Recent Posts

April 17, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

युवा कवि महाबीर सिंह नेगी (दौला) की गढ़वाली कविता-नेगी दा!

1 min read
युवा कवि महाबीर सिंह नेगी (दौला) की गढ़वाली कविता-नेगी दा!


नेगी दा!

गीत हम भी लांदा
बोल हम भी लिखदा||
गीत हम भी सुणदा,
गीत हम भी जणदा||
नेगी दा तुमरा गीतों मा कन भली रस्याण चा
नरु दिदा तुमरा गीतों मा कन भली रस्याण चा

1- तुमरा गीतों मा वसन्त वयार,
तुमरा गीतों मा होंसिया उलार ||
तुमरा गीतों मा उकाल उन्दार,
तुमरा गीतों मा भलू मौल्यार् ||

नेगी दा,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

2-तुमरा गीतों मा धियणी खुदेन्दी,
तुमरा गीतों मा पण्देरि तिसैन्दी ||
तुमरा गीतों मा पहाडो रीत
तुमरा गीतों मा प्रीत ही प्रीत||
नेगी दा,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

3- तुमरा गीतों मा घुघुती घुरान्दी,
तुमरा गीतों मा म्योलडी तिसांदी||
तुमरा गीतों मा ज्वानी की रौड,
तुमरा गीतों मा रॉक एण्ड रोल||
नेगी दा,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
4-तुमरा गीतों मा गंगा जी की औत्
-तुमरा गीतों मा कुरितियो की मौत||
तुमरा गीतों मा समलोण छ भोत,
तुमरा गीतों मा रस्याण छ भोत||

कवि का परिचय
नाम- महाबीर सिंह नेगी( दौला)
मूल निवास- ग्राम दौला, पोस्ट कंडारा, जिला रुद्रप्रयाग, उत्तराखंड। वर्तमान में कवि गुजरात के अहमदाबाद में नौकरी कर रहे हैं।
Mobil-7251034702

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed