June 16, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

कांग्रेस उपाध्यक्ष धस्माना ने कहा-हर राशन कार्डधारक को छह माह तक दें फ्री राशन, सीएम को भेजा पत्र

1 min read
उत्तराखंड कांग्रेस के उपाध्यक्ष सूर्याकांत धस्माना ने प्रदेश के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत को पत्र भेजकर हर राशनकार्ड धारक को आगामी छह माह तक फ्री राशन देने की मांग की।

उत्तराखंड कांग्रेस के उपाध्यक्ष सूर्याकांत धस्माना ने प्रदेश के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत को पत्र भेजकर हर राशनकार्ड धारक को आगामी छह माह तक फ्री राशन देने की मांग की। उन्होंने कहा कि महामारी में लॉकडाउन के चलते कई परिवारों के रोजी रोटी के साधन समाप्त हो चुके हैं। ऐसे में उनकी मदद को सरकार को हर संभव प्रयास करने चाहिए।
इस संबंध में सीएम को भेजे गए पत्र में उन्होंने कहा कि कोविड19 की दूसरी लहर ने प्रदेश भर के नागरिकों का बुरा हाल किया हुआ है। प्रदेश में साढ़े तीन लाख संक्रमण और पौने छह हजार मौतों से लोगों के दिलों में दहशत का वातावरण व्याप्त है। पूरे प्रदेश में लोगों के रोजगार बंद हैं। चाहे वो छोटे रोजगार हों अथवा बड़े। चारधाम यात्रा स्थगित होने से यात्रा सीजन पर निर्भर पांच लाख परिवार आज संकट के दौर से गुजर रहे हैं। कर्फ्यू की वजह से बाजार बंद हैं व दुकानदार खाली हैं। पब्लिक ट्रांसपोर्ट ट्रक, टैक्सी, मैक्सी, ऑटो, विक्रम, ई रिक्शा सब ठप्प पड़े हैं। मजदूर, राजमिस्त्री, कारपेंटर, सैलून, कोचिंग सेंटर भी बंद हैं।
उन्होंने कहा कि इन सब छोटे बड़े व्यवसायों से जुड़े लोगों के घरों में अब चूल्हा जलना मुश्किल हो रहा है। सरकार कहीं ऐसे लोगों की सहायता में नजर नहीं आ रही। लोगों की सहायता के लिए राज्य सरकार, जिसमें केंद्र का ताकतवर इंजन भी जुड़ा है, उसे जनता के पेट भरने का तो कम से कम इंतजाम जरूर करना चाहिए। इसलिए उत्तराखंड के प्रत्येक राशन कार्ड धारक चाहे को प्रति यूनिट दस किलो गेहूं, पांच किलो चावल एक किलो दाल व एक किलो चीनी अगले छह माह तक मुफ्त में उपलब्ध कराए, जिससे राज्य में कोई भूखा न सोये। उन्होंने सीएम से मांग की है कि तत्काल इस दिसा में सार्थक पहल की जाए। राज्य सरकार ने जिस तरह से जनता को स्वास्थ्य सेवाओं में भारी निराश किया वो कम से कम जनता के चूल्हे को नहीं बुझने देने का पुख्ता इंतजाम अवश्य करेगी।

1 thought on “कांग्रेस उपाध्यक्ष धस्माना ने कहा-हर राशन कार्डधारक को छह माह तक दें फ्री राशन, सीएम को भेजा पत्र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *