभा सीट के अलावा जोबट, पृथ्वीपुर और रैगांव की विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने हैं। इन सीटों में खंडवा की लोकसभा सीट और रैगांव की विधानसभा सीट भाजपा के कब्जे में थी। जोबट और पृथ्वीपुर सीट कांग्रेस के कब्जे में थी। यह सभी सीटें निर्वाचित प्रतिनिधियों की मृत्यु के बाद खाली हुई हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *