May 16, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

जरूरतमंद का पेट भर रही होप, पुलिस बन रही मददगार, अपने खर्च से कर रही अंतिम संस्कार, ना लाएं नकारात्मक विचार

1 min read
कोरोनाकाल में सबसे पहले संदेश ये ही कि नाकारात्मक विचार मन में ना लाएं। यदि कोरोना हो भी जाता है तो उसे सामान्य रूप से ग्रहण करें।

कोरोनाकाल में सबसे पहले संदेश ये ही कि नाकारात्मक विचार मन में ना लाएं। यदि कोरोना हो भी जाता है तो उसे सामान्य रूप से ग्रहण करें। बस जो नियम हैं, उनका पालन करें। नियमित दवा लें। डॉक्टर की सलाह मानें और सांसों से संबंधित व्यायाम करें। कोरोना से भयभीत न हों। ऑक्सीमीटर से बार बार खुद को ना जांचे। कारण ये है कि उत्तराखंड में भी कोरोना संक्रमण से मौत का प्रतिशत 1.46 है। ऐसे में ये विचारणीय है कि जब हमें खांसी, जुकाम, खरास होती है तो हम कोरोना टेस्ट कराने से पहले तक ठीक क्यों रहते हैं। टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद ही हमें ऐसा क्या हो जाता है कि ऑक्सीजन की जरूरत महसूस होने लगती है। ऐसा सिर्फ हमें घबराहट से होता है। इसलिए मन में नकारात्मक विचार न लाएं। साथ ही कोरोना से संक्रमित परिवारों की मदद करें। इसमें भी कोरोना के नियमों को कभी न भूलें।
कोरोना संक्रमितों को भोजन खिला रही है होप संस्था
देहरादन में आराघर चौक स्थित सामाजिक संस्था होप की ओर से कोरोना संक्रमितों के साथ ही जरूरतमंद लोगों को बाकायदा भोजन की व्यवस्था की जा रही है। संस्था के संस्थापक महामंडलेश्वर स्वामी प्रखर महाराज की प्रेरणा से संस्था के अध्यक्ष एवं नागरिक सुरक्षा संगठन के मुख्य वार्डन डॉ. सतीश अग्रवाल के मुताबिक महानगर देहरादून में अनेक स्थानों पर जरूरतमंद को दिन और रात का भोजन होप संस्था की ओर से उपलब्ध कराया जा रहा है। इसके लिए संस्था के संरक्षक 108 कृष्णागिरी महाराज, हरिमोहन लोहिया एवं एमएल जुयाल पूरी ऊर्जा के साथ सेवा का कार्य कर रहे हैं। संस्था के संरक्षक चंद्रगुप्त विक्रम ने बताया कि विगत लगभग 10 दिनों से जारी सेवा से अनेक जरूरतमंदों को समय पर भोजन उपलब्ध हो पा रहा है। इसके लिए संस्था संरक्षक एमएल जुयाल की ओर से गौरव होटल में तैयार भोजन सूचना मिलने पर प्रत्येक कोविड रोगियों तथा जरूरतमंदों के आवास तक पहुंचाने का कार्य प्रतिदिन दोनों समय किया जा रहा है। संस्था के महासचिव योगेश अग्रवाल ने बताया कि ये कार्य कोरोनाकाल में निरंतर जारी रहेगा।


पुलिस करा रही है अंतिम संस्कार
देहरादून में रायवाला पुलिस को उमा विहार कॉलोनी हरिपुरकलां निवासी ने फोन से सूचना दगी कि उनके पड़ोस में एक व्यक्ति आकाश लांबा (46 वर्ष) पुत्र विजय कुमार लांबा की मौत हो गई। उसके परिजन दिल्ली में रहते हैं। बुजुर्ग परिजन कोरोना संक्रमण के कारण अंतिम संस्कार के लिए नहीं आ पा रहे हैं। ऐसे में पुलिस कर्मियों ने अपने स्वास्थ्य की परवाह किये बिना कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए मृतक व्यक्ति का हिन्दू रीति रिवाज से स्वयं अन्तिम संस्कार किया।
परिजनों ने आने में जताई असमर्थता पुलिस ने किया अंतिम संस्कार
देहरादून में कोतवाली नगर पुलिस को सुप्रा हंडा निवासी नेशविला रोड देहरादून ने सूचना दी कि उनके घर में किराए पर एक महिला मंगला ज्ञान (58 वर्ष) का निधन हो गया। वह मूल रूप से पश्चिम बंगाल की रहने वाली थी, जो अकेले लगभग सात-आठ वर्षों से इनके मकान पर किराए पर निवास कर रही थी। वह कोरोना से संक्रमित थी। उनके परिजनों को सूचना दी गई तो परिजनों ने आने में असमर्थता व्यक्त की। पड़ोसियों ने भी उस महिला के अंतिम संस्कार करने की असमर्थता व्यक्त की। इस पर पुलिस ने महिला का अंतिम संस्कार किया।


घर पहुंचाई दवा
पंडितवाड़ी में एक कोरोना संक्रमित को दवा की आवश्यकता को लेकर पुलिस को फोन आया। फोन करने वाले ने बताया कि आसपास दवा की दुकानें बंद हैं। इस पर पुलिस ने मरीज को घर पर ही दवा उपलब्ध करा दी।


घर पहुंचाया ऑक्सीजन सिलेंडर
नेहरू कालोनी के अंतर्गत जौगीवाला चौकी में पुलिस को ईशा निवासी राजेश्वरी पुरम मोहकमपुर देहरादून ने सूचना दी कि उनके पिता गोविंद सिंह बलूनी निवासी विवेकानंद ग्राम कोरोना से संक्रमित हैं। ऑक्सीजन लेवल अचानक घट चुका है। ऐसे में ऑक्सीजन सिलेंडर की आवश्यकता है। काफी प्रयास के बाद भी उनको कहीं से उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। इस सूचना पर पुलिस ऑक्सीजन सिलेंडर मय किट के साथ लेकर पहुंची और मरीज को ऑक्सीजन की व्यवस्था कर दी गई।
मरीज को अस्पताल में कराया भर्ती
बसंत विहार थाने में एक बीमार महिला की सहायता के लिए फोन आया। ये फोन उत्तर प्रदेश से जगदीश कुमार प्रभारी कंट्रोल रूम मुरादाबाद ने किया। बताया कि उनका परिवार विजय पार्क गायत्री बिहार में रहता है। उनकी बेटी गंभीर रूप से अस्वस्थ होने के कारण अस्पताल जाने में असमर्थ है। सहायता मांगने पर पुलिस ने निजी साधनों से प्राइवेट वाहन उपलब्ध करा कर महिला को आयुरमैक्स अस्पताल विवेक बिहार निकट बलीवाला चौक पर ले जाकर भर्ती करा दिया।


घर घर जाकर सीनियर सिटीजन का जाना हाल, बांटे मास्क
सहसपुर पुलिस ने घर घर जाकर सीनियर सिटीजन के स्वास्थ्य का हाल जाना। साथ ही उन्हें मास्क, सैनिटाइजर आदि वितरीत किए। साथ ही पुलिस ने उनको हर सम्भव मदद का भरोसा दिलाया। किसी ने कोई समस्या नहीं बतायी।


पहुंचाया राशन
विकासनगर कोतवाली पुलिस को अनिल पुत्र राजेंद्र सिंह निवासी तुलाराम बस्ती डॉक्टर गंज विकासनगर देहरादून ने सूचना दी कि उनके पास राशन नहीं है। राशन की आवश्यकता है। इस पर पुलिस ने उनके घर पहुंचकर राशन सामग्री दी।


रायपुर पुलिस ने मरीज को दिया ऑक्सीजन सिलेंडर
रायपुर थाने में अखिलेश कलूडा निवासी बद्रीश कालोनी नेहरुग्राम रायपुर देहरादून ने फोन किया कि उनकी रिश्तेदार सरोज बिष्ट पत्नी भागवत बिष्ट निवासी शास्त्री नगर जोगीवाला देहरादून का स्वास्थ्य खराब है। उन्हें आक्सीजन की आवश्यकता है। इस पर पुलिस ने सिलेंडर की व्यवस्था कर मरीज को ऑक्सीजन लगाई।


50 वरिष्ठ नागरिकों के घर गई पुलिस
रायपुर पुलिस ने घर घर जाकर वरिष्ठ नागरिकों की कुशल क्षेम पूछी। पुलिस के मुताबिक इस दौरान करीब 50 लोगों से मुलाकात की गई। साथ ही उन्हें जरूरत पड़ने पर हर संभव मदद का आश्वासन दिया गया। ऐसे लोगों को पुलिस ने अपने मोबाइल नंबर भी दिए। इनमें कुछ लोगों को दवाई भी उपलब्ध कराई गई।


रात एक बजे मरीज को पहंचाई ऑक्सीजन
ऋषिकेश पुलिस के व्हाट्सएप ग्रुप पर हंसराज पैन्यूली निवासी अमित ग्राम फॉरेस्ट रोड ऋषिकेश ने मैसेज किया कि उनके मामा का स्वास्थ्य अत्यधिक खराब हो गया है। ऑक्सीजन लेवल कम होने के कारण तत्काल ऑक्सीजन की आवश्यकता है। देर रात आए इस मैसेज को पढ़ने के बाद रात करीब एक बजे पुलिस ने ऑक्सीजन सिलेंडर की व्यवस्था कर बीमार व्यक्ति के घर पहुंचाया। इससे के स्वास्थ्य में सुधार आया, एवं उनकी जान बचाई जा सकी।
नेहरू कालोनी पुलिस ने की मदद
नेहरू कालोनी पुलिस को सूचना मिली कि जबपुर सरस्वती विहार में एक व्यक्ति की माताजी का स्वास्थ्य अचानक खराब हो गया है। उन्हें ऑक्सीजन सिलेंडर मय किट की आवश्यकता है। इसकी व्यवस्था वह नहीं हो पा रही है उन्हें सांस लेने में समस्या हो रही है, किन्तु कोविड संक्रमण के डर के कारण कोई भी पड़ोसी या रिश्तेदार उनकी मदद नहीं कर रहा है। इस सूचना पर पुलिस टीम ने ऑक्सीजन सिलेंडर मय किट की व्यवस्था कर मरीज को ऑक्सीजन की व्यवस्था की।

1 thought on “जरूरतमंद का पेट भर रही होप, पुलिस बन रही मददगार, अपने खर्च से कर रही अंतिम संस्कार, ना लाएं नकारात्मक विचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *