June 14, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

अमित शाह से मिले योगी आदित्यनाथ, कल करेंगे पीएम से मुलाकात, कहीं उत्तराखंड वाली कहानी तो नहीं दोहराई जा रही है

1 min read
उत्तर प्रदेश में भी कहीं उत्तराखंड की तर्ज में कहानी तो नहीं दोहराई जा रही है।

उत्तर प्रदेश में भी कहीं उत्तराखंड की तर्ज में कहानी तो नहीं दोहराई जा रही है। ऐसा इसलिए माना जा सकता है कि उत्तराखंड में भी केंद्रीय पर्यवेक्षक ने यहां पहुंचकर फीडबैक लिया और मीडिया कहा था कि नेतृत्व परिवर्तन की कोई बात नहीं है। वे सरकार के चार साल पूरे होने के जश्न मनाने को लेकर वार्ता करने पहुंचे हैं। इसके अगले दिन ही उत्तराखंड के तत्कालीन सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत दिल्ली दरबार पहुंचे। वरिष्ठ नेताओं से बात की। वापस उत्तराखंड आए और त्यागपत्र दे दिया। अब केंद्रीय नेताओं के यूपी से फीडबैक ले जाने के बाद यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ भी दिल्ली दरबार पहुंच गए हैं। ऐसे में उत्तराखंड राज्य की तरह यूपी में भी राजनीतिक घटनाक्रम में हलचल के कयास लगाए जा रहे हैं। फिलहाल हम उत्तराखंड के घटनाक्रम के फ्लैशबैक मे ले चलते हैं।
ये था राजनीतिक घटनाक्रम
गौरतलब है कि छह मार्च 2021 को केंद्रीय पर्यवेक्षक वरिष्ठ भाजपा नेता व छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह देहरादून आए थे। उस वक्त उत्तराखंड की ग्रीष्मकालीन राजधानी गैरसैंण में बजट सत्र चल रहा था। अचानक सत्र की औपचारिकता पूरी कर अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया। सारे मंत्री, विधायकों को एयर लिफ्टिंग के जरिये देहरादून लाया गया। केंद्रीय पर्यवेक्षक ने सबसे अलग अलग मुलाकात की। उन्होंने भाजपा कोर कमेटी की बैठक के बाद फीडबैक लिया था। यहां मीडिया से यही बोला गया कि नेतृत्व परिवर्तन की कोई बात नहीं है। प्रदेश में सरकार के चार साल पूरे हो रहे हैं, इसे लेकर होने वाले कार्यक्रमों पर चर्चा की गई। इसके बाद त्रिवेंद्र सिंह रावत दिल्ली गए और उन्होंने दिल्ली दरबार में वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात की। इसी बीच उत्तराखंड में आगामी चुनावों के मद्देनजर मुख्यमंत्री बदलने का फैसला केंद्रीय नेताओं ने लिया था। इसके बाद मंगलवार नौ मार्च 2021 को को त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। वहीं, दस मार्च को भाजपा की विधानमंडल दल की बैठक में तीरथ सिंह रावत को नया नेता चुना गया। उसी दिनउन्होंने राज्यपाल के पास जाकर सरकार बनाने का दावा पेश किया। दस मार्च की शाम चार बजे उन्होंने एक सादे समारोह में मुख्यमंत्री पद की शपथ ग्रहण की।
यूपी का घटनाक्रम
अब यूपी में भी सत्ता परिवर्तन की सुगबुहाट शुरू हुई। वहां भी केंद्रीय नेता पहुंचे। उन्होंने मंत्रियों और विधायकों से वार्ता की। साथ ही असंतुष्टों से भी मिले। इसके बाद मीडिया के सम्मुख योगी आदित्यनाथ को क्लीन चिट दी गई। अब योगी आदित्यनाथ भी उत्तराखंड के पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत की तर्ज पर ही दिल्ली दरबार में पार्टी नेताओं की गणेश परिक्रमा में जुट गए हैं।
अमित शाह से मिले, कल मोदी और नड्डा से मिलेंगे
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दिल्ली में हैं। गुरुवार 10 जून को गृहमंत्री अमित शाह से उनकी मुलाकात हुई। वह शुक्रवार सुबह पौने 11 बजे प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात करेंगे। इसके अलावा शुक्रवार 12:30 बजे बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा से भी मिलेंगे। योगी यूपी के राजनीतिक हालात पर चर्चा करने आए हैं। उनकी मुलाकात ऐसे वक्त में हो रही है जब भारतीय जनता पार्टी के उत्तर प्रदेश यूनिट में असंतोष की खबरें आ रही हैं।
बीजेपी नेताओं में है असंतोष
पार्टी के अंदर यूपी बीजेपी के कई नेताओं के बीच मुख्यमंत्री योगी के खिलाफ असंतोष जताने की खबरें आई हैं। जानकारी है कि इन नेताओं को इस बात का गिला है कि योगी सरकार ने कोविड संकट का सक्षम तरीके से सामना करने में ढिलाई बरती है।
ये भी हो सकता है दूसरा कारण
एक और कारण से योगी की यात्रा खास है। अभी बुधवार को ही कांग्रेस के बड़े नेता जितिन प्रसाद ने बीजेपी जॉइन की है। वो यूपी की राजनीति में एक बड़ा ब्राह्मण चेहरा हैं। माना जा रहा है कि अगले विधानसभा चुनावों में वो बीजेपी को रीसेट करने में अहम भूमिका अदा कर सकते हैं। योगी सरकार को राज्य में ब्राह्मणों का एक धड़ा प्रो-ठाकुर मानता है। ऐसे में कहा जा रहा है कि बीजेपी ब्राह्मण चेहरों पर जोर लगा रही है।
पिछले हफ्ते ही एक और ब्राह्मण चेहरे की यूपी की राजनीति में एंट्री हुई थी। पूर्व नौकरशाह एके शर्मा जो पीएम मोदी के करीबी माने जाते हैं, वो यूपी आए हैं। माना जा रहा है कि राज्य में उन्हें भी बड़ा रोल दिया जाएगा। उत्तर प्रदेश में चुनावों को एक साल से भी कम का वक्त रह गया है। ऐसे में बीजेपी यूपी क्राइसिस को संभालने की कोशिश कर रही है। पिछले कुछ वक्त में कोविड मैनेजमेंट को लेकर कई सांसदों और विधायकों ने सार्वजनिक रूप से बयान दे दिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *