June 15, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

भारत में कोरोना का सिर्फ एक ही स्ट्रेन खतरनाक, बाकी दो से खतरा हुआ कम, जानिए इसकी खासियत

1 min read
भारत में मिले कोविड-19 वेरिएंट के खतरों को लेकर तरह तरह की भ्रांतियां थी। इसे अब विश्व स्वास्थ्य संगठन ने स्पष्ट कर दिया है। संगठन की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में बस एक स्ट्रेन की चिंता वैज्ञानिकों को ज्यादा है।

भारत में मिले कोविड-19 वेरिएंट के खतरों को लेकर तरह तरह की भ्रांतियां थी। इसे अब विश्व स्वास्थ्य संगठन ने स्पष्ट कर दिया है। संगठन की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में बस एक स्ट्रेन की चिंता वैज्ञानिकों को ज्यादा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा कि भारत में सबसे पहले मिले कोविड वेरिएंट, जिसे डेल्टा वेरिएंट का नाम दिया गया है, उसका बस एक स्ट्रेन अब चिंता का विषय है। बाकी दो स्ट्रेन का खतरा कम हो गया है। माना गया है कि भारत में कोरोना की दूसरी लहर के पीछे B.1.617 के नाम से जाना जा रहा वायरस का यह वेरिएंट ही जिम्मेदार रहा है। यह ट्रिपल म्यूटेंट वेरिएंट है, क्योंकि यह तीन लिनिएज में बंट जाता है।
पिछले महीने डबल्यूएचओ ने इस वेरिएंट के पूरे स्ट्रेन को ‘वेरिएंट ऑफ कंसर्न’ बताया था, लेकिन मंगलवार को एजेंसी ने कहा कि इसका बस एक सब लिनिएज- यानी तीन स्ट्रेन में से बस एक स्ट्रेन चिंता का विषय है। संगठन ने हर हफ्ते जारी होने वाले महामारी पर अपडेट में कहा कि अब बड़े स्तर पर लोगों के स्वास्थ्य के लिए B.1.617.2 वेरिएंट खतरा बना हुआ है, जबकि दूसरे स्ट्रेन के संक्रमण का प्रसार कम हुआ है।
B.1.617.2 वेरिएंट अभी भी चिंता का विषय बना हुआ है। इसके साथ वायरस के तीन अन्य वेरिएंट भी खतरनाक माने जा रहे हैं। ये वेरिएंट ओरिजिनल वायरस से ज्यादा खतरनाक माने जा रहे हैं, क्योंकि ये पहले से ज्यादा संक्रामक हैं और कुछ-कुछ में वैक्सीन की सुरक्षा को पार कर जाने की संभावना भी है। डब्लूएचओ ने डेल्टा वेरिएंट पर कहा कि इसका संक्रमण प्रसार तेजी से कई देशों में हुआ है। कई देशों में आउटब्रेक को इससे जोड़कर देखा जा रहा है। ऐसे में इसपर नजर रखी जा रही है। वहीं इसपर आगे और स्टडी करना संगठन की प्राथमिकता है।
अब तक कोरोनावायरस के अलग वेरिएंट्स को उन देशों के नाम के साथ वेरिएंट शब्द लगाकर बुलाया जा रहा था, जहां उनका सबसे पहले पता चला था। इसे लेकर स्टिगमा पैदा होने के डर से अब सभी वेरिएंट का नाम ग्रीक अक्षरों के आधार पर रखने का फैसला किया गया है।
तीन स्ट्रेन में एक को नहीं दिया नाम
भारत में मिले वेरिएंट को डेल्टा वेरिएंट कहा जा रहा है। इसके दूसरे स्ट्रेन B.1.617.1 को ‘वेरिएंट ऑफ इंट्रस्ट’ कहा गया है, क्योकि इसपर अभी नजर रखी जा रही है। इसके कपा (kappa) नाम दिया गया है। वहीं, तीसरे स्ट्रेन B.1.617.3 को इंट्रस्ट की लिस्ट से बाहर कर दिया है और इसे कोई ग्रीक अक्षर का नाम नहीं दिया गया है। इस स्ट्रेन के कम ही केस नजर आए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *