June 16, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

भारत में एक दिन में कोरोना से मौत का टूटा विश्व रिकॉर्ड, अब तक एक हजार चिकित्सकों की मौत, उत्तराखंड में नए केस चार हजार के पार

1 min read
बुधवार की सुबह केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में पिछले 24 घंटे में पूरे देश में 4529 लोगों की कोरोना की वजह से जान गई है।

 

भारत में कोरोनावायरस का कहर जारी है। अब कहर का असर सीधे मौत के रूप में देखा जा रहा है। कोरोना वायरस के नए मामलों में जहां थोड़ी गिरावट देखने को मिल रही है, वहीं मौत के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। बुधवार की सुबह केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में पूरे देश में 4529 लोगों की कोरोना की वजह से जान गई है। बताया जा रहा है कि एक दिन का यह आंकड़ा पूरे विश्व में अब तक सबसे ज्यादा है। वहीं, इस दौरान 267334 नए मामले दर्ज किए गए हैं। इसके साथ ही कुल समंक्रमितों की संख्या 25496330 पहुंच गई है। देश में अभी भी 3226719 कोरोना वायरस के सक्रिय मामलें हैं।
साथ ही पिछले 24 घंटे में 389851 लोगों ने कोरोना को मात दी है। इस दौरान 1312155 लोगों को कोरोना का टीका लगाया गया है। अब तक 185809302 लोगों को टीका लगाया जा चुका है। पिछले एक दिन में 2008296 लोगों की कोरोना जांच की गई है। भारत की पॉजिटिविटी रेट में भी गिरावट हुई है, वह गिरकर 13.31 फीसद पहुंच गई है।
एक हजार चिकित्सकों ने गंवाई जान
दो दिन पूर्व देश में कोरोना संकट के चलते महज एक दिन में ही 50 डॉक्टरों की मौत का मामला सामने आया है। भारत में इस साल आई कोरोना की दूसरी लहर में अब तक 244 डॉक्टर जान गंवा चुके हैं। इससे पहले बीते साल कोरोना की पहली लहर में देश में 736 चिकित्सकों की मौत हो गई थी। इस तरह कोरोना के चलते अब तक देश में करीब 1000 डॉक्टरों की मौत हो चुकी है। चिकित्सकों की मौत के संबंध में ये दावा आइएमए की ओर से किया गया है। आइएमए से जुड़े चिकित्सकों का कहना है कि केंद्र सरकार ने ऐसी मौत पर 50 लाख के मुआवजे की घोषणा की थी। सिर्फ अब तक चार चिकित्सकों को ही ये राशि मिली है। अब चिकित्सक ऐसे मृतक के परिवारों की मदद को चंदा एकत्र कर रहे हैं।
एक दिन राहत के बाद उत्तराखंड में फिर बढ़े केस
उत्तराखंड में एक दिन राहत के बाद मंगलवार को फिर नए कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा चार हजार के पार हो गया। मंगलवार 18 मई की शाम स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 24 घंटे में 4785 नए कोरोना के संक्रमित मिले। 7019 लोग स्वस्थ हुए। राहत की बात ये है कि कई दिनों के बाद मौत का आंकड़ा सौ से नीचे आया। मंगलवार को 79 लोगों की कोरोना से मौत हुई।
सोमवार 17 मई 3719 नए संक्रमित मिले थे और 136 लोगों की मौत हुई थी। शनिवार 15 मई को सर्वाधिक 197 मौत दर्ज की गई थी। रविवार 16 मई को 4496, शनिवार को 15 मई को 5654, शुक्रवार 14 मई को 5775, गुरुवार 13 मई को प्रदेश में 7127 नए संक्रमित मिले थे। वहीं, सात मई को सर्वाधिक 9642 नए कोरोना संक्रमित मिले थे।
अब तक प्रदेश में नए संक्रमितों के मामले में तीन बार आठ हजार का आंकड़ा एक दिन में पार हो चुका है। वहीं, पहली बार नौ हजार का आंकड़ा शुक्रवार सात मई को पार हुआ था। यदि टीकाकरण की बात की जाए तो मंगलवार 18 मई को 375 केंद्र में 23750 लोगों को कोरोना के टीके लगाए गए। साथ ही कंटेनमेंट जोन 549 हो गए हैं। यहां एक तरीके से पूर्ण लॉकडाउन है। उत्तराखंड में 25 मई की सुबह तक कोरोना कर्फ्यू एक सप्ताह तक और बढ़ा दिया गया है।
एक्टिव केस हुए 76232
उत्तराखंड में कोरोना के एक्टिव केस 76232 हो गए हैं। अब कुल संक्रमितों का संख्या 2957750 हो गई है। इनमें 209196 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। अब तक कोरोना से 5132 लोगों की मौत हो चुकी है। मृत्यु दर 1.74 फीसद है।
सर्वाधिक संक्रमित दून में
नए संक्रमितों का आंकड़ा नीचे आने के बाद मंगलवार को दून में फिर से नए संक्रमितों की संख्या एक हजार के पार हो गई। दून में 1226, हरिद्वार में 555, पौड़ी गढ़वाल में 509, नैनीताल में 442, उधमसिंह नगर में 372, टिहरी में 348, अल्मोड़ा में 320, रुद्रप्रयाग में 241, चमोली में 195, उत्तरकाशी में 174, बागेस्वर में 161, चंपावत में 124, पिथौरागढ़ में 118 नए संक्रमित मिले।
549 स्थानों पर लॉकडाउन
उत्तराखंड में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच 549 स्थानों पर कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं। यहां लॉकडाउन की स्थिति है। ऐसे स्थानों में सामाजिक, धार्मिक, व्यापारिक गतिविधियां प्रतिबंधित हैं। वहीं, लोगों को घरों से बाहर निकलने की अनुमति नहीं है। एक परिवार के एक सदस्य को आवश्यक वस्तु के लिए मोबाइल वेन तक जाने की अनुमति है। इन क्षेत्र में देहरादून में 116, हरिद्वार में 45, नैनीताल में 55, पौड़ी में 19, उत्तरकाशी में 93, उधमसिंह नगर में 70, चंपावत में 34, चमोली में 14, टिहरी में 49, रुद्रप्रयाग में 24, पिथौरागढ़ में 9, अल्मोड़ा में 19, बागेश्वर में 2 कंटेनमेंट जोन हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *