June 30, 2022

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

उत्तरकाशी नगर के कचरा प्रबंधन को नहीं मिल रहा सरकार का सहयोग, अब करेंगे आंदोलन

1 min read

उत्तराखंड के उत्तरकाशी में बड़ाहाट नगर पालिका अध्यक्ष रमेश सेमवाल ने सरकार पर उत्तरकाशी के कचरा प्रबंधन के लिए कोई सहयोग न करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि सरकार के प्रत्येक व्यक्ति से नगर पालिका बड़ाहाट की समस्या के निराकरण को लेकर बात की गई, लेकिन किसी ने भी इस समस्या पर गौर नहीं किया। इससे मां गंगा की तलहटी पर बसा उत्तरकाशी में पिछले कई सालों से कचरा प्रबंधन नहीं हो रहा है। डबल इंजन की सरकार का इंजन भी यहां फेल हो रहा है और समस्या बढ़ती जा रही है। ऐसे में अब इस समस्या के समाधान के लिए एकमात्र विकल्प आंदोलन ही बचा है।
पत्रकार बार्ता के दौरान नगर पालिका अध्यक्ष ने कहा कि सरकार के मंत्री हो या सचिव, सभी के समक्ष कूड़े की समस्या के समाधान के लिए गुहार लगाई जा चुकी है। सभी ने आश्वासन तो नगर पालिका को खूब दिए गए, लेकिन कार्रवाई के नाम पर ठेंगा दिखा दिया। उन्होंने कहा कि उत्तरकाशी का आजाद मैदान सेउत्तरकाशी की परंपरा व संस्कृति जुड़ी हुई है। उत्तरकाशी का मुख्य माघ मेला हो या बहुचर्चित रामलीला या फिर खेल संबंधित युवाओं की गतिविधियों का आयोजन। इसी आजाद मैदान से किया जाता है। इन दिनों यह मैदान गाड़ियों की पार्किंग का अड्डा बना हुआ है। ऐसे में उत्तरकाशी की संस्कृति से जुडे हुए इस मैदान का सुव्यवस्थित किया जाना अति आवश्यक है।
उन्होंने कहा कि अधिकारी भी इस मैदान पर अपनी टांग अड़ाते हुए देखे जाते हैं। एक तरफ कूड़े की समस्या है तो दूसरी ओर पार्किंग की समस्या से नगरपालिका पिछले दो साल से जूझ रही है। सरकार के नुमाइंदे इस ओर कोई ध्यान दे रहे हैं। ऐसे में उत्तरकाशी की जनता का सरकार की अनदेखी के कारण व्यवस्थाओ के अभाव से जूझना पड़ता है।
उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार नमामि गंगे परियोजना से करोड़ों के बजट ठिकाने लगा रही है। यदि उत्तरकाशी जो गंगा के मुहाने पर बसा हुआ है और वही से गंगा शुद्ध नही है तो प्रयागराज तक गंगा नदी कैसे शुद्ध होसकती है। उन्होंने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि यदि सरकार नगरपालिका के इन दोनों ज्वलंत समस्याओं को लेकर कोई ठोस कार्यवाही नही करती है, तो वह दिसंबर माह के बाद जनता के सहयोग से आंदोलन पर करेंगे। इस आंदोलन की पूर्ण जिम्मेदारी जिला प्रशासन व सरकार की होगी।
उत्तरकाशी से हरदेव पंवार की रिपोर्ट।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page