June 15, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

पर्यावरणविद सुंदरलाल बहुगुणा के फेफड़ों में पाया गया संक्रमण, एम्स में करा रहे हैं कोरोना का इलाज

1 min read
देश के जाने माने पर्यावरणविद सुंदर लाल बहुगुणा के फेफड़ों में संक्रमण पाया गया है। कोरोना संक्रमित होने की वजह से उन्हें शनिवार आठ मई को एम्स ऋषिकेश में भर्ती कराया गया था।


देश के जाने माने पर्यावरणविद सुंदर लाल बहुगुणा के फेफड़ों में संक्रमण पाया गया है। कोरोना संक्रमित होने की वजह से उन्हें शनिवार आठ मई को एम्स ऋषिकेश में भर्ती कराया गया था। करीब 94 वर्षीय बहुगुणा को बुखार व खांसी की शिकायत थी। उन्हें एनआरबीएम मास्क के माध्यम से उन्हें 8 लीटर ऑक्सीजन सपोर्ट पर रखा गया है व संस्थान के चिकित्सकों की टीम उनके स्वास्थ्य की निगरानी व उपचार में जुटी है।
बीते मंगलवार को कॉर्डियोलाजी विभाग के चिकित्सकों की टीम ने पर्यावरणविद् सुन्दर लाल बहुगुणा की हृदय संबंधी विभिन्न जांचें की थी। इसके अलावा उनके दांए पैर में सूजन आने की शिकायत पर उनकी डीवीटी स्क्रीनिंग भी की गई थी। उनके स्वास्थ्य के बाबत जानकारी देते हुए एम्स के जनसंपर्क अधिकारी हरीश मोहन थपलियाल ने बताया कि जांचोपरांत उनके फेफड़ों में संक्रमण पाया गया है। उनका ईको और एचआरसीटी टेस्ट भी किया गया।
उन्होंने बताया कि चूंकि पिछले लम्बे समय से उनका घर में बिस्तर पर ही उपचार चल रहा था। ऐसे में उनके शरीर में बेड सोर उभर गए हैं। चिकित्सकों के अनुसार बहरहाल उन्हें एनआरबीएम मास्क के माध्यम से 8 लीटर ऑक्सीजन सपोर्ट पर रखा गया है और बुधवार को उनका सेचुरेशन लेवल 95 प्रतिशत पाया गया। उन्होंने बताया कि कोविड आईसीयू वार्ड में विशेषज्ञ चिकित्सकों की टीम की निगरानी में उनका आवश्यक उपचार जारी है।
चिपको आंदोलन के हैं प्रणेता
चिपको आंदोलन के प्रणेता सुंदरलाल बहुगुणा का जन्म नौ जनवरी सन 1927 को देवभूमि उत्तराखंड के मरोडा नामक स्थान पर हुआ। प्राथमिक शिक्षा के बाद वे लाहौर चले गए और वहीं से बीए किया। सन 1949 में मीराबेन व ठक्कर बाप्पा के सम्पर्क में आने के बाद ये दलित वर्ग के विद्यार्थियों के उत्थान के लिए प्रयासरत हो गए। उनके लिए टिहरी में ठक्कर बाप्पा होस्टल की स्थापना भी की। दलितों को मंदिर प्रवेश का अधिकार दिलाने के लिए उन्होंने आन्दोलन छेड़ दिया।
अपनी पत्नी श्रीमती विमला नौटियाल के सहयोग से इन्होंने सिलयारा में ही ‘पर्वतीय नवजीवन मण्डल’ की स्थापना भी की। सन 1971 में शराब की दुकानों को खोलने से रोकने के लिए सुंदरलाल बहुगुणा ने सोलह दिन तक अनशन किया। चिपको आन्दोलन के कारण वे विश्वभर में वृक्षमित्र के नाम से प्रसिद्ध हो गए। उत्तराखंड में बड़े बांधों के विरोध में उन्होंने काफी समय तक आंदोलन भी किया। सुन्दरलाल बहुगुणा के अनुसार पेड़ों को काटने की अपेक्षा उन्हें लगाना अति महत्वपूर्ण है। बहुगुणा के कार्यों से प्रभावित होकर अमेरिका की फ्रेंड ऑफ नेचर नामक संस्था ने 1980 में उन्हें पुरस्कृत भी किया। इसके अलावा उन्हें कई सारे पुरस्कारों से सम्मानित किया गया। पर्यावरण को स्थाई सम्पति माननेवाला यह महापुरुष आज ‘पर्यावरण गाँधी’ बन गया है।

1 thought on “पर्यावरणविद सुंदरलाल बहुगुणा के फेफड़ों में पाया गया संक्रमण, एम्स में करा रहे हैं कोरोना का इलाज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *