April 14, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

आठ साल की पोती को बचाने के लिए दादी ने मारी नदी में छलांग, दोनों लापता

1 min read
उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल में पिथौरागढ़ जिले में पानी पीने के दौरान आठ साल की बच्ची पैर फिसलने से काली नदी में जा गिरी। पोती को बचाने के लिए 52 वर्षीय दादी ने भी नदी में छलांग लगा दी। दोनों ही नदी के बहाव में लापता हो गए।


उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल में पिथौरागढ़ जिले में पानी पीने के दौरान आठ साल की बच्ची पैर फिसलने से काली नदी में जा गिरी। पोती को बचाने के लिए 52 वर्षीय दादी ने भी नदी में छलांग लगा दी। दोनों ही नदी के बहाव में लापता हो गए। दोनों गांव के लिए किसी बच्चे के जनेऊ संस्कार में भाग लेने के लिए लाटेश्वर मंदिर पहुंचे हुए थे। दोनों की तलाश में एसडीआरएफ की टीम जुटी है।
घटना रविवार की दोपहर झूलाघाट से करीब छह किमी दूर सीमू के लाटेश्वर मंदिर के निकट की है। काली नदी किनारे नेपाल सीमा से लगे कानड़ी ग्राम पंचायत के राजस्व गांव सीमू में काली नदी किनारे प्रमुख तीर्थस्थल लाटेश्वर मंदिर है। इस मंदिर में स्थानीय किशोरों का उपनयन संस्कार होता है। रविवार को भी गांव के एक किशोर का यहां पर जनेऊ संस्कार था।
इसमें भाग लेने तारा देवी 52 वर्ष पत्नी खड़क सिंह रावत अपनी आठ वर्षीय पोती लतिका पुत्री सुरेश सिंह रावत के साथ गई थी। लतिका को प्‍यास लगी तो करीब एक बजे के वह पानी पीने के लिए अपनी दादी तारा देवी के साथ काली नदी किनारे गई। पानी पीने के दौरान लतिका का पांव फिसल गया और वह नदी में गिर पड़ी। उसे बहते देख दादी तारा देवी ने बचाने के लिए काली नदी में कूद मार दी और वह भी नदी के तेज बहाव में बह गई।
कार्यक्रम स्‍थल पर लोगों को इसकी खबर लगी तो मौके पर भीड़ जुट गई। सूचना झूलाघाट थाने को दी गई। सूचना मिलते ही पुलिस दल के साथ एसएसबी चौकी से जवान भी पहुंचे। थानाध्यक्ष तारा सिंह राणा ने बताया कि एसडीआरएफ की टीम को भी बुलाया गया है। दोनों की खोज जारी है लेकिन उनका का पता नहीं चल सका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *