October 29, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

कोरे आश्वासन नहीं, देवस्थानम बोर्ड तत्काल भंग करे सरकारः कर्नल कोठियाल

1 min read
उत्तराखंड में आम आदमी पार्टी नेता कर्नल (सेनि) अजय कोठियाल ने बीजेपी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि बीजेपी सरकार देवस्थानम बोर्ड पर सियासत कर रही है।

उत्तराखंड में आम आदमी पार्टी नेता कर्नल (सेनि) अजय कोठियाल ने बीजेपी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि बीजेपी सरकार देवस्थानम बोर्ड पर सियासत कर रही है। उसे सियासत छोड़कर इस बोर्ड को तुरंत भंग करना चाहिए। उन्होंने कहा कि बीजेपी बोर्ड के नाम पर तीर्थ पुरोहितों के साथ साथ प्रदेश की जनता को भी भ्रमित कर रही है। ऐसा लगता है कि इस सरकार की मंशा बोर्ड को भंग करने की बिल्कुल नहीं है।
एक बयान में कर्नल कोठियाल ने कहा कि सरकार बोर्ड भंग करने के नाम पर कभी पुनर्विचार, कभी कमेटी गठित करने तो कभी आपसी सहमति की बात कह कर तीर्थ पुरोहितों को गुमराह कर रही है। बीजेपी देवस्थानम बोर्ड बनाकर हजारों सालों से चली आ रही सांस्कृतिक परंपराओं पर कानूनी चाबुक चलाना चाहती है। उन्होंने कहा कि जहां बीजेपी विपक्ष में है वहां बीजेपी ऐसे बोर्ड का विरोध करती है। केरल में इसका उदाहरण देखा जा सकता है। उत्तराखंड देवभूमि है और यहां पर चार धामों के साथ सैकडों देवी देवताओं के मंदिरों के साथ ऐसे अन्य कई पवित्र स्थान हैं, जिनका वर्णन इतिहास में भी है। यहां बीजेपी बोर्ड के पक्ष में खड़ी है और तीर्थ पुरोहितों के हकों के साथ खिलवाड़ कर रही है।
कर्नल कोठियाल ने कहा कि बोर्ड बनाकर ना सिर्फ इन मंदिरों के तीर्थ पुरोहितों का हक छिन जाएगा, बल्कि धर्म पर भी कानूनी शिंकजा कस जाएगा। उन्होंने आगे कहा कि देवभूमि में लाखों लोग हर साल अलग अलग मंदिरों के दर्शनों को आते हैं। बोर्ड के गठन से उनको ऐसा अनुभव प्राप्त नहीं हो पाएगा जो अनुभव बिना देवस्थानम बोर्ड के होता था।
कर्नल कोठियाल ने कहा कि ये देवस्थानम बोर्ड जबरन बनाया हुआ बोर्ड है। जिस पर किसी भी तीर्थ पुरोहित और पंडा समाज से जुडे लोगों की सलाह नहीं ली गई। केदारनाथ धाम में अभी भी तीर्थ पुरोहित बोर्ड भंग करने के निए प्रदर्शन कर रहे हैं, लेकिन सरकार ने अभी तक इस बोर्ड को भंग नहीं किया है।
उन्होंने कहा कि सरकार सेम मुखेम को प्रदेश का छठा धाम बनाने पर विचार कर रही है, लेकिन जो पहले से ही धाम प्रदेश में स्थित हैं, उनके तीर्थ पुरोहितों के हक पर सरकार ने बोर्ड गठित कर डाका डालने का काम किया है। ये सरकार जनता को गुमराह कर रही है। इसलिए आप मांग करती है कि इस बोर्ड को सरकार तुंरत भंग करे और इस बोर्ड को भंग करने के लिए जल्द एक अघ्यादेश लाया जाए। ताकि तीर्थ पुरोहितों के हक पर डाका ना पड सके और समस्त चिह्नित मंदिरों से कानूनी बंदिश हट सके। उन्होंने ये स्पष्ट किया कि, आप पार्टी की सरकार बनते ही देवस्थानम बोर्ड को समाप्त किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *