June 16, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

बाबा रामदेव बोले-जो राष्ट्र नागरिकों को स्वस्थ न बनाए, उसके राजा को मिले दंड, 2012 के ट्विट पर भी हो रहे हैं ट्रोल

1 min read
योग गुरु बाबा रामदेव इन दिनों अपने बयानों को लेकर हर दिन चर्चा में आ रहे हैं। एक के बाद एक बयान के दौरान उनका आइएमए से एलोपैथी और आयुर्वेद को लेकर युद्ध चल रहा है।

योग गुरु बाबा रामदेव इन दिनों अपने बयानों को लेकर हर दिन चर्चा में आ रहे हैं। एक के बाद एक बयान के दौरान उनका आइएमए से एलोपैथी और आयुर्वेद को लेकर युद्ध चल रहा है। वहीं, लोग बाबा रामदेव के पुराने बयानों को लेकर उन्हें सोशल मीडिया में ट्रोल कर रहे हैं। ये वे बयान हैं, जब उन्होंने वर्ष 2012 में पेट्रोल और डीजल की कीमतों को लेकर ट्विट किया था।
राजा को लेकर दिया ये बयान
अब बाबा रामदेव ने कहा है कि-जो राष्ट्र अपने नागरिकों को स्वस्थ न बनाए, उस राष्ट्र के राजा को दंड मिले। वे इस देश में ऐसा नया कानून बनवाएंगे कि बीमार पड़ने पर उसके लिए जिम्मेदार व्यक्ति के लिए दंड की व्यवस्था हो। किसी के घर में बच्चे बीमार पड़े तो मां-बाप को जेल में डाल दो। यह बात बाबा रामदेव ने गुरुवार को योगग्राम में योग शिविर में कही।
बाबा ने कहा कि जब बच्चे थे तब मेरा भारत महान लिखा करते थे। बड़े होकर देखा कि मेरा भारत तो बीमार व लाचार है। कई बीमारियों से ग्रस्त है। बाबा कहते है कि उनके पास समाधान है। इसके लिए कानून बनना चाहिए। जो मां-बाप अपने बच्चों को स्वस्थ न बनाए उन्हें दंड दो। पहले परिवार को जिम्मेदार ठहराओ कि ऐसे बच्चे पैदा क्यों किए जो बीमार हो रहे। अगर बीमार हुए तो उन्हें योग क्यों नहीं कराया।
बाबा रामदेव ने कहा कि बीमार होना राष्ट्र को ताकतवर बनाना है या कमजोर, यह सोचना होगा। कहा कि जैसे किसी को अनपढ़ रखना पाप व सामाजिक, राष्ट्रीय, राजनीतिक, सांस्कृतिक, वैज्ञानिक अपराध भी है। विज्ञान में पढ़ाया जाता है कि आदमी है तो बीमार तो होगा ही। मैं कहता हूं कि योग करेगा तो कभी बीमार नहीं होगा। बाबा बोले ड्रग इंडस्ट्री पूरी दुनिया को बीमार व अनपढ़ रखना चाहती है। जब ये होगा तभी तो उनका राज चलेगा।
बाबा रामदेव ने दी चुनौती
बाबा रामदेव ने कहा कि एलोपैथी से कोई दस दिन के अंदर प्रोस्टेड कैंसर को ठीक करके दिखा दे तो रामदेव फांसी चढ़ने को तैयार है। ये कंपीटिशन नहीं है, बल्कि ये बताना चाहता हूं कि हमने इसका इलाज करके दिखाया है।
यूनिवर्सिटी बनाई, उसका चांसलर बना
बाबा रामदेव बोले कि मुझसे मेरी डिग्री पूछते हैं। पहले गुरुकुल का विद्यार्थी रहा। वहीं आचार्य बना। फिर यूनिवर्सिटी बनाई उसका चांसलर बना। अभी दस हजार बच्चों को पढ़ाते हैं। दावा किया कि जल्द ही पतंजलि दुनिया की सबसे बड़ी यूनिवर्सिटी बनेगी।
एलोपैथी का उड़ाया था मजाक
गौरतलब है कि आईएमए ने सोशल मीडिया पर उस वायरल वीडियो पर आपत्ति जताई थी, जिसमें रामदेव ने दावा किया है कि एलोपैथी ‘बेवकूफी भरा विज्ञान’ है। उन्होंने कहा था कि कोरोना के इलाज के लिए स्वीकृत रेमडेसिविर, फेवीफ्लू और ऐसी अन्य दवाएं कोविड-19 मरीजों का इलाज करने में असफल रही हैं।
बाबा रामदेव मोबाइल से पढ़कर बोल रहे थे। उनके इस बयान ने जब तूल पकड़ा तो केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने एलोपैथी के बारे में योग गुरु रामदेव के बयान को रविवार को ‘बेहद दुर्भाग्यपूर्ण’ करार दिया था। साथ ही इसे वापस लेने को कहा था। इसके बाद कहा गया कि बाबा रामदेव ने अपना बयान वापस ले लिया।
इसके बाद फिर पूछ डाले सवाल
फिर बाबा रामदेव ने फिर रंग बदला और ट्विटर अकाउंट में आइएमए को खुला पत्र जारी किया। उन्होंने आइएमए को चुनौती दी। साथ ही उनसे 25 सवाल पूछे और कई बीमारियों का स्थायी इलाज पूछा। अब उनके इस बयान से एक बार फिर विवाद ने तूल पकड़ लिया है। गौरतलब है कि बाबा की ओर से एलोपैथ को लेकर दिए गए पूर्व के बयान पर उन्हें आइएमए ने नोटिस भी भेजा है।
पहले ऑक्सीजन की कमी को लेकर आया था बयान
इससे पहले भी बाबा रामदेव विवादों में आए। हाल ही में सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें बाबा रामदेव कह रहे थे कि-चारों तरफ ऑक्सीजन ही ऑक्सीजन का भंडार है, लेकिन मरीजों को सांस लेना नहीं आता है और वे नकारात्मकता फैला रहे हैं कि ऑक्सीजन की कमी है। रामदेव ने कहा था कि जिसका भी ऑक्सीजन स्तर गिर रहा है उसे ‘अनुलोम विलोम प्रामायाम’ और ‘कपालभाती प्राणायाम’ करना चाहिए। बाबा रामदेव की टिप्पणियों पर कड़ी आपत्ति जताते हुए इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आइएमए) के उपाध्यक्ष डॉ. नवजोत सिंह दहिया ने शनिवार को जालंधर पुलिस में केस दर्ज कराया और उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है।
नए वीडियो से फिर विवाद में आए थे रामदेव
नए वीडियो में बाबा रामदेव आइएमए के मानहानि के नोटिस पर प्रतिक्रया देते दिख रहे हैं। बकौल बाबा-ट्रेंड चला रहे हैं कि क्विक अरेस्ट स्वामी रामदेव। कभी कुछ चलाते हैं, कभी ठग रामदेव, कभी महाठग रामदेव, कभी गिरफ्तार रामदेव चलाते रहते हैं। चलाने दो। इसका उपहास उड़ाते हुए वह पतंजलि कार्यकर्ताओं को बधाई दे रहे हैं कि इस कारण अब अपने लोगों को भी ट्रेंड चलाने की प्रैक्टिस हो गई। बाबा यहां तक कहते सुनाई दे रहे हैं कि- खैर! अरेस्ट तो उनका बाप भी नहीं कर सकता स्वामी रामदेव को।’
विवाद को आचार्य बालकृष्ण ने ईसाइयत से जोड़ा था
आयुर्वेद बनाम एलोपैथ को लेकर हो रहे विवाद को योग गुरु बाबा रामदेव के सहयोगी आचार्य बालकृष्ण ने नया मोड़ दे दिया था। आचार्य बालकृष्ण ने ट्वीट कर इसे देश के भीतर चल रहे ईसाई मंतातरण से जोड़ा है। वह चिंता जताते हुए कहते हैं कि देश में ईसाइयत को बढ़ावा देने के साथ ईसाई बनाने की साजिश रची जा रही है। इसी के तहत बाबा रामदेव को निशाना बनाया जा रहा है, योग और आयुर्वेद को बदनाम किया जा रहा है।
उन्होंने कहा कि अगर समय रहते इस मामले में गंभीर कदम नहीं उठाए गए तो यह साजिश सफल हो जाएगी। जो ताकतें ऐसा कर रही हैं, उन्हें रोकना होगा। वह आगे कहते हैं, ‘पूरे देश को क्रिश्चियनिटी में कनवर्ट करने के षडयंत्र के तहत योग ऋषि रामदेव को टारगेट कर योग एवं आयुर्वेद को बदनाम किया जा रहा है।
वर्ष 2012 के ट्विट पर हो रहे हैं ट्रोल
अब योगगुरु बाबा रामदेव का साल 2012 का एक ट्वीट आजकल सुर्खियों में है। इस वजह से वह सोशल मीडिया पर वह ट्रोल हो रहे हैं। रामदेव ने 9 अगस्त 2012 को ट्वीट किया था कि कालाधन वापस आए तो पेट्रोल 30 रुपये लीटर में मिलेगा। देश के कई शहरों में पेट्रोल की कीमत 100 रुपये लीटर के पार चली गई है। दिल्ली के बाजार में अभी पेट्रोल की कीमत 93.68 रुपये प्रति लीटर और डीजल 84.61 रुपये प्रति लीटर है।
यही वजह है कि यूजर्स बाबा रामदेव का पुराना ट्वीट निकालकर उन्हें ट्रोल कर रहे हैं। ट्विटर पर यूजर्स कई तरह के मीम्स पोस्ट कर बाबा रामदेव को ट्रोल कर रहे हैं। मयंक तिवारी नाम के यूजर ने लिखा, ‘नहीं चाहिए अच्छे दिन, मेरे वही बुरे दिन लौटा दो, 60 रुपये पेट्रोल, 80 रुपये सरसों तेल, 400 रुपये सिलेंडर वाले बुरे दिन ही सही थे।’ इसी तरह सौरभ आनंद लिखते हैं कि बाबा को तो सरकार से पूरा फायदा मिल रहा है जनता उसके बहकावे में आकर अपना नुकसान कर बैठी है। अशोक शेखावत ने लिखा कि काला धन तो नहीं आया, लेकिन पेट्रोल 100 रुपये के पार पहुंच गया।

1 thought on “बाबा रामदेव बोले-जो राष्ट्र नागरिकों को स्वस्थ न बनाए, उसके राजा को मिले दंड, 2012 के ट्विट पर भी हो रहे हैं ट्रोल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *