June 29, 2022

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

उत्तराखंड में 60 सीटें जीतने के साथ पुनः सरकार बनाएगी भाजपा: दुष्यन्त कुमार गौतम

1 min read

उत्तराखंड भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महामंत्री व प्रदेश प्रभारी दुष्यन्त कुमार गौतम ने कहा कि उत्तराखंड विधानसभा चुनाव में भाजपा उत्तराखंड में 60 सीटें जीत कर राज्य में पुनः सरकार बनाकर इतिहास रचेगी। गौतम ने यह बात आज भाजपा प्रदेश कार्यालय पर प्रदेश पदाधिकारियों, राज्य सरकार मंत्रियों, विधायकों व दायित्वधारियों की बैठक को सम्बोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत के सबसे लोकप्रिय प्रधानमंत्री हैं। इसका कारण उनके द्वारा राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर किए जा रहे काम है। इससे पहले आज सुबह उत्तराखंड प्रभारी और सह प्रभारी का देहरादून आगमन पर भव्य स्वागत किया गया।
उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि हमारी पार्टी का निर्माण सत्ता हासिल करने के लिए नहीं हुआ है। हमारी पार्टी का विचार एक देश को सर्वोपरि मानते हुए देश सेवा और समाज सेवा है। यह बात करोना काल में स्पष्ट रूप से दिखाई दी। जब हमारे कार्यकर्ता आम जनता और करोना के बीच में योद्धा के रूप में खड़े रहे। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड सरकार बहुत अच्छा कार्य कर रही है। सभी कार्यकर्ताओं केंद्र व प्रदेश सरकार की उपलब्धियों को जनता तक पहुँचाना है।
इस अवसर पर सह प्रभारी श्रीमती रेखा वर्मा ने भी कार्यकर्ताओं से 2022 के लिए कमर कसने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि हाल में बिहार सहित देश में 11 राज्यों में हुए चुनाव में भाजपा का परचम लहराया। हमें मिलकर उत्तराखंड में भी पुनः विजय प्राप्त करनी है।
अपने स्वागत भाषण में प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने कहा उत्तराखंड भाजपा का प्रत्येक कार्यकर्ता हर वक्त चुनाव के लिए तैयार रहता है। उत्तराखंड में भाजपा 2022 में विकास के नाम पर चुनाव लड़ेगी। भगत ने गौतम व रेखा वर्मा को भरोसा दिलाया है कि 2022 में उत्तराखंड में भाजपा की सरकार उत्तराखंड पुनः सत्ता में आएगी और हम इस भ्रांति को तोड़ देंगे कि प्रदेश में एक बार भाजपा की सरकार और एक बार कांग्रेस की सरकार बनती है। कार्यक्रम का संचालन प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार ने किया।
कार्यक्रम में मंच पर प्रदेश महामंत्री श्री राजेन्द्र भंडारी, राज्यसभा सांसद नरेश बंसल, कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल, राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार डॉ. धन सिंह रावत उपस्थित थे। बैठक में विधायक, प्रदेश पदाधिकारी व दायित्व धारी उपस्थित रहे। इससे पूर्व सभी मंचासीन पदाधिकारियों ने दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। दूसरे सत्र की बैठक में महानगर व जिला देहरादून के पदाधिकारी व जनप्रतिनिधि शामिल हुए। इस परिचयात्मक बैठक में केंद्रीय व प्रदेश नेतृत्व के साथ महानगर अध्यक्ष सीताराम भट्ट व जिला देहरादून अध्यक्ष शमशेर पुंडीर उपस्थित रहे।

इससे पहले सुबह भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री व उत्तराखंड प्रदेश प्रभारी दुष्यंत कुमार गौतम, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व प्रदेश सह प्रभारी रेखा वर्मा देहरादून पहुंचे । दुष्यंत कुमार जौलीग्रांट हवाई अड्डे पर फ्लाइट से पहुंचे, वहीं रेखा वर्मा सड़क मार्ग से कार के जरिये देहरादून पहुंची। दोनों के देहरादून आगमन पर डोईवाला सहित विभिन्न स्थानों पर कार्यकर्तओं ने भव्य स्वागत किया।
भाजपा के दोनों नेता देहरादून में बीजापुर गेस्ट हाउस पहुंचे। यहीं वे रात्रि विश्राम भी करेंगे। आज दोपहर बाद से दोनों प्रदेश पदाधिकारी, दायित्वधारी, जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक की। रात्रि विश्राम बीजापुर गेस्ट हाउस में होगा। कल सुबह 11 बजे से दोपहर एक बजे तक राष्ट्रीय अध्यक्ष के आगमन को लेकर वे प्रदेश पदाधिकारियों के साथ बैठक करेंगे। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा का पांच से 7 दिसंबर तक उत्तराखंड में दौरा है।

किया गया दोनों नेताओं का स्वागत
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी कार्यकर्ताओं ने प्रदेश प्रभारी का फूल मालाओं और जोरदार नारेबाजी के बीच भव्य स्वागत किया गया। स्वागत करने वालों में प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार, प्रदेश महामंत्री राजेंद्र भंडारी, जिलाध्यक्ष शमशेर सिंह पुंडीर जी, सुनील उनियाल गामा आदि शामिल थे। वहीं दूसरी ओर प्रदेश सह प्रभारी रेखा वर्मा का डोईवाला में भानियावला तिराहे पर प्रदेश महामंत्री राजेंद्र भंडारी जी. जिला अध्यक्ष श्री शमशेर सिंह पुंडीर जी के नेतृत्व में जिला देहरादून के कार्यकर्ताओं ने भव्य स्वागत किया।


मास्क को लेकर नहीं दिखे गंभीर
यहां भी भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत के साथ ही कई नेता कोरोना के नियम के प्रति गंभीर नहीं दिखे। इनके नाक व मुंह से मास्क गायब था। ऐसा क्यों करते हैं, ये तो वे ही बता सकते हैं। फोटो खिंचवाने के लिए यदि ऐसा करते हैं तो प्रदेश प्रभारी ने तो मास्क सही तरीके से पहना है। कोरोनाकाल में यदि केंद्र व प्रदेश सरकार चलाने वाली पार्टी नेता ही खुद नियम तोड़ेंगे तो आमजन से नियमों की अपेक्षा करना बेमानी होगा। इस सवाल का जवाब भी शायद इस दल के नेताओं के पास होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page