June 15, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

उत्तराखंड में कोरोना से मौत, 24 घंटे में 43+पुरानी 15=58, सवाल-आखिर कितनी मौत छिपाई गई पहले

1 min read
उत्तराखंड में एक दिन राहत के बाद कोरोना के नए संक्रमितों की संख्या में मामूली बढ़ोत्तरी दर्ज की गई। शुक्रवार चार जून की शाम स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले 24 घंटे में 892 लोग कोरोना के नए संक्रमित मिले और 43 लोगों की कोरोना से मौत हुई।


उत्तराखंड में एक दिन राहत के बाद कोरोना के नए संक्रमितों की संख्या में मामूली बढ़ोत्तरी दर्ज की गई। शुक्रवार चार जून की शाम स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले 24 घंटे में 892 लोग कोरोना के नए संक्रमित मिले और 43 लोगों की कोरोना से मौत हुई। एक दिन पहले गुरुवार तीन मई को 589 कोरोना के नए संक्रमित मिले और 31 लोगों की मौत हुई। इसके साथ ही शुक्रवार को 4006 लोग स्वस्थ हुए। वहीं ब्लैक फंगस का भी हमला लगातार हो रहा है। अब तक विभिन्न अस्पतालों में 260 मामले दर्ज किए गए। इनमें अब तक 36 लोगों की इस बीमारी से मौत हो चुकी है। वहीं, 16 लोग स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं। अभी भी मौत के पिछले आंकड़े कुल योग में जोड़े जा रहे हैं। आज भी एक दिन में 43 मौत दर्शायी गई, वहीं मौत के कुल आंकड़ों में 58 मौत जोड़ी गई। यानी 15 मौत पुरानी जोड़ी गई हैं। इसका मतलब साफ है कि पिछले दो माह से अस्पतालों में काफी संख्या में मौत के आंकड़े छिपाए। अब धीरे धीरे इन्हें मौत के टोटल में अर्जेस्ट किया जा रहा है। ऐसा लगातार 17 मई से किया जा रहा है। ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर उत्तराखंड में कितनी मौत हुई, जो अभी तक पुराने आंकड़े जोड़े जा रहे हैं।

कुल एक्टिव केस 19283
उत्तराखंड में कोरोना के कुल एक्टिव केस 19283 रह गए हैं। कंटेनमेंट जोन भी 234 से घटकर 195 हो गए हैं। यहां एक तरीके से पूर्ण लॉकडाउन है। कोरोना कर्फ्यू की अवधि अब आठ जून की सुबह छह बजे तक है। सुबह आवश्यक वस्तुओं की दुकानें आठ बजे से लेकर सुबह 11 बजे तक खुल रही हैं।

टीकाकरण की गति कुछ बढ़ी
अब तक उत्तराखंड में नए संक्रमितों के मामले में तीन बार आठ हजार का आंकड़ा एक दिन में पार हो चुका है। वहीं, पहली बार नौ हजार का आंकड़ा शुक्रवार सात मई को पार हुआ था। यदि टीकाकरण की बात की जाए तो शुक्रवार चार जून को 354 केंद्रों में 24941 लोगों को कोरोना के टीके लगाए गए। गुरुवार तीन जून को 312 केंद्रों में 14506 लोगों को, बुधवार दो जून को 282 केंद्र में 12224 लोगों को, मंगलवार एक जून को 316 केंद्रों में 15648 लोगों को, सोमवार 31 मई को 353 केंद्रों में 15203 लोगों को, रविवार 30 मई को 364 केंद्रों में 12364 लोगों को, शनिवार 29 मई को 504 केंद्रों में 15460 लोगों को कोरोना के टीके लगाए गए थे। टीकाकरण की शुरूआत में चालीस हजार से लेकर 70 हजार के बीच टीके लगाए जा रहे थे। ऐसे में ये संख्या कम है। वहीं, निजी अस्पतालों में बड़ी संख्या में नौ सौ रुपये देकर टीके लगाए जा रहे हैं।

सर्वाधिक संक्रमित देहरादून जिले में मिले
उत्तराखंड में शुक्रवार चार जून को भी सर्वाधिक नए संक्रमित देहरादून जिले में मिले। देहरादून में 203, नैनीताल में 127, हरिद्वार में 112, उधमसिंह नगर में 76, चमोली में 54, बागेश्वर में 15, रुद्रप्रयाग में 33, अल्मोड़ा में 96, पिथौरागढ़ में 51, पौड़ी में 44, टिहरी में 46, उत्तरकाशी में 12, चंपावत में 23 नए संक्रमित मिले।

अब तक कुल 6631 मौत
उत्तराखंड में अब कोरोना के कुल संक्रमितों की संख्या 332959 हो गई है। इनमें से 301128 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। अब तक प्रदेश में कुल 6631 लोगों की कोरोना से मौत हो चुकी है। मौत की दर 1.99 फीसद है। वहीं, रिकवरी 90.44 फीसद है। वहीं, ब्लैक फंगस के विभिन्न अस्पतालों में अब तक 260 मामले सामने आए हैं। इनमें अब तक 36 लोगों की इस बीमारी से मौत हो चुकी है। वहीं, 16 लोग स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं।

पिछले सात दिन के आंकड़े
उत्तराखंड में गुरुवार तीन मई को 589 कोरोना के नए संक्रमित मिले थे और 31 लोगों की मौत हुई थी। बुधवार दो जून को 1003 नए संक्रमित, मंगलवार एक जून को 981 कोरोना के नए संक्रमित, सोमवार 31 मई को 1156 नए संक्रमित, रविवार 30 मई को 1226 संक्रमित, शनिवार 28 मई को कुल 1687 नए संक्रमित, शुक्रवार 28 मई को 1942 नए संक्रमित, गुरुवार 27 मई को 2146 नए संक्रमित मिले थे। वहीं, सात मई को सर्वाधिक 9642 नए कोरोना संक्रमित मिले थे। शनिवार 15 मई को सर्वाधिक 197 मौत दर्ज की गई थी।

195 स्थानों पर लॉकडाउन
उत्तराखंड में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच 195 स्थानों पर कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं। संक्रमितों के लिहाज से ये संख्या घटती बढ़ती रहती है। यहां लॉकडाउन की स्थिति है। ऐसे स्थानों में सामाजिक, धार्मिक, व्यापारिक गतिविधियां प्रतिबंधित हैं। वहीं, लोगों को घरों से बाहर निकलने की अनुमति नहीं है। एक परिवार के एक सदस्य को आवश्यक वस्तु के लिए मोबाइल वेन तक जाने की अनुमति है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *