June 15, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

आज भी उजागर हो रहे टाइटैनिक के रहस्य, एक बच्ची ने संदेश लिखकर बोतल में रख फेंका था समुद्र में, जानिए क्या लिखा

1 min read
लग्जरी जहाज टाइटैनिक के समुद्र में डूबे हुए सौ साल से ज्यादा समय बीत गया है। इसके बावजूद इस जहाज से जुड़े रहस्य आज भी उजागर हो रहे हैं। ऐसा ही एक रहस्य है-एक बच्ची की ओर से लिखा संदेश।


लग्जरी जहाज टाइटैनिक के समुद्र में डूबे हुए सौ साल से ज्यादा समय बीत गया है। इसके बावजूद इस जहाज से जुड़े रहस्य आज भी उजागर हो रहे हैं। ऐसा ही एक रहस्य है-एक बच्ची की ओर से लिखा संदेश। उसने इस संदेश को लिखकर बोतल में डाल दिया था। फिर बोतल को समुद्र में फेंक दिया। इस संदेश को समुद्र में डालने के दो दिन बाद ही टाइटैनिक जहाज डूब गया था। इसमें कई लोगों की मौत हुई थी।
अटलांटिक में डूबे टाइटैनिक लग्जरी जहाज का ऐसा ही एक रहस्य है कागज का नोट।
10 अप्रैल 1912 को जहाज इंग्लैंड से न्यू यॉर्क के लिए रवाना हुआ था। 14 अप्रैल, 1912 की रात रविवार के दिन जहाज समुद्र में बर्फ के एक पहाड़ से टकरा गया। टकराने के महज दो घंटे 40 मिनट के अंदर जहाज डूब गया। 15 अप्रैल, 1912 को सुबह 2.20 पर दुनिया का सबसे विशालकाय जहाज डूब गया।


13 अप्रैल, 1912 के नोट की सत्यता की जांच शोधकर्ताओं द्वारा की जा रही है। डेलीमेल के अनुसार, पत्र मैथिल्डे लेफ्वेवर नामक एक 12 वर्षीय फ्रांसीसी लड़की ने लिखा था। वह टाइटैनिक पर दुर्भाग्यपूर्ण यात्रियों में से एक थी। वह अपनी मां के साथ यात्रा करते हुए, वह अपने पिता और भाई-बहनों से मिलने के लिए न्यूयॉर्क गई जा रही थीं।
लड़की ने इस बोतल को पानी में संदेश के साथ फेंक दिया था। जहाज के डूबने के कुछ समय पहले। फ्रेंच में हस्तलिखित नोट में लिखा है-मैं इस बोतल को अटलांटिक के बीच में समुद्र में फेंक रही हूं। हम कुछ दिनों में न्यूयॉर्क पहुंचने वाले हैं। अगर कोई उसे पाता है, तो लेविब्रे परिवार को लीविन में बताएं।
बोतल में डालकर समुद्र में फेंका गया ये संदेश 2017 में न्यू ब्रंसविक में पाया गया था। अब ये आम जनता के लिए ऑनलाइन सामने आया है। इसे आगे की जांच के लिए यूनिवर्स ड्यू क्यूबेक द रिमोस्की भेजा दिया गया। यह अभी भी स्पष्ट नहीं है कि क्या नोट वास्तव में उस समय का है, जब जहाज डूब गया था। शिक्षाविद उन लोगों से कुछ सुराग मिलने की उम्मीद कर रहे हैं जो टाइटैनिक के अध्ययन के विशेषज्ञ हैं या यहां तक ​​कि यात्रियों से संबंधित लोग हैं जो बोर्ड पर थे।
पुरातत्वविद निकोलस ब्यूड्री ने कहा-डेलीमेल द्वारा उद्धृत 20वीं शताब्दी की शुरुआत में इस तरह की बोतल बनाने में इस्तेमाल की जाने वाली तकनीकों के अनुरूप बोतल और कांच की रासायनिक संरचना पर मोल्ड और उपकरण के निशान सुसंगत हैं। आरएमएस टाइटैनिक एक ब्रिटिश यात्री लाइनर था, जो उत्तरी अटलांटिक महासागर में लगभग 1500 सवार यात्रियों के साथ डूब गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *