April 14, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

एटीएम से पैसे नहीं निकले, फिर आया फोन और उड़ा दिए सवा तीन लाख, नैनीताल पुलिस ने किए तीन साइबर ठग गिरफ्तार

1 min read
उत्तराखंड में नैनीताल जिले की पुलिस ने तीन साइबर ठगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस के मुताबिक ये लोगों को फोन से विश्वास में लेकर उनके खाते से रकम उड़ा देते हैं।

उत्तराखंड में नैनीताल जिले की पुलिस ने तीन साइबर ठगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस के मुताबिक ये लोगों को फोन से विश्वास में लेकर उनके खाते से रकम उड़ा देते हैं। कालाढूंगी निवासी एक व्यक्ति जब इनका शिकार बने तो पुलिस इनकी जांचमें जुट गई थी। इनमें तीन आरोपियों को यूपी से गिरफ्तार किया गया है। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक नैनीताल प्रीति प्रियदर्शिनी ने स्वयं प्रैस वार्ता कर पूरे घटनाक्रम का खुलासा किया। इनसे कई मोबाइल, भारी मात्रा में सिम आदि बरामद किए गए हैं।
ये था प्रकरण
कोटावाग थाना कालाढूगी जनपद नैनीताल निवासी धनानन्द सक्टा पुत्र स्व तारा दत्त एक फरवरी को पीएनबी की आवलाकोट कोटावाग शाखा में पैसे निकालने गए। उन्होंने अपने खाते से दस हजार रुपये निकालने का प्रयास किया, जो नहीं निकले। वहीं, उनके खाते से रकम कट गई। इसके बाद उनके पास बैंक के कस्टमर कैयर के नाम से एक फोन आया। उक्त व्यक्ति ने उनसे बैंक डिटेल ली और इसके बाद उनके खाते से 329999 रुपये किसी दूसरे खाते में ट्रांसफर हो गए। ये राशि करीब एक फरवरी से लेकर 12 फरवरी के बीच ट्रांसफर हुई। इसकी सूचना उन्होंने 14 फरवरी को थाने में दी।
तीन आरोपियों को पकड़ा
इस मामले में पुलिस ने निकाली गई रकम की जांच की और उन खातों की जांच की, जिनमें रकम ट्रांसफर की गई थी। इस पर कुछ संदिग्धों के नाम प्रकाश में आए। इस पर पुलिस ने 72 खोडा कालोनी गाजियाबाद से नवीन चन्द्र सिह पुत्र महेन्द्र सिंह निवासी ग्राम सीमल धार पोस्ट कनौली ताडीखेत थाना रानीखेत अल्मोडा, गौरव मिश्रा पुत्र उमा शंकर मिश्रा ग्राम वहादुर पुर पोस्ट व्लाक सांगीपुर थाना सांगीपुर जिला प्रतापपुर उत्तर प्रदेश को गिरफ्तार किया गया। एक अन्य आरोपी जफर मंसूर पुत्र सैय्यादीन मंसूर निवासी सराय बाजार जाजमऊ कानपुर उत्तर प्रदेश को मंडी गेट गाजीपुर से गिरफ्तार किया। जफर ही नवीन और गौरव को धोखाधड़ी के लिए मोबाइल के सिम उपलब्ध कराता था।
ठगी का तरीका
आरोपियों ने पुलिस को बताया गया कि वे स्पैम मेल के जरिये लोगो के डाटा प्राप्त करते हैं। इसके बाद PNT नम्बरो से फोन करते है। फिर OTP के जरिये उनके पैसे अपने खातो में ट्रांसफर कर देते हैं। इसके बाद ATM से रकम निकाल लेते हैं। ऐसी ठगी वे करीब एक से डेढ़ साल से कर रहे हैं। अब तक वे कई व्यक्तियों को शिकार बना चुके हैं। पूछताछ में नवीन ने बताया कि उसके खाते में करीब डेढ़ लाख और गौरव के खाते में चार लाख रुपये ठगी के जमा हैं।
बरामदगी
1- मोबाइल -13
2-सिम-57 अलग-अलग कम्पनी के
3- चैक बुक -02
4-पास बुक -01
5- एटीएम कार्ड -08
6- वाई फाई डिवाइस -01
7- पैन कार्ड -01
8- आधार कार्ड -01
9- पहचान पत्र -01
10- रूपये -31500/-
गिरफ्तार करने वाली टीम
1-दिनेश नाथ महन्त थानाध्यक्ष कालाढ़ूंगी ,
2-उप निरीक्षक जगदीप सिंह नेगी ,
3- कांस्टेबल विनीत चौहान
4- कांस्टेबलगिरीश भट्ट (SOG)
एसएसपी की अपील
पुलिस अधीक्षक ने आमजन से अपील की है कि वे अपना OTP नंबर किसी से भी शेयर ना करें। यदि आपको customer care number की आवश्यकता पड़ती है तो आप अपने ATM/ passbook card के पीछे लिखे customer care number पर ही हमेशा कॉल करें। साथ ही कस्टमर केयर नंबर पर बात करने के दौरान भी ओटीपी, पासवर्ड आदि की डिटेल न दें। किसी भी प्रकार से Google या अन्य internet के माध्यम से दिए जाने वाले customer care number का बिल्कुल भी इस्तेमाल ना करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *