April 17, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

उत्तराखंडः अब न्याय पंचायतों में शिविर लगाकर फ्री में बनाएं जाएंगे अटल आयुष्मान कार्ड

1 min read
उत्तराखंड में आयुष्मान भारत एवं अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना के तहत राज्य स्वास्थ्य प्राधिकरण की और से अब न्याय पंचायत स्तर पर शिविरों के माध्यम से पात्र लाभार्थियों के आयुष्मान कार्ड बनाये जाएंगे।


उत्तराखंड में आयुष्मान भारत एवं अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना के तहत राज्य स्वास्थ्य प्राधिकरण की और से अब न्याय पंचायत स्तर पर शिविरों के माध्यम से पात्र लाभार्थियों के आयुष्मान कार्ड बनाये जाएंगे। इस अभियान को सफल बनाने के लिये राज्य स्वास्थ्य प्राधिकरण के अध्यक्ष डीके कोटिया ने राज्य के 600 ग्राम प्रधानों को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से ये जानकारी दी। कोटिया ने प्रधानों से कहा कि आयुष्मान कार्ड बनाने में उनकी विशेष भूमिका है। इसलिए न्याय पंचायत क्षेत्र में सभी पात्र लाभार्थियों के कार्ड बन जाएं और कोई भी बिना कार्ड के न रहे।
कोटिया ने कार्ड बनाने के अभियान को आमजन के स्वास्थ्य देखभाल के लिये किया जाने वाला एक पुण्य कार्य बताया। प्रधानों से अपील की कि कार्ड बनवा कर आप लोक कल्याण का कार्य कर रहे हैं। ज्ञातव्य है कि आयुष्मान कार्ड के लिये अभी तक 30 रूपये का शुल्क लिया जा रहा था। भारत सरकार एवं उत्तराखंड सरकार की ओर से निःशुल्क कार्ड बनाये जाने के निर्णय उपरान्त राज्य स्वास्थ्य प्राधिकरण की ओर से न्याय पंचायत स्तर पर जन सेवा केन्द्रों के माध्यम से शिविर आयोजित कर सभी के कार्ड बनाये जाने के लिये विशेष रणनीति अमल में लायी जा रही है। अभी तक 30 रूपये शुल्क देकर 43 लाख कार्ड बन गये हैं। लगभग 35 लाख कार्ड बनाये जाने शेष हैं।
डीके कोटिया ने बताया कि यह शिविर राज्य के 662 न्याय पंचायतों में दो चरणों कमशः 23-27 मार्च 2021 तथा 30 मार्च-5 अप्रैल 2021 के दौरान लगाये जाएंगे। कार्ड बनाये जाने के लिये पंचायती राज तथा महिला एवं बाल विकास विभाग के कर्मचारी एवं अधिकारियों द्वारा सहयोग किया जायेगा और उनके स्तर से आयुष्मान कार्ड बनाये जाने के लिये पात्र लाभार्थियों को प्रेरित भी किया जायेगा।
वीडियो कॉन्फ्रेन्स के दौरान जानकारी दी गयी कि आयुष्मान कार्ड बनाये जाने के दौरान उत्तराखंड के प्रत्येक विकासखंड के अंतर्गत सर्वश्रेष्ठ कार्य करने वाली प्रथम तीन ग्राम पंचायतों को विशेष रूप से पुरस्कृत किया जायेगा। पूरे जिले के अंतर्गत सबसे उत्तम कार्य करने वाले ग्राम पंचायत को राज्य स्तर पर मुख्यमंत्री की ओर से विशेष सम्मान व पुरस्कार दिया जायेगा।
इस अवसर पर पंचायती राज विभाग के निदेशक एवं पंचायती राज सचिव हरीश चन्द्र सेमवाल ने निःशुल्क कार्ड बनाने के अभियान को एक स्वर्णिम अवसर बताया। कहा कि सरकार की ओर से जनता के घर पर जाकर कार्ड बनाने के लिये चलाया जा रहा अभियान एक महत्वपूर्ण पहल है। सेमवाल ने पंचायती राज विभाग एवं महिला एवं बाल विकास विभाग के समस्त कर्मचारियों एवं अधिकारियों को निर्देश दिये कि वह अपने-अपने क्षेत्रों में स्थित जन सेवा केन्द्रों पर लाभार्थियों के शत् प्रशित कार्ड बनवाने में पूर्ण सहयोग प्रदान करें।
विदित है कि राज्य स्वास्थ्य प्राधिकरण द्वारा उन सभी लोगों की सूची जन सेवा केन्द्रों को उपलब्ध करा दी गयी है। जिनके कार्ड बन गये हैं और इस सूची के आधार पर छूटे हुए लोगो के कार्ड बनाये जाने का विवरण ग्राम प्रधानों को उपलब्ध कराया जा रहा है। ताकि उन्हें चिह्नित करते हुए कार्ड बनाये जा सके।
वीडिया कॉन्फ्रेन्स के दौरान राज्य स्वास्थ्य प्राधिकरण की निदेशक डॉ अर्चना श्रीवास्तव, राज्य आईईसी अधिकारी जेसी पाण्डेय, महिला एवं बाल विकास विभाग राज्य अधिकारी मोहित चौधरी, पंचायती राज निदेशालय के अधिकारी एवं जनसेवा केन्द्र के राज्य परियोजना प्रबंधक संदीप शर्मा, एवं परियोजना प्रबंधक पवन गैरोला उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *