October 24, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

सच साबित हुआ लोकसाक्ष्य का दावा, आप प्रदेश अध्यक्ष ने दिया इस्तीफा, बनाए तीन कार्यकारी अध्यक्ष, कांग्रेस ने लिया आड़े हाथ

1 min read
जैसा लोकसाक्ष्य ने एक माह पहले ही दावा कर दिया था कि आप के प्रदेश अध्यक्ष एसएस कलेर निष्क्रिय पड़े हैं और कर्नल (से.नि.) अजय कोठियाल चुनावी मोर्चे में अकेले पड़े हैं, वो अब सही साबित हो गया है।


जैसा लोकसाक्ष्य ने एक माह पहले ही दावा कर दिया था कि आप के प्रदेश अध्यक्ष एसएस कलेर निष्क्रिय पड़े हैं और कर्नल (से.नि.) अजय कोठियाल चुनावी मोर्चे में अकेले पड़े हैं, वो अब सही साबित हो गया है। प्रदेश अध्यक्ष ने पद से इस्तीफा दे दिया। वहीं, कांग्रेस की तर्ज पर आम आदमी पार्टी ने भी उत्तराखंड में तीन कार्यकारी अध्यक्ष बनाए हैं। ऐसे में कांग्रेस कहां चूकने वाली थी। इस बहाने कांग्रेस ने आम आदमी पार्टी पर कड़ा हमला बोला।
आम आदमी पार्टी में अभी तक अध्यक्ष किसी विशेष भूमिका में नजर नहीं आ रहे थे। चाहे किसी पदाधिकारी की नियुक्ति हो या कोई कार्यक्रम का आयोजन। सभी में अध्यक्ष एसएस कलेर पिक्चर से लगभग गायब थे। ऐसी स्थिति करीब तीन चार माह से थी। इससे पहले उनकी हर दूसरे दिन प्रेस वार्ता होती रहती थी। यही नहीं, किसी पदाधिकारी का मनोनयन हो तो प्रदेश अध्यक्ष की बजाय प्रदेश प्रभारी दिनेश मोहनिया की ओर से ही नियुक्ति पत्र जारी किया जा रहा था। लोकसाक्ष्य में भी इस संबंध में दो रिपोर्ट प्रकाशित की गई थी। इसमें कहा गया था कि कर्नल अजय कोठियाल आगामी चुनाव के मोर्चे पर अकेले पड़ रहे हैं।
अब इसकी पुष्टि प्रदेश अध्यक्ष एसएस कलेर के इस्तीफे से हो गई। आम आदमी पार्टी के कार्यालय में आयोजित प्रेस वार्ता के दौरान प्रदेश अध्यक्ष एसएस कलेर ने इस्तीफा देने की घोषणा की। इसके पीछे खटीमा से चुनाव लड़ने की बड़ी जिम्मेदारी को कारण बताया गया है। खटीमा से उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी लगातार दो बार विधायक चुनकर आए हैं। ऐसे में उन्हें चुनौती देने के लिए कलेर को मैदान में उतारा जा रहा है। आप के वरिष्ठ नेता कर्नल कोठियाल ने गढवाल, कुंमाऊं और तराई क्षेत्र से तीन कार्यकारी अध्यक्षों की नियुक्ति की घोषणा के साथ आगामी विधानसभा चुनावों के लिए कैंपेन कमेटी के अध्यक्ष और उपाध्यक्ष की भी घोषणा की है।
इनमें भूपेश उपाध्याय को कार्यकारी अध्यक्ष कुमाऊं, अनन्त राम चौहान को कार्यकारी अध्यक्ष गढवाल और प्रेम सिंह राठौर को कार्यकारी अध्यक्ष तराई बनाया गया है। साथ ही इस मौके पर विधानसभा चुनाव कैंपेन कमेटी की भी घोषणा की गई। इसके लिए अध्यक्ष और उपाध्यक्ष नियुक्त किए गए। इनमें दीपक बाली को चुनाव संचालन कमेटी का अध्यक्ष, बसंत कुमार को उपाध्यक्ष बनाया गया है।
कलेर ने बताए निजी कारण
एसएस कलेर ने इस्तीफा देने के लिए निजी कारणों को बताया। कहा कि आप पार्टी ने उन्हें आजतक जो सम्मान दिया है, वो उसके लिए पार्टी के सदैव आभारी रहेंगें। उन्होंने आप संयोजक अरविंद केजरीवाल और मनीष सिसोदिया जी का भी आभार जताया। वो अब अपनी ही विधानसभा में कार्य करेंगे और आगामी चुनाव में सीएम धामी के खिलाफ चुनावी ताल ठोंकेगे। आगे वो पार्टी कार्यकर्ता के रुप में पार्टी के लिए एक निष्ठावान कार्यकर्ता की तरह कार्य करते रहेंगे।
विधानसभा प्रत्याशियों का जल्द होगा चयन
इस दौरान कर्नल (सेनि) अजय कोठियाल ने कहा कि आप पार्टी की लोकप्रियता दिनों दिन बढती जा रही है और आने वाला चुनाव आप पार्टी मजबूती से लड़ेगी। सभी नए नियुक्त पदाधिकारियों को शुभकामनाएं देते हुए कर्नल कोठियाल ने कहा कि आप पार्टी इसके अलावा बहुत जल्द ही सभी बची हुई विधानसभाओं में प्रत्याशियों का चयन करेगी, ताकि जनता और उम्मीदवार के बीच संवाद कायम हो सके। उन्होंने कहा कि, आप पार्टी की नीतियां स्पष्ट हैं, यहां एक प्रत्याशी दो विधानसभाओं से चुनाव नहीं लडेगा। जिसे जो विधानसभा का उम्मीदवार बनाया गया हो, वो वहीं से प्रत्याशी होगा। उन्होंने कहा कि एसएस कलेर के अनुभव को पूरी पार्टी लाभ लेते हुए प्रदेश में पूरी ताकत से चुनावी मैदान में उतरेगी।
कांग्रेस ने किया कटाक्ष, कांग्रेस का उड़ाया मजाक, अब चले उसी राह पर
उधर, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने आम आदमी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष एसएस कलेर के इस्तीफे पर कटाक्ष किया। गोदियाल ने कहा चुनावी मैदान में उतरी आम आदमी पार्टी का आगाज ही यदि ऐसा है तो अंजाम कैसा होगा। गोदियाल ने कहा कि जिस तरह से अपनी अनदेखी से आजिज आकर कलेर ने पार्टी से इस्तीफा दिया है वह हैरतअंगेज है।
गोदियाल ने कहा कि जो आम आदमी पार्टी कांग्रेस के चार कार्यकारी अध्यक्षों के बनाए जाने पर कांग्रेस का मजाक उड़ाया करती थी, आज वह कांग्रेस की राह पर चलने को मजबूर हो गई है और उसे प्रदेश में तीन कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त करने पड़े। गोदियाल ने कहा कि यदि उत्तराखंड में आम आदमी पार्टी के मुख्य ध्वजवाहक को ही अपनी अनदेखी की वजह से इस्तीफा देना पड़ रहा है तो ऐसे में कार्यकर्ताओं को सम्मान कैसे मिलेगा?
गोदियाल ने कहा कि सूत ना कपास जुलाहों में लठ्मलठ् वाली कहावत को आम आदमी पार्टी उत्तराखंड में चरितार्थ कर रही है। गोदियाल ने आम आदमी पार्टी पर कटाक्ष करते हुए कहा कि अभी तो प्रदेश में चुनाव हुए भी नहीं हुए हैं। अभी से जिस तरह की धड़ेबाजी और राजनीति की भेंट आम आदमी पार्टी चढ़ रही है, उससे तो यही लगता है कि आम आदमी पार्टी का उत्तराखंड में कोई भविष्य नहीं है।
पढ़ें: आखिर कहां गुम हो गए आप से ये नामी चेहरे, मैदान में अकेले कर्नल, धन कुबेरों ने किए पीछे हाथ, केजरीवाल का रोड शो स्थगित
पढ़ें: अकेले जनसमर्थन जुटाने लगे हैं आप नेता कर्नल कोठियाल, प्रदेश के बड़े नेता गायब, कर्नल के पोस्टरों में भी नहीं है फोटो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *