July 1, 2022

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

एम्स में वर्ल्ड एंटी माइक्रोबेल एवेयरनेस वीकः विशेषज्ञ चिकित्सकों ने एंटीबायोटिक दवाओं के नुकसान से किया आगाह

1 min read

अ​खिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में वर्ल्ड एंटीमाइक्रोबेल एवेयरनैस वीक के अंतर्गत आयोजित कार्यक्रम में विभिन्न विभागों के विशेषज्ञ चिकित्सकों ने व्याख्यान प्रस्तुत किए। वक्ताओं ने बिना विशेषज्ञ चिकित्सकों के परामर्श के एंटीबायोटिक दवाओं के उपयोग से होने वाले नुकसान को लेकर लोगों को जागरुक किया। कार्यक्रम में एम्स के विभिन्न विभागों के फैकल्टी, चिकित्सक, नर्सिंग ऑफिसर्स व कर्मचारी हिस्सा ले रहे हैं। निदेशक एम्स पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत की देखरेख में आयोजित सप्ताहव्यापी जनजागरुकता कार्यक्रम के दूसरे दिन बृहस्पतिवार को संस्थान की बाल चिकित्सा सर्जरी विभाग की प्रमुख प्रो. बी. सत्याश्री ने अपने अनुभव साझा किए। उन्होंने बताया कि बच्चों में किसी भी दवाई या एंटीबायोटिक को देने में सतर्कता बरतना कितना जरूरी है। उनका कहना है कि वह अपने विभाग में हर वह कोशिश करती हैं, जिससे बच्चों की देखभाल में कोई कमी नहीं रहे और कोई भी दवाई या एंटीबायोटिक देने से पहले कल्चर या सेंसटिविटी टेस्ट कराते हैं।
बगैर चिकित्सक की सलाह के न दें एंटीबायोटिक्स
उन्होंने बताया कि आजकल यह भी देखा जा रहा है कि घर पर यदि कोई बच्चा बीमार हो जाता है, तो उसके परिवार वाले बाहर से ही किसी केमिस्ट से उसे दवाई दे देते हैं या एंटीबायोटिक के इंजेक्शन भी लेते हैं। जो कि बहुत गलत है। ऐसे में हमारा कर्तव्य बनता है कि हम इस प्रथा को खत्म करने के लिए आगे आएं और सभी को इस बारे में जागरूक करें कि एंटीबायोटिक का बिना डाक्टर की प्रिसक्रिप्शन के उपयोग करना कितना हानिकारक साबित हो सकता है।

जानलेवा हो सकते हैं एंटीबायोटिक्स
सर्जिकल गैस्ट्रोएंटरोलॉजी विभाग के प्रोफेसर एंड हेड डॉ. पुनीत धर ने भी एंटीमाइक्रोबॉयल के सही इस्तेमाल करने एवं इन दवाओं का दुरुपयोग नहीं करने पर जोर दिया। उनका कहना है कि एंटीबायोटिक्स का सही से इस्तेमाल नहीं हो पा रहा है और आज यह स्थिति पहुंच गई है कि यह जानलेवा भी हो सकते हैं। जिसका कारण एंटीमाइक्रोबॉयल रेजिस्टेंस है। लिहाजा उन्होंने आग्रह करते हुए कहा कि एंटीमाइक्रोबियल्स या एंटीबायोटिक का इस्तेमाल बिना प्रिसक्रिप्शन के नहीं किया जाना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि एंटीबायोटिक्स के सही इस्तेमाल के लिए सही नीतियों का होना भी बहुत जरूरी है। जैसे एंटीमाइक्रोबियल्स स्टीवार्डशिप के अंतर्गत हम सही नीति बनाकर सबके साथ साझा कर उसे इस्तेमाल में ला सकते हैं।
मल्टीड्रग प्रतिरोधी बैक्टीरिया की दी जानकारी

प्रसूति एवं स्त्री रोग विभागाध्यक्ष प्रोफेसर जया चतुर्वेदी ने मल्टीड्रग प्रतिरोधी बैक्टीरिया के विषय में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि अगर हम हर छोटी बीमारी जुकाम, खांसी होने पर भी एंटीबायोटिक लेंगे, तो यह हमारे शरीर में रजिस्टेंस पैदा कर सकते हैं और यह बैक्टीरिया आगे चलकर बीमारी फैलाने का कारण बन सकता है। लिहाजा इसके लिए यह जानना बहुत जरूरी है कि हम दवाई का सही समय, सही अवधि तक उसका इस्तेमाल करें। उन्होंने अनुरोध किया है कि इसके सही इस्तेमाल के लिए सही व्यवस्था और ऑडिट करना जरूरी है। ताकि इनके इस्तेमाल पर नजर रखी जा सके और इससे एंटीबायोटिक दवाओं का दुरुपयोग रोका जा सके।
साझा किए सर्जरी के अनुभव
संस्थान के सामान्य सर्जरी विभागाध्यक्ष प्रो. डा. सोम प्रकाश बासु ने सर्जरी विषय पर अनुभव साझा किए। उन्होंने बताया कि ऑपरेशन के बाद मरीज के लिए एंटीबायोटिक का इस्तेमाल कितना जरूरी है। उनका कहना है कि जरूरत से ज्यादा और आवश्यकता से कम एंटीबायोटिक दवाओं का इस्तेमाल मरीज के लिए कितना हानिकारक हो सकता है, जिसे समय पर समझना बहुत जरूरी है। डा. बासु के अनुसार बिना चिकित्सक की सलाह के इन एंटीबायोटिक्स का इस्तेमाल किया जाना बंद होना चाहिए और इसके लिए कड़ी नीतियों का बनना उतना ही आवश्यक है।

आंखों के लिए न लें एंटीबायोटिक्स

नेत्र विभागाध्यक्ष प्रो. संजीव कुमार मित्तल ने बताया कि अमूमन देखा गया है कि आंखों के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले एंटीबायोटिक का उपयोग सही तरीके से नहीं किया जाता है। लोग स्वयं ही केमिस्ट के पास जाकर कोई भी एंटीबायोटिक आंखों के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि कुछ एंटीबायोटिक जो आंखों के ऑपरेशन के बाद इस्तेमाल किए जाते हैं, उनमें कुछ मात्रा में स्टेरॉयड भी मौजूद होते हैं। इनका एक साथ इस्तेमाल होना हानिकारक हो सकता है। ऐसे में यदि इसे सही अवधि तक नहीं लिया जाए। लिहाजा इनका इस्तेमाल अलग-अलग होना चाहिए और कोई भी एंटीबायोटिक को धीरे-धीरे नहीं, बल्कि डॉक्टर द्वारा निर्धारित अवधि खत्म होने पर बंद कर देना चाहिए।

वर्ल्ड क्वालिटी डे पर विभिन्न कार्यक्रम
अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में वर्ल्ड क्वालिटी डे पर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए गए। इस दौरान गुणवत्ता के साथ बेहतर कार्य करने वालों को संस्थान की ओर से पुरस्कृत भी किया गया।
उल्लेखनीय है कि हरवर्ष नवंबर माह के दूसरे बृहस्पतिवार को वर्ल्ड क्वालिटी डे मनाया जाता है। इस वर्ष ‘क्रिएटिंग कस्टमर वैल्यू’ थीम पर वर्ल्ड क्वालिटी डे का आयोजन किया गया। इस अवसर पर एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने कहा कि अस्पताल अथवा किसी भी अन्य तरह के संस्थान की उन्नति तभी संभव है, जब वहां उत्पादों और अन्य सभी उपलब्ध सेवाओं, कार्यों में पूर्ण गुणवत्ता होगी। निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने कहा कि स्वास्थ्य से जुड़ी सेवाओं में बेहतर से बेहतर गुणवत्ता का खयाल रखा जाना बेहद जरूरी है।
कार्यक्रम में डीन एकेडेमिक प्रोफेसर मनोज गुप्ता ने कहा कि इस आयोजन का मुख्य उद्देश्य लोगों में गुणवत्ता के प्रति जागरुकता पैदा करना है, उन्होंने प्रगति के लिए गुणवत्ता को महत्वपूर्ण बताया।
डीन हॉस्पिटल अफेयर प्रो. यूबी मिश्रा ने कहा कि ग्लोबल क्वालिटी माह वर्ष 1960 से मनाया जा रहा है। द्वितीय विश्व युद्ध के बाद पूरी तरह टूट चुके जापान ने जिस तरह स्वयं को विश्व के सामने फिर से मजबूत स्थिति में ला खड़ा किया है, उसके पीछे भी गुणवत्ता का मूलमंत्र छिपा है।
वर्ल्ड क्वालिटी डे पर पोस्टर प्रतियोगिता का आयोजन भी किया गया। जिसके माध्यम से बेहतर जागरुकता संदेश देने वाले प्रतिभागियों को सम्मानित किया गया। इसके साथ ही कार्यों में बेहतर गुणवत्ता बनाए रखने के लिए विभिन्न विभागों, टीमों, चिकित्सकों और नर्सिंग स्टाफ को भी सम्मानित किया गया। इस अवसर पर मेडिकल सुपरिटेंडेंट प्रोफेसर ब्रिजेन्द्र सिंह, डीएमएस डा. अनुभा अग्रवाल, डा. पूजा भदौरिया आदि मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page