July 3, 2022

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

प्रसिद्ध साहित्यकार एवं पत्रकार मंगलेश डबराल कोरोना से संक्रमित, हालत नाजुक, मदद की दरकार

1 min read

प्रतिष्ठित साहित्य अकादमी सम्मान से सम्मानित, जाने-माने कवि व लेखक मंगलेश डबराल की हालत नाज़ुक है। 72 वर्षीय मंगलेश डबराल कोविड-19 से पीड़ित हैं और गाजियाबाद, वसुंधरा के सेक्टर-4 में ली क्रेस्ट प्राइवेट हॉस्पिटल में भर्ती हैं। वे इस समय आईसीयू में हैं। बताया जा रहा है कि इनके फेपड़े में संक्रमण है। वहां उनकी बेटी देखभाल कर रही हैं। इलाज काफी महंगा है और उन्हें मदद की जरूरत है। उनके चाहने वाले अपने प्रिय कवि के जल्द स्वस्थ्य होने की कामना कर रहे हैं। उनकी बेटी अलमा डबराल उनके साथ मौजूद हैं। संक्रमण की पुष्टि होने के बाद करीब चार दिन पहले उन्हें भर्ती कराया गया था। वह अभी आईसीयू में हैं। संक्रमण उनके फेफड़ों में पहुंच चुका है और वह निमोनिया की समस्या से भी पीड़ित हैं। बताया जा रहा है कि उनकी आर्थिक स्थिति भी ऐसी नहीं है कि महंगा इलाज का खर्चा वहन कर सकें। ऐसे में सोशल मीडिया में उनके परिवार को आर्थिक मदद की अपील की जा रही है।
चर्चित नाम
मंगलेश डबराल समकालीन हिन्दी कवियों में सबसे चर्चित नाम हैं। इनका जन्म 16 मई 1948 को उत्तराखंड में टिहरी गढ़वाल के काफलपानी गाँव में हुआ था। इनकी शिक्षा-दीक्षा देहरादून में हुई। दिल्ली आकर हिन्दी पैट्रियट, प्रतिपक्ष और आसपास में काम करने के बाद वह भोपाल में मध्यप्रदेश कला परिषद्, भारत भवन से प्रकाशित साहित्यिक त्रैमासिक पूर्वाग्रह में सहायक संपादक रहे। इलाहाबाद और लखनऊ से प्रकाशित अमृत प्रभात में भी कुछ दिन नौकरी की। सन् 1983 में जनसत्ता में साहित्य संपादक का पद संभाला। कुछ समय सहारा समय में संपादन कार्य करने के बाद आजकल वे नेशनल बुक ट्रस्ट से जुड़े हैं।
पांच काव्य संग्रह
मंगलेश डबराल के पाँच काव्य संग्रह प्रकाशित हुए हैं। पहाड़ पर लालटेन, घर का रास्ता, हम जो देखते हैं, आवाज भी एक जगह है और नये युग में शत्रु। इसके अतिरिक्त इनके दो गद्य संग्रह लेखक की रोटी और कवि का अकेलापन के साथ ही एक यात्रावृत्त एक बार आयोवा भी प्रकाशित हो चुके हैं।
अनुवादक के रूप में भी ख्याति
दिल्ली हिन्दी अकादमी के साहित्यकार सम्मान, कुमार विकल स्मृति पुरस्कार और अपनी सर्वश्रेष्ठ रचना हम जो देखते हैं के लिए साहित्य अकादमी द्वारा सन् 2000 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित मंगलेश डबराल की ख्याति अनुवादक के रूप में भी है। मंगलेश की कविताओं के भारतीय भाषाओं के अतिरिक्त अंग्रेजी, रूसी, जर्मन, डच, स्पेनिश, पुर्तगाली, इतालवी, फ्रांसीसी, पोलिश और बुल्गारियाई भाषाओं में भी अनुवाद प्रकाशित हो चुके हैं। कविता के अतिरिक्त वे साहित्य, सिनेमा, संचार माध्यम और संस्कृति के विषयों पर नियमित लेखन भी करते हैं। मंगलेश की कविताओं में सामंती बोध एवं पूँजीवादी छल-छद्म दोनों का प्रतिकार है। वे यह प्रतिकार किसी शोर-शराबे के साथ नहीं अपितु प्रतिपक्ष में एक सुन्दर स्वप्न रचकर करते हैं। उनका सौंदर्यबोध सूक्ष्म है और भाषा पारदर्शी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page