April 17, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

गीतकार ललित मोहन गहतोड़ी की कुमाऊंनी में होली रचना, पढ़िए और आनंद लीजिए

1 min read
गीतकार ललित मोहन गहतोड़ी की कुमाऊंनी में होली रचना, पढ़िए और आनंद लीजिए।

बल…बूबू धादधधयाय…
आमा भात पकायो छ….बल
अच्हारे आमा भात पकायो छ।।टेक।।
बूबू धाद धधयाय…
आमा भात पकायो छ।।टेक।।
बल बूबू घाद धधयाय…
आ लौ खाली खाली भात पाकि गौ…
बासमति को भात बनो है।।1।।
सोटी भटिया दाल बनायो छ…
बल बूबू धाध धधयाय…
आ लौ खाली खाली भात पाकि गौ…
धनिया, खुरशानी, हल्दी, जीरा।।2।।
सिलबट्टा में पिसवायो छ…
बल बूबू धाध धधयाय…
आ लौ खाली खाली भात पाकि गौ…
धुनू गदरयानि को तड़का लगायो।।3।।
डाडूं में छाई करायो छ…
बल बूबू धाध धधयाय…
आ लौ खाली खाली भात पाकि गौ…

आ खाईले आ खाईले लड़को।।4।।
झोली टपक्या संग बनायो छ…
बल बूबू धाध धधयाय…
आ लौ खाली खाली भात पाकि गौ…

काका, काकी, ठुलतिना, नानतिना।।5।।
सबकै संगे बैठायो छ…
बल बूबू धाध धधयाय…
आ लौ खाली खाली भात पाकि गौ…

कवि का परिचय
नाम-ललित मोहन गहतोड़ी
शिक्षा :
हाईस्कूल, 1993
इंटरमीडिएट, 1996
स्नातक, 1999
डिप्लोमा इन स्टेनोग्राफी, 2000
निवासी-जगदंबा कालोनी, चांदमारी लोहाघाट
जिला चंपावत, उत्तराखंड।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *