August 5, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

गढ़वाली कवि एवं साहित्यकार दीनदयाल बन्दूणी ‘दीन’ की गजल- इनै मोबैल उनै टेलीविजन

1 min read
गढ़वाली कवि एवं साहित्यकार दीनदयाल बन्दूणी ‘दीन’ की गजल- इनै मोबैल उनै टेलीविजन।

इनै मोबैल उनै टेलीविजन

इनै मोबैल – उनै टेलीविजन, चल़णू च.
कैथैं यो – कैथैं वो प्रोग्राम, भलु लगणू च..

दीन-दुन्य से बेखबर, कख जांणा छवां हम,
आज हमरु यो मन, हमथैं किलै ठगणू च..

खांण दौं बि- मोबैल, सींण दौं बि- मोबैल,
तब बोदीं-न निंद आंणी, न खांणू पचणू च..

उल्टु – सीधु खैंण्यूं , बिगर चबयां- घुऴण्यूं,
पेट हूंणा-खराब, रात-दिन गऴ्या तकणूं च..

झंकरा बढ्यां छीं, लत्ता-कपड़ा गढ़्यां छीं,
दौं- दौं खांणा कु, कुछ- न- कुछ मंगणू च..

घर कु बजट- लैगे बढण, दुख कैम बटंण,
घर- गृहस्थी बोझ, झड़ि कनम- सकणू च..

‘दीन’ भितरी-भितर खमोसि, बिगड़ीं बोल,
बात पीछा जै- कैकु, ऐंडि- बैंडि बकणूं च..

कवि का परिचय
नाम-दीनदयाल बन्दूणी ‘दीन’
गाँव-माला भैंसोड़ा, पट्टी सावली, जोगीमढ़ी, पौड़ी गढ़वाल।
वर्तमान निवास-शशिगार्डन, मयूर बिहार, दिल्ली।
दिल्ली सरकार की नौकरी से वर्ष 2016 में हुए सेवानिवृत।
साहित्य-सन् 1973 से कविता लेखन। कई कविता संग्रह प्रकाशित।

1 thought on “गढ़वाली कवि एवं साहित्यकार दीनदयाल बन्दूणी ‘दीन’ की गजल- इनै मोबैल उनै टेलीविजन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *