May 16, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

उत्तराखंड में कोरोना से सर्वाधिक 128 मौत, एक्टिव केस 55 हजार के पार, टीकाकरण घटा, उच्च शिक्षण संस्थाएं अग्रिम आदेश तक बंद

1 min read
उत्तराखंड में एक बार फिर से कोरोना ने नया रिकॉर्ड बनाया है। सोमवार तीन मई की शाम को स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक प्रदेश में 128 लोगों की मौत हुई।

उत्तराखंड में एक बार फिर से कोरोना ने नया रिकॉर्ड बनाया है। सोमवार तीन मई की शाम को स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक प्रदेश में 128 लोगों की मौत हुई। वहीं, 5403 संक्रमित मिले। एक्टिव केस की संख्या 55436 पहुंच गई है। वहीं, 3344 लोग कोरोना को मात दे चुके हैं। इससे पहले 30 अप्रैल को 122 लोगों की कोरोना से जान चली गई थी। मौत के ये अब तक का सर्वाधिक आंकड़ा है। 28 अप्रैल को सर्वाधिक 6954 नए संक्रमित मिले थे। इसी माह अप्रैल में ये लगातार नवीं बार है कि जब एक दिन में पांच हजार से ज्यादा संक्रमित मिले। वहीं, दो बार छह हजार का आंकड़ा भी पार हो चुका है। वहीं, सोमवार को 173 केंद्र में 8941 लोगों को कोरोना के टीके लगाए गए। ये संख्या बहुत ही कम है। पहले हर दिन रोजाना तीस से चालीस हजार लोगों को टीके लगाए जा रहे थे। एक दिन तो ये आंकड़ा एक लाख के पार भी पहुंचा था। उधर, उच्च शिक्षण संस्थानों को अग्रिम आदेश तक बंद रखने का निर्णय किया गया है। कई शहरों में छह मई तक कर्फ्यू है। साथ ही प्रदेश भर में 282 कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं।


अब तक कुल 2930 मौत, सर्वाधिक संक्रमित दून में मिले
उत्तराखंड में कोरोना के कुल संक्रमितों की संख्या 197023 हो गई है। इनमें से 134488 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। अब तक कोरोना से 2930 लोगों की जान जा चुकी है। सोमवार को देहरादून में सर्वाधिक 2026 संक्रमित मिले। हरिद्वार में 676, उधमसिंह नगर में 656, नैनीताल में 458, टिहरी गढ़वाल मं 415, चंपावत में 215, उत्तरकाशी में 192, चमोली में 169, अल्मोड़ा में 167, पिथौरागढ़ में 150, पौड़ी में 139, बागेश्वर में 105 संक्रमित मिले।


यदि आप कोरोना पॉजिटिव हैं तो करें ये उपाय
आप कोरोना पोजटिव हैं घबराएं नहीं, निम्नानुसार दवाईओं का नियमित सेवन करें-
1-Tab Ivermectin 12 mg- एक गोली रोज सुबह शाम खाने के बाद तीन दिन तक।
2-Tab Azithromycin 500mg- एक गोली रोज सुबह खाने के बाद 3 दिन तक।
3-Tab Doxi 100mg- एक गोली रोज सुबह शाम खाने के बाद 7 दिन तक
4-Tab Paracetamol 650mg- एक गोली जब भी बुखार आए।
5-Tab Limcee500 (Ascorbic Acid 500)- दिन में तीन बार खाने से पहले 10 दिन तक।
6-Tab Zinconia (Elemental Zinc 50mg) -सुबह शाम खाने से पहले 10 दिन तक।
7-Calcirol Sachet (Cholicalciferol 6000IU)- दूध के साथ हफ्ते में एक बार एक महीने तक, उसके बाद महीने में एक बार।
विशेष सलाह
1 -प्रतिदिन 3 से 4 लीटर गुनगुना पानी पीयें।
2- दिन में तीन बार भाप लें।
3- आठ घंटे सोयें।
4- प्रीतिदिन हल्का व्यायाम करें अथवा टहलें।
5- ऑक्सीजन मॉनिटर करें
विशेष – जब बुखार 5 दिन बाद भी रहे एवं ऑक्सीजन लेवल 95 फीसद से कम हो और सांस लेने में तकलीफ हो तो तुरंत डॉक्टर की सलाह के बाद ही steroid लें।
लिंक- http://www.esanjeevaniopd.in/Register
Regards: Uttarakhand Health and Family Welfare Society.


सीएम ने गुजरात से मांगी ऑक्सीजन
उत्तराखंड में बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने आज गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी से फोन पर बात करते हुए प्रदेश को ऑक्सिजन सिलेंडर उपलब्ध कराने का आग्रह किया। मुख्यमंत्री रूपाणी ने मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के आग्रह पर उत्तराखंड को हर सम्भव मदद दिलाने का भरोसा दिलाया ।
समस्त सरकारी और निजी उच्च शिक्षण संस्थान अग्रिम आदेशों तक बन्द
कोरोना की दूसरे लहर में कोविड 19 के बढते संक्रमण के दृष्टिगत उच्च शिक्षा विभाग ने विभागीय मंत्री डॉ. धन सिंह रावत के अनुमोदन के पश्चात राज्य के समस्त राजकीय एवं निजी विश्वविद्यालय तथा महाविद्यालयों को तत्काल प्रभाव से अग्रिम आदेश तक बंद करने के निर्देश निर्गत किये गए हैं। विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों में अध्ययनरत छात्र छात्राओं तथा कार्मिकों सहित आमजन मानस की सुरक्षा के निमित्त राज्य के समस्त राजकीय एवं निजी विश्वविद्यालय तथा महाविद्यालयों को तत्काल प्रभाव से बंद करने का आदेश शासन से जारी किया गया है। इसके पूर्व कोविड 19 के पहली लहर के पश्चात विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों में पठन-पाठन सुचारु करने के उद्देश्य से शासन द्वारा 01 मार्च 2021 से ऑफलाइन मोड में भौतिक रूप से खोला गया था। किन्तु पुनः कोविड 19 के बढ़ते प्रकोप के कारण संक्रमण की रोकथाम एवं व्यापक जन सुरक्षा के उद्देश्य से विश्वविद्यालयों एवं महाविद्यालयों को पुनः बंद करने का आदेश उच्च शिक्षा विभाग से निर्गत किया गया है।


छात्र-छात्राओं के अध्ययन के व्ययधान को कम करने के उद्देश्य से ऑनलाइन माध्यम से पठन-पाठन जारी रखने के निर्देश दिए गए हैं। महाविद्यालयों में ऑनलाइन माध्यम से पठन-पाठन को सुचारू बनाये रखने के उद्देश्य से समस्त राजकीय महाविद्यालयों में 4G की सेवा उपलब्ध करा दी गयी है। ऑनलाइन पठन पाठन की मॉनिटरिंग शासन एवं निदेशालय द्वारा समय समय पर होती रहेगी। इसके साथ ही विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालयों के समस्त अधिकारियों एवं कार्मिकों को अपने मुख्यालय पर बने रहने के निर्देश भी दिए गए हैं।
विभागीय मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने अपने बयान में यह कहा गया है कि सरकार छात्रों सहित आमजनमानस के स्वास्थ्य और सुरक्षा के प्रति गंभीर है। कोविड के कारण छात्र छात्राओं के पठन-पाठन को प्रभावित नहीं होने दिया जाएगा, जिसके लिए सरकार से ऑनलाइन शिक्षण के लिए 4G इंटरनेट सुविधा उपलब्ध कराने सहित हर संभव प्रयास किया जा रहा है। सरकार की प्राथमिकता स्वास्थ्य के साथ साथ शिक्षा भी है।
उपस्थिति के भी निर्देश
उत्तराखण्ड शासन ने दिनांक 28 अप्रैल को जारी शासनदेश संख्या 329/ xxxi(15)G/ 2020-04(सा)/2021 के अनुपालन के क्रम में शासकीय कार्यालयों में समूह क, ख, ग एवं घ कार्मिकों की उपस्थिति सुनिश्चित करने के लिए भी निर्देश दिया गया है। इसके क्रम में समूह क एवं ख वर्ग की उपस्थिति शत प्रतिशत तथा समूह ग एवं घ वर्ग के कार्मिकों की 50 प्रतिशत उपस्थिति चक्रण के आधार पर होगी। इसके साथ ही दिनांक 11 दिसम्बर 2020 के शासनादेश तथा विश्वविद्यालय अनुदान आयोग, शिक्षा मंत्रालय भारत सरकार एवं राज्य सरकार की ओर से समय समय पर कोविड 19 से सुरक्षा के निमित्त निर्गत दिशानिर्देशों का अनुपालन सुनिश्चित करने हेतु निर्देशित किया गया है।
बढ़ाए जा रहे हैं कंटेनमेंट जोन, 282 स्थानों पर लॉकडाउन
कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच 282 स्थानों पर कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं। यहां लॉकडाउन की स्थिति है। ऐसे स्थानों में सामाजिक, धार्मिक, व्यापारिक गतिविधियां प्रतिबंधित हैं। वहीं, लोगों को घरों से बाहर निकलने की अनुमति नहीं है। एक परिवार के एक सदस्य को आवश्यक वस्तु के लिए मोबाइल वेन तक जाने की अनुमति है। इन क्षेत्र में देहरादून में 70, हरिद्वार में 7, नैनीताल में 43, पौड़ी में 14, उत्तरकाशी में 62, उधमसिंह नगर में 48, चंपावत में 20, चमोली में तीन, टिहरी में 9, रुद्रप्रयाग में 3, पिथौरागढ़ में एक, अल्मोड़ा में 2 कंटेनमेंट जोन है।
कई शहरों में कर्फ्यू, बढ़ाई गई अवधि
देहरादून में देहरादून, मसूरी, विकासनगर, हरर्बटपुर, मसूरी, डोईवालाऔर ऋषिकेश, नैनीताल में हल्द्वानी, रामनगर और लालकुआं, पौड़ी में कोटद्वार, स्वर्गाश्रम व लक्ष्मणझूला, टिहरी के कई कस्बों, उधमसिंह नगर, चंपावत, हरिद्वार आदि में तीन मई की सुबह तक कर्फ्यू था। अब इसकी अवधि बढ़ाकर छह मई की सुबह कर दी गई है। यहां आवश्यक वस्तुओं की दुकानें खुलेंगी। अन्य स्थानों पर हर शाम सात बजे से सुबह पांच बजे तक नाइट कर्फ्यू है। कर्फ्यू में दुकान दोपहर के 12 बजे तक ही खुलेंगी।
दून में कर्फ्यू के नियम
-कोविड कर्फ्यू छह मई की सुबह 05 बजे तक प्रभावी रहेगा। इस दौरान सार्वजनिक तथा निजी वाहनों का आवागमन पूर्णतयाः प्रतिबन्धित रहेगा।
-कोरोना कर्फ्यू अवधि में निम्नवत सेवाओं से जुड़े दुकानों व वाहनों को मध्यान्ह 12 बजे तक सशर्त छूट निम्न प्रकार से रहेगी। फल, सब्जी की दुकानें, डेरी, बेकरी, मीट-मछली (वैध लाईसेंसधारी), अण्डे, सरकारी सस्ता गल्ला तथा पशुचारा की दुकाने मध्यान्ह 12 बजे तक ही खुली रह सकेंगी।
-पेट्रोल पम्प व गैस आपूर्ति तथा दवा की दुकानें पूरे समय खुली रहेंगी।
-हवाई जहाज, ट्रेन तथा बस से यात्रा करने वाले व्यक्तियों को आवागमन में छूट रहेगी। शादी और संबंधित समारोहों में अधिकतम 25 व्यक्तियों को ही अनुमति अनुमन्य होगी।
– निर्माण कार्य चलते रहेगे तथा इनसे जुड़े हुए कार्मिक एवं मजदूरो तथा निर्माण सामग्री के वाहनों को आवागमन में छूट रहेगी।
-निर्माण कार्य सीमेन्ट, सरिया, रेत, बजरी, ईट की दुकाने मध्यान्ह 12 बजे तक ही खुली रह सकेगी।
-रेस्टोरेन्ट तथा मिठाई की दुकानों से होम डिलवरी में छूट।
-शव यात्रा तथा अंतिम संस्कार में 20 से अधिक व्यक्ति सम्मलित नही हो सकेंगे।
-मीडिया के लिए उनका आई डी कार्ड ही पास के रूप में मान्य होगा।
-वास्तविक रूप से चिकित्सालय उपचार के लिए जाने वाले व्यक्तियों के वाहनों को आवागमन में छूट होगी।
-कोविङ-19 जांच एवं टीकाकरण हेतु निकटवर्ती केन्द्र तक आवागमन की छूट होगी।
-पोस्ट ऑफिस तथा बैंकिंग सेवाएँ, वित्तीय संस्थान एंव बीमा कम्पनी यथा समय खुले रहेंगे।
-अन्तर्राज्यीय परिवहन के लिए स्मार्ट सिटी के पोर्टल taallamartcitedehindunuk navin पर रजिस्ट्रेशन तथा 72 घण्टे के भीतर की अवधि के कोविड-19 निगेटिव रिपोर्ट की अनिवार्यता होगी।
-आपातकालीन सेवा के वाहनों, आवश्यक सेवा के वाहनों मालवाहक वाहनों, निर्माण सामग्री से संबंधित वाहनों तथा औद्योगिक इकाईयो एवं इनके वाहन व कार्मिको आवगमन अनुमन्य है, इसलिए इन्हें रोका नही जायेगा।
-शासकीय कार्यालयों, बैंकिंग सेवाओं, वित्तीय संस्थान एंव बीमा कम्पनी के कार्मिकों एंव उनके वाहनों को उनके पहचान पत्र/सम्बन्धित कार्यालयाध्यक्ष/शाखा प्रबन्धक द्वारा निर्गत पत्र पर आवागमन की छूट होगी।

1 thought on “उत्तराखंड में कोरोना से सर्वाधिक 128 मौत, एक्टिव केस 55 हजार के पार, टीकाकरण घटा, उच्च शिक्षण संस्थाएं अग्रिम आदेश तक बंद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *