October 24, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

कर्नाटक में भाजपा विधायक ने किया सनसनीखेज खुलासा, कांग्रेस छोड़ने के लिए आफर की गई थी धनराशि

1 min read
कर्नाटक में वर्ष 2019 में कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल होने वाले एक विधायक ने सनसनीखेज खुलासा किया। बताया कि कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में आने के लिए उन्हें बड़ी राशि का आफर किया गया था।

कर्नाटक में वर्ष 2019 में कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल होने वाले एक विधायक ने सनसनीखेज खुलासा किया। बताया कि कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में आने के लिए उन्हें बड़ी राशि का आफर किया गया था। हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि किसी आफर को स्वीकार किए बगैर ही वे बीजेपी में शामिल हुए। साथ ही उनका दर्द भी छलका और कहा कि उन्हें मौजूदा सरकार में मंत्री तक का पद नहीं दिया गया।
भारतीय जनता पार्टी के विधायक श्रीमंत बालासाहेब पाटिल ने ऐसा सनसनीखेज खुलासा किया। कहा कि कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस की सरकार गिराने के लिए उन्हें कांग्रेस छोड़ने और बीजेपी ज्‍वॉइन करने को धनराशि की पेशकश की गई थी। संवाददाताओं से बात करते हुए पाटिल ने रविवार को कहा कि- मैंने कोई ऑफर स्‍वीकार किए बगैर ही बीजेपी ज्‍वॉइन की है। मुझे पार्टी में आने के लिए धनराशि की पेशकेश की गई थी। मैं जितनी राशि चाहता, मांग सकता था, लेकिन मैं पैसा नहीं मांगा। मैंने लोगों की सेवा करने के लिए उनसे, मुझे मंत्री पद देने को कहा था।
उन्‍होंने कहा कि मैं नहीं जानता कि मुझे मौजूदा सरकार में मंत्री पद क्‍यों नहीं दिया गया। मुझसे वादा किया गया है कि अगले विस्‍तार में मुझे मंत्री पद दिया जाएगा। मेरी कर्नाटक के सीएम बासवराज बोम्‍मई से बातचीत हुई है। गौरतलब है कि पाटिल कर्नाटक की कागवाड सीट से विधायक हैं। वे लंबे समय तक कांग्रेस में रहे, लेकिन 2019 में निष्‍ठा बदलकर बीजेपी में शामिल हो गए थे। पाटिल उन 16 विधायकों में से थे, जिन्‍होंने कांग्रेस और जनता दल सेक्‍युलर छोड़कर बीजेपी ज्‍वॉइन की थी। इसके कारण मुख्‍यमंत्री एचडी कुमारस्‍वामी को सत्‍ता गंवानी पड़ी थी।
राज्‍य में येदियुरप्‍पा की अगुवाई में सरकार बनने के बाद पाटिल को मंत्री पद दिया गया था। हालांकि येदियुरप्‍पा के इस्‍तीफे और बासवराज बोम्‍मई के सीएम बनने के बाद उन्‍हें (बालासाहेब पाटिल को) मंत्री पद गंवाना पड़ा था। गौरतलब है कि कर्नाटक विधानसभा का मॉनसून सत्र आज से प्रारंभ हो रहा है। कांग्रेस और जेडीएस सदस्‍य इस मुद्दे को सदन में उठा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *