July 2, 2022

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

पढ़िए जनकवि डॉ. अतुल शर्मा की कविता-जहां रहता हूं

1 min read

जहां रहता हूं

आसपास जो खेत है
उनमे फसलों का उगना
निरंतर उगते रहने को कह रहा है

जहां मै रह रहा हूं
वहां के कूंए
पानीदार होने को कह रहे है

जहां रह रहा हूं
वहां पर एक डेरी है
सुबह से शाम तक होने वाले काम
परिश्रम का संदेश दे रहे हैं

जहां रह रहा हूं
वहां पर बहुत सी कहानियां है
और सामने से दिखते शिवालाक के पहाड़
पेंटिग की तरह उपस्थित हैं

सूरज के साथ और उससे भी पहले शुरु हो जाती है दिनचर्या

अभी कुछ दिनो पहले
छियानबे बरस की बूढी दादी
आई है
बिना चश्मे के सिल रही है अपने कपडे
सब कुछ अपने आप करने को कहती हूई

यहां की बहती नहर
समय की तरह बह रही है

जहां मै रह रहा हूं
वहां जो और भी बहुत रह रहा है
वह मेरे भीतर
रक्तशिराओं मे बह रहा है

जहां मै रह रहा हूं
वहां कभी चाय के बागान थे
समय के साथ
गायब हो गये

यहीं रहते हूए
एक लोक कथा मे रहने का अहसान लिए
लिख रहा हूं किताबे
जो जमीन से जुड़ी हैं

जमीन
जहां मै रह रहा हूं
किराये पर ।

कवि का परिचय
डॉ. अतुल शर्मा (जनकवि)
बंजारावाला देहरादून, उत्तराखंड
डॉ. अतुल शर्मा उत्तराखंड के जाने माने जनकवि एवं लेखक हैं। उनकी कई कविता संग्रह, उपन्यास प्रकाशित हो चुके हैं। उनके जनगीत उत्तराखंड आंदोलन के दौरान आंदोलनकारियों की जुबां पर रहते थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page