October 29, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

नवनिर्मित मातृभूमि सेवा पार्टी ने शहीद स्थल से निकाला जुलूस, लोकतांत्रिक मोर्चा के संरक्षक और संयोजक का किया स्वागत

1 min read
उत्तराखंड में नव निर्मित मातृभूमि सेवा पार्टी के कार्यकर्ताओं ने देहरादून में कचहरी स्थित शहीद स्थल पर शहीदों को नमन किया। इसके बाद कलक्ट्रेड से उत्तरांचल प्रेस क्लब तक जुलूस निकाला।

उत्तराखंड में नव निर्मित मातृभूमि सेवा पार्टी के कार्यकर्ताओं ने देहरादून में कचहरी स्थित शहीद स्थल पर शहीदों को नमन किया। इसके बाद कलक्ट्रेड से उत्तरांचल प्रेस क्लब तक जुलूस निकाला। प्रेस क्लब में आयोजित सम्मेलन में उत्तराखंड लोकतांत्रिक मोर्चा के संरक्षक पूर्व आइएएस एसएस पांगती और संयोजक पीसी थपलियाल को शाल ओढ़ाकर सम्मानित किया गया।
इस मौके पर एसएस पांगती ने कहा कि मोर्चा का उद्देश्य है कि आगामी चुनाव में सभी क्षेत्रीय संगठनों को एकजुट कर मिलकर चुनाव लड़ा जाए। ताकी सांप्रदायिक ताकतों को कड़ी टक्कर दी जा सके। उन्होंने कहा कि स्वराज की परिकल्पना ही जन जन को अपने संसाधनों पर अधिकार दिला सकती है। इसलिए संविधान के 73वें और 74वें संसोधन को लागू करने की मांग को समझते हुए गांव गांव में एक जनांदोलन करना होगा। उन्होंने राज्य को विश्व की आध्यात्मिक राजधानी बनाने का प्रारूप भी नव गठित पार्टी के आगे रखा।
इस मौके पर मोर्चा के सयोंजक पीसी थपलियाल ने कहा कि मोर्चा नव गठित पार्टी का स्वागत करता है। स्थानीय ज्वलंत बिंदुओं पर विचार केंद्रित कर संघर्ष को आगे बढ़ाने की जरूरत है। इसके तहत टिहरी झील बांध का संवैधानिक अधिकार राज्य को दिलाते हुए युवाओं के लिए रोजगार की अपार सम्भावनाओ का दरवाजा खोलने की जरूरत है। उत्तराखंड एक हिमालयी राज्य है, जिसका भूगोल लोअर हिमालय से उच्च हिमालय तक फैला है। और इसकी सीमाओं में रहने वाला हर स्थायी निवासी उत्तरखंडी है।
उन्होंने कहा कि उन घिसे पिटे मुद्दों को जुबान पर मत लाना, जो न तो वयवहारिक हैं और ना ही उनका संवैधानिक ओचित्य है। नही तो जनता मूर्खों की पार्टी कहकर हमेशा के लिए खारिज कर राष्ट्रीय दलों की बी टीम का तगमा लगा देगी। पार्टी के अध्यक्ष सुधीर नेगी ने कहा कि मातृ सेवा पार्टी एक आंदोलन है। ये पहाड़ की समस्याओं को हल करते हुए योग्य नेतृत्व को आगे बढ़ाने का काम करेगी। इस मौके पर पार्टी के महासचिव महावीर फर्स्वाण, महिला मोर्चा की अध्यक्ष गीता रावत ने भी विचार रखे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *