June 30, 2022

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

नौकरी लगाने के नाम पर ठगी करने वाला शातिर अभियुक्त गिरफ्तार

1 min read

देहरादून में सेलाकुई स्थित डिक्शन कंपनी में नौकरी दिलाने के नाम पर तीन युवकों से 60 हजार रुपये की ठगी करने के एक आरोपी को पुलिस ने दबोच लिया। दूसरे की तलाश की जा रही है। मामला नेहरू कालोनी पुलिस थाने से संबंधित है। पुलिस ने बताया कि शहजहांपुर उत्तर प्रदेश निवासी मौ. तहजीब खान ने ठगी की रिपोर्ट 26 नवंबर को थाने में दी थी। कहा गया कि उससे फोन से संपर्क एक युवक ने देहरादून में सेलाकुई स्थित डिक्शन कंपनी में नौकरी लगाने का झांसा दिया। फोन करने वाले ने अपना नाम इमरान बताया। इस झांसे में वह आ गया। साथ ही उसने अपने दो अन्य साथियों को भी वहां नौकरी दिलाने को कहा। इस पर फोन करने वाले ने 60 हजार रुपये देने को बुलाया।
आरोप है कि फोन करने वाले व्यक्ति के बताए गए स्थान के अनुसार वह 23 नंवबर को विधानसभा तिराहे के पास पहुंचा। यहां इमरान और उसका साथी मोटरसाइकिल से आए। उन्हें उसने 60 हजार रुपये सौंप दिए। इसके बाद से उनके फोन बंद हैं। इस शिकायत के आधार पर पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज चेक किए और एक युवक को माजरी चौक से गिरफ्तार किया। इसकी पहचान इमरान पुत्र शहाबुद्दीन निवासी ग्राम मरुचा पिपलिया कला जिला लखीमपुर खीरी उत्तर प्रदेश के रूप में हुई। वर्तमान में वह निकट भूसा स्टोर कोटला नवादा थाना नेहरू कॉलोनी देहरादून में रहता था। पुलिस को उसने बताया कि उसका दूसरा साथी मजहर पुत्र खुर्शीद निवासी ग्राम मरुचा थाना पिपलिया कला जिला लखीमपुर खीरी उत्तर प्रदेश है। उसकी तलाश की जा रही है। पुलिस ने इससे ठगे गए रुपयों में से 12 हजार रुपये बरामद कर लिए। साथ ही ठगी में प्रयुक्त मोबाइल फोन व बाइक भी कब्जे में ले ली गई।

इनाम का लालच देकर ठगे तीस हजार
देहरादून के नेहरू कालोनी थाने में ग्राम खाली पोस्ट गागरो तहसील कालसी निवासी विक्रम चंद
ने शिकायत दर्ज कराई कि दिलीप सैनी नाम के व्यक्ति ने विभिन्न मोबाइल नंबर के उसे फोन कर बताया कि एयरटेल कंपनी की तरफ से ईनाम में उसकी एक मोटरसाइकिल निकली है। इसकी कीमत ढाई लाख रुपये है। इसके बाद उसे विश्वास में लेकर ठग ने विभिन्न बैंक के खातों में उससे तीस हजार रुपये डलवा दिए। रकम मांगने पर अब वह धमकी दे रहा है। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page