June 16, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

उत्तराखंडः गढ़वाल और कुमाऊं में तैयार होंगे 1400 ऑक्सिजन बेड और आईसीयू, देखें दून में ऑक्सीजन सप्लायरों की सूची

1 min read
सचिव स्वास्थ्य पंकज कुमार पांडेय ने कहा कि उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण को लेकर राज्य सरकार लगातार प्रयास कर रही है। राज्य सरकार ने दो दिनों में 7 मिड लेवल अस्पतालों की अतिरिक्त व्यवस्था की है।


सचिव स्वास्थ्य पंकज कुमार पांडेय ने कहा कि उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण को लेकर राज्य सरकार लगातार प्रयास कर रही है। राज्य सरकार ने दो दिनों में 7 मिड लेवल अस्पतालों की अतिरिक्त व्यवस्था की है। इसके बाद राज्य में 700 ऑक्सीजन सपोर्टेड बेड, 39 आईसीयू और दो वेंटीलेटर अतिरिक्त बढ़ गए हैं। मीडिया सेंटर में प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने बताया कि राज्य सरकार के पास वर्तमान में 12 कोविड अस्पताल, 62 डीसीएससी और 385 कोविड केयर सेंटर काम कर रहे हैं। राज्य में 17 हजार के करीब अस्पतालों में बेड हैं, जबकि 5500 ऑक्सीजन सपोर्टेड बेड, 1302 आईसीयू बेड, 774 वेंटिलेटर कोविड के लिए इस्तमाल किए जा रहे हैं।


जल्द हल्द्वानी और ऋषिकेश में बनेंगे दो अस्थाई अस्पताल
सचिव पंकज कुमार पांडेय ने बताया कि मुख्यमंत्री द्वारा भारत सरकार को अनुरोध किया गया था, जिसके बाद डीआरडीओ की मदद से दो अस्थाई अस्पताल बनने जा रहे हैं। कुमाऊ क्षेत्र के लिए यह अस्पताल हल्द्वानी मेडिकल कॉलेज कैंपस में बनेगा। जिसे सुशीला तिवारी अस्पताल संचालित करेगा। इसके अलावा गढ़वाल क्षेत्र के लिए अस्थाई अस्पताल आईडीपीएल ऋषिकेश में बनेगा। जिसे एम्स ऋषिकेश संचालित करेगा। इन दोनों अस्थाई अस्पतालों में 500 -500 बैड की क्षमता होगी।
हल्द्वानी में बनने वाले अस्थाई अस्पताल में 400 ऑक्सीजन बेड एवं 100 आईसीयू बेड बनाए जाएंगे, जबकि आईडीपीएल ऋषिकेश में 500 बेड ऑक्सीजन सपोर्टेड बनेंगे। राज्य सरकार की मदद से एम्स ऋषिकेश में 100 आईसीयू बेड अलग से बनाए जाएंगे। इसके अलावा हिमालय अस्पताल जौलीग्रांट में डीआरडीओ की मदद से ऑक्सीजन सपोर्टेड 400 बेड तैयार किए जाएंगे। सचिव पंकज पांडे ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग को पूरी उम्मीद है कि अगले कुछ दिनों के भीतर डीआरडीओ की मदद से ऑक्सीजन और आईसीयू सपोर्टेड 1400 नए बेड तैयार हो जाएँगे।
सचिव स्वास्थ्य श्री पंकज कुमार पाण्डेय ने यह भी बताया कि प्रदेश में रेमडेसिविर इंजेक्शन की पर्याप्त व्यवस्था कर दी गई है। राज्य सरकार द्वारा केंद्र को पत्र लिखते हुए अतिरिक्त इंजेक्शन की मांग की गई है।
दवाओं की कालाबाजारी रोकने के लिए बनाया गया कंट्रोल रूम
सचिव पंकज कुमार पाण्डेय ने बताया कि रेमडेसिविर इंजेक्शन के रेट तय करते हुए अस्पतालों को उसी दामों पर इंजेक्शन देने के लिए निर्देशित किया गया है। उन्होंने बताया कि इंजेक्शन और ऑक्सीजन सिलेंडर की कालाबाजारी रोकने के लिए कंट्रोल रूम की व्यवस्था की गई है। आम जनता भी इन नम्बरों 0135 2656202, 9412029536 के जरिये कालाबाजारी शिकायत कर सकती है।
300 रुपए की गई रैपिड एंटीजन टेस्ट की दर
इसके अलावा सचिव स्वास्थ्य पंकज कुमार पाण्डेय ने बताया कि सरकार ने कोविड सम्बंधी जरूरी व्यवस्थाओं के लिए अधिकारियों को अलग-अलग जिम्मेदारी देते हुए नोडल अधिकारी तैनात किया गया है। इनसे रोजाना कार्य प्रगति रिपोर्ट अपर मुख्य सचिव मनीषा पंवार की ओर से ली जाती है। यह भी बताया कि प्रदेश के नर्सिंग छात्रों को जिलेवार मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी के माध्यम से तैनाती दी जा रही है। इसके अलावा राज्य सरकार ने रैपिड एंटीजन टेस्ट की दर को भी कम करते हुए अब मात्र 300 रुपये कर दिया गया है।

देहरादून में ऑक्सीजन सप्लायर की सूची की जारी

देहरादून जिला प्रशासन ने देहरादून में ऑक्सीजन सप्लायरों की सूची जारी कर दी है। अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व ने दस सप्लायरों के नाम व नंबर सूची में जारी किए हैं।

1 thought on “उत्तराखंडः गढ़वाल और कुमाऊं में तैयार होंगे 1400 ऑक्सिजन बेड और आईसीयू, देखें दून में ऑक्सीजन सप्लायरों की सूची

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *