April 14, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

28 मार्च को फाल्गुन पूर्णिमा व्रत, 29 को खेली जाएगी होली, जानिए मुहूर्त, क्या है वर्जित, होली की कथाएंः आचार्य सुशांत राज

1 min read
28 मार्च को फाल्गुन पूर्णिमा व्रत मनाया जाएगा। डॉक्टर आचार्य सुशांत राज के अनुसार फाल्गुन माह में आने वाली पूर्णिमा तिथि को फाल्गुन पूर्णिमा कहते हैं।

28 मार्च को फाल्गुन पूर्णिमा व्रत मनाया जाएगा। डॉक्टर आचार्य सुशांत राज के अनुसार फाल्गुन माह में आने वाली पूर्णिमा तिथि को फाल्गुन पूर्णिमा कहते हैं। हिन्दू धर्म में फाल्गुन पूर्णिमा का धार्मिक, सामाजिक और सांस्कृतिक महत्व है। इस दिन सूर्योदय से लेकर चंद्रोदय तक उपवास रखा जाता है। धार्मिक मान्यता के अनुसार फाल्गुन पूर्णिमा का उपवास रखने से मनुष्य के दुखों का नाश होता है और उस पर भगवान विष्णु की विशेष कृपा होती है। वहीं इस तिथि को होली का त्यौहार मनाया जाता है।

शुभ मुहूर्त
फाल्गुन पूर्णिमा व्रत 2021 : 28 मार्च, 2021 (रविवार)
फाल्गुन पूर्णिमा व्रत मुहूर्त
मार्च 28, 2021 को 03:29:11 से पूर्णिमा आरम्भ
मार्च 29, 2021 को 00:19:53 पर पूर्णिमा समाप्त
होलिका दहन मुहूर्त
होलिका दहन मुहूर्त :18:36:38 से 20:56:23 तक
अवधि :2 घंटे 19 मिनट
भद्रा पुँछा :10:27:50 से 11:30:34 तक
भद्रा मुखा :11:30:34 से 13:15:08 तक
होली 29, मार्च को
फाल्गुन पूर्णिमा व्रत और पूजा विधि
हर माह की पूर्णिमा पर उपवास और पूजन की परंपरा लगभग समान है। हालांकि कुछ विशेषताएँ भी होती हैं। फाल्गुन पूर्णिमा पर भगवान श्री कृष्ण का पूजन होता है।
-पूर्णिमा के दिन प्रातःकाल किसी पवित्र नदी, सरोवर या कुंड में स्नान करें और उपवास का संकल्प लें।
– सुबह सूर्योदय से लेकर शाम को चंद्र दर्शन तक उपवास रखें। रात्रि में चंद्रमा की पूजा करनी चाहिए।
-इस दिन स्नान, दान और भगवान का ध्यान करें।
-नारद पुराण के अनुसार फाल्गुन पूर्णिमा को लकड़ी व उपलों को एकत्रित करना चाहिए। हवन के बाद विधिपूर्वक होलिका पर लकड़ी डालकर उसमें आग लगा देना चाहिए।
-होलिका की परिक्रमा करते हुए हर्ष और उत्सव मनाना चाहिए।
फाल्गुन पूर्णिमा की कथा
नारद पुराण में फाल्गुन पूर्णिमा को लेकर एक कथा का वर्णन मिलता है। यह कथा राक्षस हरिण्यकश्यपु और उसकी बहन होलिका से जुड़ी है। राक्षसी होलिका भगवान विष्णु के भक्त और हरिण्यकश्यपु के पुत्र प्रह्लाद को जलाने के लिए अग्नि स्नान करने बैठी थी, लेकिन प्रभु की कृपा से भक्त प्रह्लाद सुरक्षित रहे और होलिका स्वयं ही अग्नि में भस्म हो गई।
इस वजह से पुरातन काल से ही मान्यता है कि फाल्गुन पूर्णिमा के दिन लकड़ी व उपलों से होलिका का निर्माण करना चाहिए और शुभ मुहूर्त में विधि विधान से होलिका दहन करना चाहिए। होलिका दहन के समय भगवान विष्णु व भक्त प्रह्लाद का स्मरण करना चाहिए।
29 को खेली जाएगी होली
होली त्यौहार का पहला दिन, फाल्गुन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है। इसके अगले दिन रंगों से खेलने की परंपरा है जिसे धुलेंडी, धुलंडी और धूलि आदि नामों से भी जाना जाता है। होली बुराई पर अच्छाई की विजय के उपलक्ष्य में मनाई जाती है। होली 29 मार्च को खेली जाएगी।
होलिका दहन का शास्त्रोक्त नियम
फाल्गुन शुक्ल अष्टमी से फाल्गुन पूर्णिमा तक होलाष्टक माना जाता है, जिसमें शुभ कार्य वर्जित रहते हैं। पूर्णिमा के दिन होलिका-दहन किया जाता है। इसके लिए मुख्यतः दो नियम ध्यान में रखने चाहिए –
पहला-उस दिन “भद्रा” न हो। भद्रा का ही एक दूसरा नाम विष्टि करण भी है, जो कि 11 करणों में से एक है। एक करण तिथि के आधे भाग के बराबर होता है।
दूसरा-पूर्णिमा प्रदोषकाल-व्यापिनी होनी चाहिए। सरल शब्दों में कहें तो उस दिन सूर्यास्त के बाद के तीन मुहूर्तों में पूर्णिमा तिथि होनी चाहिए।
होलिका दहन का इतिहास
होली का वर्णन बहुत पहले से हमें देखने को मिलता है। प्राचीन विजयनगर साम्राज्य की राजधानी हम्पी में 16वीं शताब्दी का चित्र मिला है जिसमें होली के पर्व को उकेरा गया है। ऐसे ही विंध्य पर्वतों के निकट स्थित रामगढ़ में मिले एक ईसा से 300 वर्ष पुराने अभिलेख में भी इसका उल्लेख मिलता है। कुछ लोग मानते हैं कि इसी दिन भगवान श्री कृष्ण ने पूतना नामक राक्षसी का वध किया था। इसी ख़ुशी में गोपियों ने उनके साथ होली खेली थी।
होलिका अष्टक का 28 मार्च को होगा समापन
डॉक्टर आचार्य सुशांत राज के अनुसार होलिका अष्टक यानि होलाष्टक 21 मार्च से आरंभ हो चुका है और 28 मार्च को इसका समापन होगा। होलाष्टक में आठ दिनों तक कोई भी शुभ कार्य नहीं किए जाते हैं। होली यानि रंगों के पर्व की शुरूआत होलाष्टक के समापन से ही होती है।
नहीं होते शुभ कार्य
लोक मान्यता है कि होलिका अष्घ्टक लगने के बाद कोई भी शुभ कार्य नहीं किये जा सकते। न ही नवविवाहिताएं मायके से ससुराल अथवा ससुराल से मायके ही जा सकती हैं। सदियों से इस मान्घ्यता को ये समझ कर मानते आए हैं कि होलिका अष्टक के बाद शुभ कार्य करने से होलिका देवी नाराज हो जाएंगी। होलाष्टक के शाब्दिक अर्थ पर जाएं, तो होला$ अष्टक अर्थात होली से पूर्व के आठ दिन। होलाष्टक से होली के आने की दस्तक मिलती है, साथ ही इस दिन से होली उत्सव के साथ-साथ होलिका दहन की तैयारियां भी शुरु हो जाती है।
होलाष्टक में ये कार्य रहते हैं निषेध
होलाष्टक के मध्य दिनों में 16 संस्कारों में से किसी भी संस्कार को नहीं किया जाता है। यहां तक की अंतिम संस्कार करने से पूर्व भी शान्ति कार्य किये जाते है। इन दिनों में 16 संस्कारों पर रोक होने का कारण इस अवधि को शुभ नहीं माना जाता है।
ये है कथा
धर्म ग्रंथों के अनुसार भगवान शिव की तपस्या भंग करने की कोशिश करने पर भोलेनाथ से कामदेव को फाल्गुन महीने की अष्टमी को भस्म कर दिया था। प्रेम के देवता कामदेव के भस्म होते ही पूरे संसार में शोक की लहर फैल गई थी। तब कामदेव की पत्नी रति ने शिवजी से क्षमा याचना की और भोलेनाथ ने कामदेव को फिर से जीवित करने का आश्वासन दिया। इसके बाद लोगों ने रंग लेकर खुशी मनाई थी।

आचार्य का परिचय
नाम डॉ. आचार्य सुशांत राज
इंद्रेश्वर शिव मंदिर व नवग्रह शनि मंदिर
डांडी गढ़ी कैंट, निकट पोस्ट आफिस, देहरादून, उत्तराखंड।
मो. 9412950046

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *