April 14, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

युवा कवि महाबीर सिंह नेगी (दौला) की गढ़वाली कविता-टालु

1 min read
युवा कवि महाबीर सिंह नेगी (दौला) की गढ़वाली कविता-टालु


टालु

कुजणि कख हरचि सु टालु,
जु छोटु भि रौन्दू छौ अर बडु भी
कुजणि कख हरचि सु टालु
जु अगने भी रौन्दू छौ अर पिछने भी ||

काला रंगै पैन्ट पर, सफेद रंगों टालु
अर हरी रंगै कमीज पर, लाल रंगो टालु ||
यू भी गजब कमीनेशन छौ
कैकू छौटु रौन्दू छौ कैकू बडु ||
पर रौन्दू जरूर छौ,
कुजणि कख हरचि सु टालु….,……………

घुनु मा लगया टाला,
ब्वौन्जौ मा लगया टाला |
सैरा गात लगया टाला,
पर व्वी सरम नि छैन ||
सभियौ का लगया टाला,
यू भि कपडा चलौणा इक सौलूसन छौ
कुजणि कख हरचि सु टालु……

कवि का परिचय
नाम- महाबीर सिंह नेगी( दौला)
मूल निवास- ग्राम दौला, पोस्ट कंडारा, जिला रुद्रप्रयाग, उत्तराखंड। वर्तमान में कवि गुजरात के अहमदाबाद में नौकरी कर रहे हैं।
Mobil-7251034702

1 thought on “युवा कवि महाबीर सिंह नेगी (दौला) की गढ़वाली कविता-टालु

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *