July 4, 2022

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

महिला से दुष्कर्म मामले में भाजपा विधायक के खिलाफ मुकदमा पौड़ी महिला थाने में ट्रांसफर

1 min read

उत्तराखंड के अल्मोड़ा में द्वारहाट विधानसभा से महेश नेगी पर महिला से लगे दुष्कर्म के आरोपों के मामले ने नया मोड़ ले लिया है। इस मामले में आईजी अभिनव कुमार ने देहरादून में दर्ज दोनों मुकदमों को पौड़ी महिला थाना ट्रांसफर करने के आदेश दिए हैं। साथ ही आइजी ने सोमवार को कोर्ट में दाखिल की गई चार्जशीट को भी रिकॉल करने के आदेश दिए गए हैं। 
गत 13 अगस्त को विधायक महेश नेगी की पत्नी ने महिला पर ब्लैकमेलिंग का मुकदमा दर्ज कराया था। इसके बाद कोर्ट के आदेश से विधायक के खिलाफ दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज हुआ था। द्वाराहाट विधायक महेश नेगी पर यौन शोषण का आरोप लगाने वाली महिला के खिलाफ सोमवार को पुलिस ने ब्लैकमेलिंग की धाराओं में चार्जशीट दाखिल की थी। विधायक की पत्नी ने महिला पर ब्लैकमेलिंग का आरोप लगाया था। जांच अधिकारी व सीओ सदर अनुज कुमार ने चार्जशीट दाखिल करने की पुष्टि की है। 
महेश नेगी की पत्नी ने एक महिला पर ब्लैकमेलिंग का आरोप लगाते हुए थाना नेहरू कॉलोनी में मुकदमा दर्ज कराया था। इस पर महिला ने भी भाजपा विधायक पर दुष्कर्म का आरोप लगाया था। उसका आरोप था कि दो साल से उसके साथ दुष्कर्म किया जा रहा है और विधायक और उनकी एक बेटी भी है। वह विधायक और बेटी का डीएनए टेस्ट कराने की मांग कर रही थी। बाद में कोर्ट के आदेश पर विधायक के खिलाफ दुष्कर्म का मामला दर्ज किया गया।
विधायक की पत्नी की ओर से लगाए गए ब्लैकमेलिंग के आरोपों की जांच में पर्याप्त साक्ष्य मिलने पर सोमवार को पुलिस ने महिला के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दी। महिला पर आईपीसी की धारा 386, 389 के तहत चार्जशीट दाखिल की गई है।
एसएसपी पौड़ी बोले, जल्द होगी कार्रवाई
द्वाराहाट विधायक महेश नेगी प्रकरण की जांच अब पौड़ी पुलिस करेगी। आइजी गढ़वाल अभिनव कुमार ने इस संबंध में एसएसपी पौड़ी को पत्र भेजा है, जिसमें मामले की जांच महिला थानाध्यक्ष श्रीनगर को सौंपने के निर्देश दिए हैं। साथ ही एसएसपी देहरादून को मामले से संबंधित समस्त दस्तावेज पौड़ी पुलिस को सौंपने के निर्देश दिए हैं। एसएसपी पौड़ी का कहना है कि उन्हें इस आदेश की जानकारी है। जल्द ही कार्रवाई की जाएगी।
वहीं, विधायक की पत्नी रीता के खिलाफ भी धमकाने और अन्य गंभीर धाराओं में नेहरू कॉलोनी थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया था। आइजी गढ़वाल अभिनव ने कहा कि दोनों मामलों की जांच पौड़ी महिला थाना स्तर से की जाएगी।
महिला ने लगाए थे दुष्कर्म के आरोप, पुलिस टहलाती रही, कोर्ट के आदेश पर दर्ज हुआ था मुकदमा
इस मामले में सबसे पहले महिला ने विधायक पर दुष्कर्म के आरोप लगाए थे। इस मामले में पुलिस महिला को टहलाती रही। यही नहीं, विधायक की पत्नी ने महिला के खिलाफ ब्लैकमैलिंग का मुकदमा दर्ज करा दिया था। तभी भी महिला की शिकायत को लेकर जांच के नाम पर उल्टे उसे ही टहलाया जाता है। महिला ने जब न्यायालय की शरण ली तब जाकर उसकी शिकायत पर विधायक के खिलाफ भी रिपोर्ट दर्ज की गई। इस मामले में जांच कर रही पुलिस ने जब कई होटलों में जाकर रजिस्टर चेक किए तो विधायक के साथ ही आरोप लगाने वाली महिला के नाम भी दर्ज मिले। इससे इस बात की पुष्टि भी हो चुकी है कि महिला विधायक के साथ कई बार होटलों में भी रही। इस मामले में महिला आयोग की जांच भी दुष्कर्म की बजाय डीएनए टेस्ट की वैधता और ब्लैकमेलिंग पर ज्यादा फोकस रही थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page