April 14, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

भारत से कोरोना के डबल म्यूटेशन वेरिएंट ने नापी यूएस तक की दूरी, जानिए क्या है ये नया वेरिएंट

1 min read
अभी तक कोरोना विदेशों से भारत की तरफ आ रहा था, अब इसके उलट स्थिति हो गई है। भारत से कोरोना का डबल म्यूटेशन वेरिएंट यूएस तक पहुंच गया है। इससे विदेशों में हड़कंप है।

अभी तक कोरोना विदेशों से भारत की तरफ आ रहा था, अब इसके उलट स्थिति हो गई है। भारत से कोरोना का डबल म्यूटेशन वेरिएंट यूएस तक पहुंच गया है। इससे विदेशों में हड़कंप है। न्यूजीलैंड में तो 23 नए कोरोना केस में 17 वे लोग हैं, जो भारत से लौटे हैं। इस पर न्यूलैंड ने भारत से आने वालों की यात्रा पर 11 से 28 अप्रैल तक प्रतिबंध लगा दिया है। यह प्रतिबंध अभी यह अस्थाई है। यह पहली बार है कि न्यूजीलैंड ने अपने नागरिकों या उस देश में रहने वालों के वापस लौटने पर रोक लगाई है।
वहीं, भारत में बढ़ते मामलों के बीच यूनाइटेड स्टेट्स के कैलिफोर्निया में कोरोना वायरस का एक नया वेरिएंट मिला है, जिसे भारत में फैला हुआ वेरिएंट बताया जा रहा है। यूएस में इस वेरिएंट का पहला मामला मिला है। भारत में कोरोना वायरस का डबल म्यूटेशन वाला वेरिएंट मिला है। इस बीच देश में कोरोना की दूसरी लहर जबरदस्त तेजी से फैल गई है। पहली लहर में जितने मामले आए थे, उससे कहीं ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं।
स्टैनफर्ड क्लीनिकल वाइरोलॉजी लैब ने की पुष्टि
सेन फ्रांसिस्को कोरोनिकल के मुताबिक, स्टैनफर्ड क्लीनिकल वाइरोलॉजी लैब ने जीनोम सीक्वेंसिंग के जरिए भारत में फैल रहे वेरिएंट की पहचान और और पुष्टि की है। लैब डायरेक्टर डॉक्टर बेंजामिन पिंस्की ने इसकी जानकारी दी। यह लैब ऐसे ही सात और संभावित मामलों के नमूनों की जांच कर रहा है और अगले कुछ दिनों में इसकी रिपोर्ट आ जाएगी।
वेबसाइट ने डॉक्टर पिंस्की और कुछ दूसरी मीडिया रिपोर्टों के हवाले से बताया है कि वेरिएंट की पुष्टि स्टैनफर्ड हेल्थ केयर क्लीनिक के एक मरीज में हुई है और माना जा रहा है कि सैंटा क्लारा काउंटी में यह मरीज इस वेरिएंट से संक्रमित हुआ है। यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया सैन फ्रांसिस्को में संक्रामक रोगों के विशेषज्ञ पीटर चिन-हॉन्ग ने क्रॉनिकल को बताया कि भारत वाले वेरिएंट में पहली बार वायरस के दो नए म्यूटेशन मौजूद हैं, जो कि पिछले वेरिएंट्स में देखे गए थे।
ये है डबल म्यूटेंट
बता दें कि भारत में तेजी से फैले संक्रमण के पीछे संभावित रूप से इसी वेरिएंट को माना जा रहा है। इसे ‘डबल म्यूटेंट’ इसलिए कहा जा रहा है, क्योंकि इस वेरिएंट में वायरस के दो नए म्यूटेशन हैं। यानी कि जो शुरुआती वायरस का जीनोम था, उसने दो म्यूटेशन किए। फिर ये दो नए म्यूटेशन आपस में मिल गए। इससे नया वेरिएंट बना। सबसे पहले वायरस के म्यूटेंट वेरिएंट्स यूके, साउथ अफ्रीका और ब्राजील में मिलने शुरू हुए थे।
बाद में भारत में वायरस के दो वेरिएंट्स ने साथ में मिलकर म्यूटेशन कर लिया और नया वेरिएंट बन गए। अब ये वेरिएंट पहली बार यूएस में मिला है। हालांकि, अभी यह नहीं पता चल सका है कि ये नया वेरिएंट पहले के मौजूद वेरिएंट से कितना ज्यादा संक्रामक है या फिर इस्तेमाल में आ रही वैक्सीन का इसपर कितना प्रभाव है।
भारत में एक दिन के संक्रमितों की संख्या सवा लाख के पार
भारत में कोरोनावायरस लगातार अपना कहर बरपा रहा है। पहली लहर के मुकाबले देश में दूसरी कोरोना लहर ज्यादा खतरनाक दिख रही है। पिछले 24 घंटे में देश में सवा लाख पार नए मामले आए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय की आठ अप्रैल की सुबह जारी रिपोर्ट के मुताबिक, एक दिन में 1,26,789 नए कोरोना केस दर्ज किए गए हैं, जबकि इस दौरान 685 लोगों ने कोरोना से अपनी जान गंवाई है। अब तक कुल कोरोना मरीजों की संख्या 1,29,28,574 हो गई है। वहीं, मौत की बात करें तो इस वायरस से अब तक 1,66,862 लोगों की मौत हुई है। अभी देश में कोरोना के सक्रिय मामले 9,10,319 हैं, जिनका इलाज चल रहा है।
इस साल तीसरी बार, एक लाख के पार
भारत में यह तीसरी बार हो रहा है कि नए मामलों की संख्या एक लाख से ऊपर पहुंची है। पहली लहर में कभी भी एक लाख से ऊपर मामले नहीं गए, लेकिन पिछले एक सप्ताह में तीन बार यह आंकड़ा एक लाख पार पहुंच गया। बुधवार की बात करें तो एक दिन में 1 लाख 15 हजार से ज्याद नए मामले सामने आए थे। साथ ही इस दौरान 630 लोगों की मौत हुई थी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *