June 16, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

दूसरे विभागों के कर्मचारी कर रहे मौज, अब पुलिस, होमगार्ड और पीआरडी कर्मियों की श्मशान घाट पर ड्यूटी

1 min read
उत्तराखंड में कोरोनाकाल में लड़ी जा रही कोरोनावायरस के खिलाफ जंग में पुलिस, होमगार्ड, पीआरडी जवानों के साथ ही स्वास्थ्य कर्मियों तक ही व्यवस्था सीमित हो गई है।


उत्तराखंड में कोरोनाकाल में लड़ी जा रही कोरोनावायरस के खिलाफ जंग में पुलिस, होमगार्ड, पीआरडी जवानों के साथ ही स्वास्थ्य कर्मियों तक ही व्यवस्था सीमित हो गई है। इन्हीं विभागों के कर्मचारियों की ड्यूटी लोगों की मदद के साथ ही अन्य व्यवस्थाओं को लेकर लगाई जा रही है। वहीं, राजस्व जैसे मैनपॉवर वाले विभाग, शिक्षा सहित अन्य सरकारी विभागों के तमाम कर्मचारी वर्क फ्राम होम के चलते घर पर मौज कर रहे हैं। इसके बावजूद अन्य विभागों से कम वेतन लेने के बावजूद पुलिस, होमगार्ड, पीआरडी जवान अपनी जान की परवाह किए बगैर ड्यूटी पर मुस्तैद हैं।
अभी तक कानून व्यवस्था में बिजी रहने वाले इन जवानों को अब कई नई जिम्मेदारी मिली है। पीआरडी जवान कोरोना संक्रमित होम आइसोलेशन वाले मरीजों को घर घर कोरोना किट भी पहुंचा रहे हैं। वहीं, पुलिस कर्मी मुसीबत में फंसे लोगों की मदद तक कर रहे हैं। यही नहीं, कई बार तो जरूरत मंद को अपनी जेब हल्की कर राशन और दवा तक पहुंचाई जा रही है। लोगों को ऑक्सीजन सिलेंडर तक पहुंचाने के हर दिन कई मामले सामने आ रहे हैं।


अब पुलिस, पीआरडी, होमगार्ड कर्मियों की श्मशान घाट में ड्यूटी लगाने के आदेश भी जारी किए गए हैं। पुलिस उप महानिरीक्षक अपराध एवं कानून व्यवस्था डॉ. नीलेश आनंद भरणे ने सभी जिलों के पुलिस कप्तानों को पत्र भेजकर आदेश जारी किए हैं। इसमें कहा गया है कि कोविड-19 संक्रमण से मृत हुए व्यक्तियों के परिवारजनों को मृतक का अंतिम संस्कार करने में कठिनाई हो रही है। ऐसे में सभी अपने जिलों में व्यवस्था बनाने के लिए जिलाधिकारियों से समन्वय स्थापित कर दाह संस्कार स्थल चिह्नित करें। साथ ही आवश्यकतानुसार पीपीई किट युक्त पुलिस कर्मी, होमगार्ड, पीआरडी जवानों की ऐसे स्थलों पर तैनाती की जाए।
पुलिस में पहले से ही वेतनमान कटौती से इन कर्मियों में असंतोष है। वहीं, स्वास्थ्य विभाग में भी उपनल के जरिये कम वेतन में लोग काम कर रहे हैं। घर घर आशा कार्यकर्ता भी जा रही हैं। होमगार्ड और पीआरडी का मानदेय भी मामूली है। वहीं, दूसरे विभागों में 50 हजार से लेकर एक लाख तक वेतन पा रहे लोग इस कोरोनाकाल में घर बैठे हैं।  कुछ का कहना है कि वे तो कोरोना की जंग में अपना योगदान दे रहे हैं और देते रहेंगे। साथ ही दूसरे विभागों के कर्मचारियों की भी ऐसे कार्यों में भूमिका दी जानी चाहिए। ताकी कोरोना के खिलाफ सामूहिक रूप से जंग को जीता जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *